Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

Chana Ki Best Variety : चने की बेस्ट उन्नत किस्म की बुआई करें बंम्पर उत्पादन पाये

Chana Ki Best Variety : चने की बेस्ट उन्नत किस्म की बुआई करें बंम्पर उत्पादन पाये – इस वर्ष ख़रीफ़ की बुआई का मौसम पूरे जोरों पर है, किसान रवि सीज़न की फसल लगाने की तैयारी कर रहे हैं। हालांकि, सितंबर में भारी बारिश के कारण कई किसान रवि फसल की बुआई नहीं कर पा रहे हैं. यह चने की खेती के लिए एक अनूठा अवसर प्रस्तुत करता है, क्योंकि यह उचित सिंचाई सुविधाओं की कमी वाले क्षेत्रों के लिए उपयुक्त है।

चने की जल्दी बुआई करें

चने की खेती करने वाले किसान अक्सर जल्दी बुआई का विकल्प चुनते हैं, मुख्यतः क्योंकि चने की फसलें ठंड के मौसम के प्रति अधिक प्रतिरोधी होती हैं। केवल 2 से 4 सिंचाई से चने की फसल अच्छी हो सकती है और अच्छे परिणाम दे सकती है।

चने की सर्वोत्तम किस्म (Chana Ki Best Variety)

चना पहले विक्रांत

चने की खेती में नवीनतम प्रगति में से एक महात्मा फुले कृषि विश्वविद्यालय, शहरी द्वारा चना पहले विक्रांत किस्म की शुरूआत है। यह किस्म, हालांकि पहले विजय विशाल और विधि जय के नाम से जानी जाती थी, बदलती पर्यावरणीय परिस्थितियों के अनुरूप अद्वितीय विशेषताएं प्रदान करती है। विशेष रूप से, यह बीमारियों और कीटों के प्रति उल्लेखनीय प्रतिरोध प्रदर्शित करता है, जिससे स्वस्थ फसल सुनिश्चित होती है।

Chana Ki Best Variety की बुआई कब करें

चने की इस नई किस्म का अधिकतम लाभ उठाने के लिए, केंद्रीय और शहरी क्षेत्रों के किसानों को सलाह दी जाती है कि वे 20 अक्टूबर से शुरू होने वाली रवि सीजन की बुआई के लिए 30 किलोग्राम प्रति एकड़ बीज दर का उपयोग करें। इसके अतिरिक्त, इस किस्म को केवल एक या दो सिंचाई की आवश्यकता होती है, जिससे अच्छी उपज सुनिश्चित होती है।

कम पानी मे अधिक पैदावार

चने की यह किस्म पानी की कमी वाले क्षेत्रों के लिए गेम-चेंजर है। यह पानी की कमी वाले क्षेत्रों में भी अच्छे उत्पादन की गारंटी देता है, जिससे यह सिंचाई चुनौतियों का सामना करने वाले किसानों के लिए एक आदर्श विकल्प बन जाता है। इस किस्म के दाने पीले-भूरे रंग के होते हैं तथा इसमें मध्य एवं बट रोगों के प्रति प्रतिरोधक क्षमता होती है। व्यावहारिक परिस्थितियों में किसान 42 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक उत्पादन क्षमता हासिल कर सकते हैं।

चना पहले विक्रांत की विशेषताएं

चना फर्स्ट विक्रांत किस्म कीटों और रोगों के प्रति अपनी प्रतिरोधक क्षमता के कारण सबसे अलग है। इसकी कटाई का समय कम होता है, आमतौर पर 110 से 115 दिनों के बीच, और फूल 40 से 45 दिनों के भीतर शुरू हो जाते हैं। अनुशंसित बीज दर 50 किलोग्राम प्रति एकड़ है, जो इसे 20 अक्टूबर से 10 नवंबर के बीच रोपण के लिए उपयुक्त बनाता है, जिससे केवल 115 दिनों में फसल पक जाएगी।

चने का राजा चना विशाल

चना विशाल अपने बड़े, आकर्षक दानों के लिए प्रसिद्ध है, जो इसे चने की किस्मों का राजा बनाता है। इसमें चौड़ी हरी पत्तियाँ, मध्यम ऊंचाई और 35 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक की प्रभावशाली उत्पादन क्षमता है। अनाज उच्च गुणवत्ता का होता है, जिससे 300 से 400 प्रति क्विंटल उपज होती है। इस किस्म की बाजार में ऊंची कीमतें हैं और उपभोक्ताओं के बीच इसकी काफी मांग है।

चना फुले जी 08108 एक अंतर्राष्ट्रीय स्तर की किस्म

चना फुले जी 08108 महात्मा फुले कृषि विद्यापीठ राहुरी द्वारा विकसित एक उल्लेखनीय चना किस्म है। जुलाई 2027 में रिलीज़ हुई, इसने अपनी असाधारण गुणवत्ता और उपज क्षमता के लिए अंतर्राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त की है। इस किस्म की कटाई मशीनरी का उपयोग करके या मैन्युअल रूप से की जा सकती है, जिससे किसानों को लचीलापन और सुविधा मिलती है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) क्या चने की खेती के लिए जल्दी बुआई आवश्यक है?

Ans:- चने की खेती के लिए जल्दी बुआई की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे फसल को ठंड के मौसम का सामना करने में मदद मिलती है और पैदावार बेहतर होती है।

2.) मैं चना पहले विक्रांत की उपज कैसे अधिकतम कर सकता हूँ?

Ans:- अधिकतम उपज के लिए, प्रति एकड़ 50 किलोग्राम की अनुशंसित बीज दर का पालन करें और 20 अक्टूबर से 10 नवंबर के बीच बुआई करें।

3.) चना फुले जी 08108 की मुख्य विशेषताएं क्या हैं?

Ans:- चना फुले जी 08108 एक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त चने की किस्म है जो अपनी असाधारण गुणवत्ता और उपज क्षमता के लिए जानी जाती है।

4.) क्या चना फुले जी 08108 की कटाई मशीनरी से की जा सकती है?

Ans:- हां, चना फुले जी 08108 की कटाई मैन्युअल रूप से या मशीनरी से की जा सकती है, जिससे किसानों को लचीलापन मिलता है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !