Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

अगेती चने की खेती इस प्रकार से करने पर, इतनी पैदावार देगा की रखने की जगह कम पड़ जायेगी

अगेती चने की खेती इस प्रकार से करने पर, इतनी पैदावार देगा की रखने की जगह कम पड़ जायेगी- चना एक अत्यधिक पौष्टिक दलहनी फसल है जो भारतीय व्यंजनों में एक विशेष स्थान रखती है। यदि आप चने की खेती करने और अपनी उपज को अधिकतम करने में रुचि रखते हैं, तो आप सही जगह पर आए हैं। हम आपको चने की खेती के प्रमुख पहलुओं के बारे में बताएंगे, जिसमें सही किस्मों के चयन से लेकर फसल के बाद की देखभाल तक शामिल हैं। आपके पास चने की सफलतापूर्वक खेती करने और भरपूर फसल का लाभ प्राप्त करने के लिए आवश्यक ज्ञान होगा।

उपयुक्त मिट्टी, जलवायु और तापमान का चयन करना

मिट्टी की आवश्यकताएँ

चने की सफल खेती की नींव सही मिट्टी से शुरू होती है। चना अच्छे जल निकास वाली मिट्टी में पनपता है और दोमट मिट्टी आदर्श मानी जाती है। सर्वोत्तम परिणामों के लिए सुनिश्चित करें कि आपकी मिट्टी का पीएच स्तर 6 से 7.5 के बीच रहे।

जलवायु संबंधी विचार

चने के पौधे ठंडी जलवायु को पसंद करने के लिए जाने जाते हैं। हालाँकि, चिलचिलाती गर्मी के महीनों के दौरान, उन्हें अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता होती है। इसलिए, यदि आप चने की खेती करने की योजना बना रहे हैं, तो मौसम की स्थिति पर कड़ी नजर रखें और गर्मी के दौरान आवश्यक सुरक्षा और पानी देने के लिए तैयार रहें।

उन्नत किस्मों की खोज

मूल चना

चने की मूल किस्म आकार में अपेक्षाकृत छोटी होती है और आमतौर पर इसका उपयोग दालों और बेसन के उत्पादन के लिए किया जाता है। अपनी बहुमुखी प्रतिभा के कारण यह कई भारतीय घरों में मुख्य भोजन है।

काबुली चना

दूसरी ओर, काबुली चने का आकार बड़ा होता है और इसे मुख्य रूप से व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए उगाया जाता है। इसके बड़े बीज इसे सलाद और स्नैक्स सहित विभिन्न पाक अनुप्रयोगों के लिए पसंदीदा बनाते हैं।

चना खेत तैयार करना

मृदा संवर्धन

आपके खेत की शुरुआती जुताई के बाद, प्रति हेक्टेयर 10-12 गाड़ी पुरानी गोबर की खाद डालने की सलाह दी जाती है। यह कदम मिट्टी को समृद्ध करने और बढ़ते चने के पौधों के लिए आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करने के लिए महत्वपूर्ण है।

अच्छी तरह जुताई

चने की उचित खेती के लिए मिट्टी को अच्छी तरह मिलाना बहुत जरूरी है। सुनिश्चित करें कि आपकी फसलों के लिए अनुकूल वातावरण बनाने के लिए मिट्टी समान रूप से मिश्रित है।

जलजमाव को रोकना

हर कीमत पर जलभराव से बचें, खासकर सिंचाई के बाद। आपके खेतों में पानी जमा होने से रोकने के लिए उचित जुताई और जल निकासी आवश्यक है।

जैविक खाद

चने के पौधों की जड़ों पर गांठें होती हैं जो मिट्टी से नाइट्रोजन को स्थिर कर सकती हैं। जैविक उर्वरकों का उपयोग इस प्राकृतिक प्रक्रिया को पूरा करता है और पौधों के समग्र स्वास्थ्य को बढ़ाता है।

चने की बुआई: समय और तकनीक

बीज रोपण

चने के बीज आमतौर पर बीज के रूप में बोए जाते हैं। देसी किस्मों के लिए, आपको प्रति हेक्टेयर 80-100 किलोग्राम बीज की आवश्यकता होगी, जबकि काबुली किस्मों के लिए 60-80 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर की आवश्यकता होगी।

बुआई का सही समय

अपने बीजों को जलभराव से बचाने के लिए, उन्हें गेहूं या बाजरा के बीज के साथ बोने पर विचार करें। यह रणनीतिक रोपण दृष्टिकोण बरसात के मौसम के दौरान आपके चने के बीज की सुरक्षा सुनिश्चित करता है।

चने की फसल का देखभाल

उचित दूरी

पैदावार बढ़ाने के लिए, विशेषकर ठंडे मौसम में, चने के पौधों के बीच पर्याप्त दूरी बनाए रखें।

सिंचाई प्रबंधन

स्वस्थ चने के पौधों के लिए नियमित एवं उचित सिंचाई अत्यंत आवश्यक है। बारिश की अनुपस्थिति में, कुशल और प्रभावी सिंचाई के लिए ट्रैक्टरों का उपयोग करने पर विचार करें।

कीट एवं रोग प्रबंधन

कीटों और बीमारियों के लक्षणों के लिए अपने चने के पौधों पर सतर्क नजर रखें। त्वरित और लक्षित कार्रवाई से संभावित फसल क्षति को रोका जा सकता है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) चने के बीज बोने का सबसे अच्छा समय कब है?

Ans:- चने के बीज बोने का आदर्श समय गेहूं या बाजरा के बीज के साथ है ताकि उन्हें जलभराव से बचाया जा सके।

2.) मैं अपने चने के खेत में जलभराव को कैसे रोक सकता हूँ?

Ans:- जलभराव को रोकने के लिए उचित जुताई और जल निकासी आवश्यक है। सुनिश्चित करें कि आपके खेत में जल निकासी अच्छी हो।

3.) देशी और काबुली चने की किस्मों में क्या अंतर है?

Ans:- देशी चना छोटा होता है और दाल और आटे के लिए उपयोग किया जाता है, जबकि काबुली चना बड़ा होता है और व्यावसायिक उपयोग के लिए इसकी खेती की जाती है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !