Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

बांस की खेती कैसे करें | राष्ट्रीय बांस मिशन के तहत 50% की सब्सिडी कैसे प्राप्त करें

सरकार द्वारा किसान भाइयों को बांस की खेती (Bamboo Cultivating) करने पर राष्ट्रीय बांस मिशन के तहत 50 हजार रुपये की सब्सिडी दी जा रही है। किसानों को सब्सिडी देने का सरकार का मुख्य उद्देश्य है कि बांस की फसल के उत्पादन को बढ़ाना। राष्ट्रीय बांस मिशन के तहत किसान भाई सब्सिडी प्राप्त करें। बांस की खेती करके अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं। योजना मध्य प्रदेश चल रहा है।

बांस की खेती कैसे करें(How to cultivate bamboo)

बांस की खेती किसी भी प्रकार की मिट्टी में कर सकते हैं। अगर बलुई या दोमट मिट्‌टी है तो वह सबसे अच्छी मिट्टी बासं के लिए मानी जाती है। बांस की खेती के लिए मिट्टी का पीएच मान लगभग 6 से 7 होना चाहिए। बांस की खेती की नर्सरी मार्च महीने में तैयार की जाती है। बारिश की सीजन जुलाई में रोपाई की जाती है। एक हेक्टेयर खेत में लगभग 1500 पेड़ लगा सकते हैं। पौधे की दूरी ढाई मीटर तथा पंक्ति से पंक्ति की दूरी लगभग 3 मीटर रखनी चाहिए। खेती करने से पहले आपको बांस की उन्नत किस्म का चयन करना चाहिए। बांस की खेती लगभग 3 से 4 मे तैयार हो जाती है।

बांस की खेती के लिए उन्नत किस्में (Varieties for Bamboo Cultivation)

भारत देश मे बांस की लगभग कुल 136 किस्में पाई जाती हैं। जिसमें बांस की सबसे लोकप्रिय किस्म नीचे दी गई है।

  • मेलोकाना बेक्किफेरा
  • डेंड्रोकैलेमस स्ट्रीक्स
  • बम्बूसा पॉलीमोरफा
  • बम्बूसा ऑरनदिनेसी
  • किमोन बम्बूसा फलकेटा
  • डेंड्रोकैलेमस हैमिलटन

बांस से बनने वाली वस्तुएँ

बाजार में बांस की कीमत हमेशा बनी रहती है। क्योंकि इससे कई प्रकार की वस्तुएं बनाई जाती है। जैसे- टेबल, कुर्सी, चारपाई, सजावट की वस्तुएं आदि। इसके अलावा बांस का उपयोग मछली पकड़ने में, मकान बनाने में, खेत के औजार मे भी इसका उपयोग किया जाता है। बांस का उपयोग बांसुरी, वायलिन जैसे यंत्र बनाने में भी उपयोग किया जाता है। कई राज्यों में बांस के प्ररोह से हजारों मुरब्बा भी बनाया जाता है

इसे भी पढ़े 

बांस की खेती करने वाले प्रमुख राज्य (Bamboo Cultivating States

बांस की खेती सबसे अधिक मिजोरम, मेघालय और मणिपुर में होती है। इसके अलावा भारत के अन्य राज्यों में भी इसकी खेती होती है। जैसे- मध्य प्रदेश, असम, महाराष्ट्र, कर्नाटक, त्रिपुरा, नागालैंड तथा उत्तर प्रदेश भी शामिल है

बांस की खेती के लिए उपयुक्त जमीन (Land suitable for bamboo cultivation)

बांस की खेती करने के लिए किसी भी उपजाऊ जमीन की आवश्यकता नहीं होती है। आप बंजर भूमी या बिना उपयोग वाली जमीन पर भी कर सकते है। इसकी खेती करके किसान भाई अच्छा पैसा कमा सकते हैं। कई किसान भाई अपने खेत के चारों तरफ बांस लगा कर भी इसकी खेती करते है। इस फसल में किसी प्रकार के रोग लगने का डक नही रहता है। ना ज्यादा खाद और उर्वरक की जरूरत होती है।

राष्ट्रीय बांस मिशन के तहत कितनी सब्सिडी मिलेगी

बांस की खेती करने के लिए किसान भाइयों को राष्ट्रीय बांस मिशन के तहत 50 हजारा रुपये तक की सब्सिडी दी जा रही हैं। अगर बाजार में बांस के पौधे की कीमत की बात की जाए तो एक पौधा 240 रुपये का पड़ती है। इसमें छोटे किसान भाइयों को सरकार 120 रुपये की सब्सिडी देने का प्रावधान रखा है। याद किसान भाई 1500 बांस के पौधे का रोपण करते हैं। तो उन्हें करीब लगभग 1 लाख 80 हजार रुपये की सब्सिडी बांस की खेती करने के लिए मिल सकती है।

बांस की खेती से लाभ (Benefits of bamboo farming

  • बांस की खेती करने से कई प्रकार के फायदे होते हैं। ना केवल किसान भाइयों को, बांस की खेती से पर्यावरण को भी काफी फायदा होता है
  • वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड को सोखता है और प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया तेजी से करता है
  • बांस के अंदर 5 गुना कार्बन डाइऑक्साइड घोषित करने की क्षमता होती है जो हमारे पर्यावरण के लिए काफी अच्छा संकेत माना जाता है।
  • बांस की खेती करने से ग्लोबल वार्मिंग प्रभाव को कम किया जा सकता है
  • बांस की खेती के द्वारा मिट्टी के कटाव को भी रोक सकते हैं
  • एक बार बांस की खेती करने के बाद किसान लगभग 40 साल तक इससे मुनाफा कमा सकते हैं।

बांस की खेती में लागत और कमाई

बांस की खेती करने के लिए 1 एकड़ में 3 लाख 60 हजार रुपये का खर्च आता है। इसमें सरकार द्वारा 50% की सब्सिडी दी जा रही है। मतलब आपको 1 लाख 80 हजार रुपये सब्सिडी के द्वारा मिल सकती है। उसके बाद बाकी बची धनराशि आपको अपने पास से लगानी होगी। अगर इसके मुनाफे की बात करे तो एक हेक्टेयर में कम से कम 25 से 30 टन तक बांस निकल सकता है। अगर बाजार में इसकी कीमत की बात किया जाए तो प्रति टन 2,500 से लेकर 3000 रुपए मिलता है। एक हैक्टेयर मे किसान भाई कम से कम 7 से 8 लाख रुपए की कमाई कर सकते हैँ।

बांस की खेती के लिए सब्सिडी प्राप्त करने के लिए संपर्क सूत्र

भारत सरकार द्वारा बांस मिशन योजना के तहत किसानों को खेती करने के लिए बढ़ावा दिया जा रहा है। बांस की खेती पर सब्सिडी प्राप्त करने के लिए आप अपने जिले के कृषि विभाग कार्यालय से संपर्क कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए ऑफिशियल वेबसाइट https://nbm.nic.in/ पर भी जा कर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

FAQ :

Q : भारत मे बांस की किमत कितनी है?

Ans : भारत मे बांस की किमत लगभग 4 से 5 रुपये प्रति किलो के हिसाब से बाजार मे बिकता है।

Q : बांस का पौधा कितने दिन मे तैयार हो जाता है?

Ans : बांस की खेती लगभग 3 से 4 मे तैयार हो जाती है।

Q : बांस की खेती कब करें?

Ans : बांस की खेती की नर्सरी मार्च महीने में तैयार की चाहिए और बारिश के सीजन जुलाई में रोपाई कर देनी चाहिए।

Q : राष्ट्रीय बांस मिशन योजना का मुख्य लक्ष्य क्या है?

Ans : भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय बांस मिशन योजना के तहत किसानों को बांस खेती करने के लिए सब्सिडी दिया जा रहा है। जिससे ज्यादा से ज्यादा किसान बांस कि खेती करके मुनाफा कमा सके।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !