Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

देवारन्या योजना के जरिए खेती करने पर किसानो की बढेगी आमदनी

देवारन्या योजना के जरिए खेती करने पर किसानो की बढेगी आमदनी – आदिवासी समुदायों के उत्थान और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के प्रयास में, मध्य प्रदेश सरकार ने अभिनव ‘देवारन्या योजना’ शुरू की है। यह दूरदर्शी पहल न केवल जनजातीय व्यक्तियों को रोजगार के अवसर प्रदान करना चाहती है, बल्कि उनके  आर्थिक कल्याण में सुधार करना भी है।

‘देवारण्य योजना’ की शुरआत

मध्य प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गई ‘देवारन्या योजना’ राज्य की आदिवासी आबादी की उन्नति के लिए समर्पित एक व्यापक रणनीति है। इस योजना का दोहरा फोकस है: आयुर्वेद के माध्यम से समग्र स्वास्थ्य लाभ प्रदान करना और आदिवासी लोगों के लिए रोजगार की संभावनाओं को बढ़ावा देना।

जनजातीय कल्याण के लिए आयुर्वेद

‘देवारन्या योजना’ का केंद्र आयुर्वेद के माध्यम से स्वास्थ्य सेवा का प्रावधान है। यह पहल आदिवासी समुदायों तक आयुर्वेदिक चिकित्सा की उपचारात्मक शक्तियों को लाने का प्रयास करती है, ताकि उनकी भलाई को प्राथमिकता दी जा सके। इस प्रयास का एक प्रमुख तत्व इंदौर के हलचल भरे शहर में एक आयुष सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल की स्थापना है। यह अस्पताल न केवल आधुनिक चिकित्सा देखभाल का वादा करता है बल्कि आयुर्वेद और यूनानी चिकित्सा के विकास पर भी ध्यान केंद्रित करता है।

‘देवारन्या योजना’ के उद्देश्य

‘देवारण्य योजना’ का मुख्य उद्देश्य है: आदिवासी आबादी को आयुर्वेद में निहित गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच प्रदान करना और लाभकारी रोजगार के रास्ते खोलना। यह रणनीतिक ढांचा राज्य के भीतर औषधीय उपचारों के उत्पादन के लिए समर्पित एक मजबूत मूल्य श्रृंखला प्रणाली स्थापित करने की इच्छा रखता है।

देवारण्य योजना मे कई सरकारी विभाग करेंगे काम

योजना की एक अनूठी विशेषता इसकी सहयोगात्मक प्रकृति है। मध्य प्रदेश सरकार का लक्ष्य ‘देवारण्य योजना’ के निर्बाध कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न राज्य विभागों और संगठनों की शक्ति का उपयोग करना है। कृषि उत्पादक संगठन, आयुष और वन विभाग, ग्रामीण विकास विभाग, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विभाग, औद्योगिक नीति और निवेश प्रोत्साहन विभाग और जनजातीय कार्य विभाग जैसे विभाग इस दूरदर्शी योजना को साकार करने के लिए मिलकर काम करेंगे।

‘देवारन्या योजना’ के लाभ

यह अभूतपूर्व पहल विशेष रूप से आदिवासी आबादी को लाभ पहुंचाने के लिए तैयार की गई है। ‘देवारन्या योजना’ राज्य के अनुसूचित जनजातीय क्षेत्रों के लिए एक परिवर्तित परिदृश्य की कल्पना करती है, जो उन्हें रोजगार सुरक्षित करने और आजीविका संसाधन सुरक्षित करने के साधन प्रदान करती है।

आदिवासी की आजीविका को मजबूत बनाना

यह योजना आदिवासी व्यक्तियों को औषधीय और सुगंधित पौधों की क्षमता का दोहन करने के लिए एक विशिष्ट अवसर का वादा करती है। ‘देवारण्य योजना’ से जुड़कर आदिवासी समुदाय औषधियों और सुगंधित उत्पादों के उत्पादन में सक्रिय रूप से भाग ले सकते हैं। बदले में, यह उन्हें अपने उत्पादों के विपणन और बिक्री के लिए एक मजबूत आपूर्ति श्रृंखला प्रदान करता है, जिससे उनकी आर्थिक स्थिति मजबूत होती है।

देवारन्या योजना के लिए पात्रता 

‘देवारन्या योजना’ को विशिष्ट पात्रता मानदंडों के साथ डिज़ाइन किया गया है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि इसका लाभ इच्छित लाभार्थियों तक पहुंचे।

देवारन्या योजना के लिए योग्यता

योजना के लिए पात्र होने के लिए व्यक्तियों को मध्य प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए। इसके अलावा, केवल आदिवासी सदस्य और आदिवासी समुदायों से आने वाले लोग ही कार्यक्रम में भाग लेने के हकदार हैं। इसके अतिरिक्त, आवेदकों को राज्य के भीतर एक स्वयं सहायता समूह का सक्रिय भागीदार होना चाहिए और क्षेत्र के भीतर गतिविधियों में संलग्न होना चाहिए। योजना के लिए सुगंधित और औषधीय पौधों की अच्छी समझ भी एक शर्त है।

इसे भी पढ़े –

FAQs

1.) ‘देवारण्य योजना’ से लाभ पाने के लिए कौन पात्र है?

Ans:- यह योजना विशेष रूप से मध्य प्रदेश के उन स्थायी निवासियों के लिए उपलब्ध है जो आदिवासी समुदायों से संबंधित हैं। राज्य के भीतर स्वयं सहायता समूहों में सक्रिय भागीदारी भी भागीदारी के लिए एक शर्त है।

2.) ‘देवारन्या योजना’ का मुख्य फोकस क्या है?

Ans:- ‘देवारन्या योजना’ का उद्देश्य मध्य प्रदेश की आदिवासी आबादी के लिए आयुर्वेदिक स्वास्थ्य सेवाओं और रोजगार के अवसरों को जोड़ना है।

3.) यह योजना आदिवासी समुदायों के बीच आर्थिक विकास को कैसे बढ़ावा देती है?

Ans:- औषधीय और सुगंधित उत्पादों के उत्पादन और विपणन में आदिवासी व्यक्तियों को शामिल करके, यह योजना एक मजबूत आपूर्ति श्रृंखला स्थापित करती है, जिससे उनकी आर्थिक संभावनाओं को बढ़ावा मिलता है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !