Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

काबुली चना, राजमा, सरसों, देशी चना, तुअर, मूंग, बाजरा आदि फसलो की तेजी मंदी भाव

काबुली चना के भाव में तेजी की संभावना

बीते कई दिनों से महाराष्ट्र में बारिश के चलते मंडी में काबुली चने के आवक में कमी देखी गई हैं वहीं मध्य प्रदेश कर्नाटक में मोटे माल की लिवाली निर्यातक करने लगे हैं इसी कारण यहां के दाम 300 रुपये से बढ़कर महाराष्ट्र का व्यापार 7500 से लेकर 8400 रुपये प्रति क्किटल तक हो गया है। मोटे अनाज की क्वालिटी के अनुसार बेचे जा रहे हैं वही नीचे और कमजोर अनाज 200 से 300 रुपये बढ़ाकर बोली लग रही है। वही कुछ और तेजी के आसार भी दिखेगी जा रहे हैं।

राजमा का दाम सामान्य रहेगा

बताया जा रहा है कि इस बार राजमा की बिक्री को गन्ना और वरुण की मांग ने ठंडा कर दिया गया है इसका मुख्य कारण यह है कि इसका उत्पादन इस बार महाराष्ट्र में बहुत अधिक हुआ है तथा अच्छी क्वालिटी होने के कारण अधिकतर पैकिंग निर्माता खरीदकर पैकिंग कर के बेच रहे तथा भरपूर लाभ मिल रहा है इसको रेस्टोरेंट और ढ़ावे वाले पहले ही खरीद रहे हैं क्योंकि क्वालिटी बहुत बढ़िया है तथा पकाने के बाद भी अच्छा है इसका पक रहा है दूसरी और pune-satara वाई लाइन के हल्के माल की काफी उतर रहे हैं यही कारण कि ब्राजील चाइना व इथोपिया में पहुंचे के बावजूद यहां पर व्यापार हो रहा है आने वाले समय में बाजार सामान्य रहने की संभावना है।

मोठ के दाम घटने की कोई संभावना नहीं है

मोठ के दाम चालू सप्ताह के समय से ही 100 से 150 रुपये प्रति क्विंटल में तेजी आई है राजस्थान की मंडियों में तेजी रहने से वहां के लोडिग दिल्ली यूपी हरियाणा पंजाब के लिए कम हो रही है तथा ट्रक भाड़े महंगे हो जाने से राजस्थान से सीधे पंजाब की ओर लोडिंग की जा रही है यही कारण है कि बाजार अभी आगे और तेजी लाने वाला है मोठ में तेजी से भी, इसमें और तेजी आने की संभावना है।

देसी चना सीजन पर नहीं होगा मंदा

देसी चने की बुआई इस बार राजस्थान, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक सहित पांच राज्यों में बहुत कम हुई थी क्योंकि किसानों का रुझान अब काबुली चने की बुआई पर अधिक था इन परिस्थितियों में देखते हुए मार्च खत्म होने वाला है मध्य प्रदेश किसी भी मंडी मे आवक नहीं है महाराष्ट्र में देसी चना आकर खत्म हो चुका है जो चांपा माल दिल्ली में बिका था उसके भाव 5400 रुपये बोलने लगे हैं वही राजस्थान भी 53850 रुपये हो गए हैं राजस्थानी चना भी इस समय 5300/5400 रुपये प्रति क्किटल हो गया है। जिस किसान के पास इस समय चना है उन्हे इसका लाभ अच्छा मिल जाएगा।

इसे भी पढ़े:-

तुवर भाम में होगी अभी तेजी

महाराष्ट्र में बारिश होने के कारण नई पुरानी तुवर के आवक में काफी कमी देखी गई है यूपी बिहार झारखंड में गर्मी वाली तुवर में कोई विशेष खास दम नहीं है वही किसानो को अपनी खपत के लिए 2 महीने के लिए मुश्किल लग रहा है क्योंकि सभी क्षेत्रों में तुवर की बुवाई बहुत कम हुई है दूसरी और रंगून की फसल बढ़िया हुई है लेकिन प्रति हेक्टेयर उत्पादकता में कमी देखी गई है। पुराने माल को मंडियों में नहीं होने से मैं नये के भाव कारोबारी बढ़ चढ़कर बोल रहे हैं यही कारण है कि चेन्नई वाले भी अप्रैल मई में ऊचे दाम पर बेच दिये थे। हजारी में माल की कमी है यहां लगभग 100 बढ़कर 8200 से 8250 रुपये का लेमन हो गया है और अभी आगे और तेजी आने वाली है।

मूंग के दाल में अच्छी तेजी

मध्य प्रदेश की पुरानी मूंग 7325 से 7580 रुपये प्रति क्विंटल के बीच में बेचा जा रहा है यह माल ज्यादा नही मिल रहा है। इधर राजस्थान के खाटू लाइन की बढ़िया 8490 रुपये प्रति क्विंटल से बेची जा रही है। क्योंकि लोकल दाल मिलें ही इस समय खरीद रही हैं। एवरेज माल 8020 तक बोलने लगे है राजस्थान के अलावा 2 महीने के अंदर कोई दूसरी मूंग दाल नहीं आने वाली है इधर मध्यप्रदेश के होशंगाबाद खरगोन लाइन की मूग भी में इस बार लेट होने वाली है। यूपी मे जून में आएगी, यह सारी परिस्थितियों को देखते हुए इसके भाव 500 रुपये की और बढ़ोतरी आने वाले समय में देखी जाएगी।

मसूर की दाल में मंदा के आसार

मसूर की नई फसल एमपी राजस्थान और मध्य प्रदेश में आ चुकी है लेकिन मंडियों में आवक नहीं बढ़ पा रही है तथा विदेशी के माल सस्ते मे मिल रहे हैं अभी हाल ही में कनाडा से 20 से $25 प्रति टन बढ़ाकर हाजिर शिपमेंट के भाव बोलने लगे, इसके चलते दाल मिलों की बिल्टी वाले विदेशी माल लिवाली बढ़ गई है। विदेशी माल में कुछ नई प्रकार की भी स्टॉकिस्ट लिवाली करने लगे हैं, इन सारी परिस्थितियों को देखते हुए यहां से और तेजी लग रही हैं जो कि मसूर बाल्टी में 6050 रुपये तक बिकी उसके भाव 6150 रुपये बोलने लगे है।

उड़द में मिल रहा है भरपूर लाभ

रंगून उड़द की भाव 35 से 40 डालर प्रति टीन 2 दिनों के अंतराल में बढ़ गए हैं वहीं चेन्नई में 200 रुपये प्रति कुंटल बढ़कर हजारी लोडिंग का व्यापार होने लगा है। सटोरिए मार्च का उड़द और तेजी से बोलने लगा है तथा अप्रैल में से बढ़ चढ़कर बोला गया, यही कारण है कि हजारी के माल की भारी कमी होने से विकवाल पीछे हट जाने से 100 रुपये बढ़ चढ़कर 8290 रुपये प्रति क्विंटल हो गया।

चीनी के दाम में मंदा नही

चीनी के भाव 10 से 15 रुपये घटकर 3400 से लेकर 3550  तथा हजारी भाव में 3720 से लेकर 3850 रुपये प्रति कुंटल बोलें गए। मुंबई में भी मांग बढ़ने से चीनी के हजारीबाग 3340 से लेकर 3652 रुपये प्रति क्विंटल पर बने हुए हैं। सप्लाई वह मांग को देखते हुए आने समय में इसकी तेजी की संभावना नहीं है। बाजार सीमित तर चढ़ाव-उतार हमेशा होता रहता है।

चावल के दाम मे तेजी नहीं

मध्य प्रदेश, यूपी, पंजाब-हरियाणा, छत्तीसगढ़, राजस्थान की मंडियों में धान नहीं आ रहे है मिलो मे भी चावल खत्म है निर्यातकों की मांग ठंडी पड़ जाने से और मार्केट में चावल ना होने के कारण मंदा का रुख बना हुआ है। वर्तमान समय में 1718 प्रजाति के चावल शीला व्यापार 7850 रुपये प्रति क्विंटल हो गया है इसमें 200 रुपये और घटने की उम्मीद है।

मक्का के दाम में होगी बढ़ोतरी

मक्के की आपूर्ति में राजस्थान, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश की मंडियों में पूरी तरह समाप्त हो गई है स्टॉक में जो माल पड़े हैं वह सीधे खपत वाली मंडियों में भेजे जा रहे हैं इससे बाजार में मंडियों में 50 से 60 रुपये प्रति क्विंटल पर चढ़कर बोली लग रही हैं। इधर बिहार में पुराने माल पड़ते नहीं है। यही कारण है कि राजस्थान MP की मक्का पानीपत सफेदी राजापुरा चीता में पहुंचकर 2450 रुपए प्रति कुंतल में बेची जा रही है। पंजाब पहुंचकर यही 2460 रुपए तक का व्यापार किया जा रहा है। अभी कुछ दिन बिहार की मक्का नहीं आने से स्थित 40 से 50 और बढ़ोतरी देखने को मिलेगी।

गेहूं के दाम घटने की संभावना

जैसा कि हम सब जानते हैं सरकार द्वारा खुले बाजार की बिक्री हेतु गेहूं टेंडर दिया जा रहा है वहां अधिक जा रहा है तथा ट्रक भाड़े से लेकर एफसीआई के गोदामों तक पहुंच गेहूं के वर्तमान समय में दाम 2500 से 2550 रुपये प्रति क्किटल का बिक रहा है है गेहूं के दाम इस समय बढने की गुंजाइश खत्म है। जल्द ही 50 रुपये प्रति कुंटल मंदा देखने को मिल सकता है। इसका कारण है कि गर्मी बढ़ रही है तथा गेहूं की आवक उत्तर भारत में 10 से 15 दिनों के बाद शुरू हो जाएगी। मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में नया गेहूं 2150 से 2220 रुपये प्रति क्विंटल बेचा जा रहा है।

इसे भी पढ़े:-

Wheat Price: गेहूं के दाम 7वें आसमान पर, यहां देखे नऐ रेट

बाजरा व्यापार दे रहा भरपूर लाभ

बाजरे की आपूर्ति में राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश मे आवक पूरी तरह से खत्म हो चुकी है। स्टॉक में पड़े बाजरे का इस्तेमाल कारोबारियों से बढ़ चढ़कर बोल रहे हैं। यूपी राजस्थान में बाजरा की हालत यह है कि ₹100 बढ़कर 2350 रुपये मे बेचा जा रहा है वही 2250 रुपये  उठू भाव बोले जा रहे हैं। बाजरे की नई फसल कोई निकटतम आने वाले नहीं है इसे देखते हुए इसमें अभी 100 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से तेजी आने की संभावना है।

सोयाबीन तेजी-मंदी सीमित रहेगी

सोयाबीन की कीमत लगातार घटता जा रहा है जलगांव में सोयाबीन 50  रुपये और दाम कम होकर 5101 प्रति क्किटल के हिसाब से भेचा जा रहा है। इसके पहले इतनी ही मंदी आई थी। तिमाही सोया तेल व कायदा 27 टन प्रति मंदी की जानकारी मिली है। सक्रिय तिमाही में बाकायदा आने वाले 2से 3 दिनों में हजारी में सोयाबीन में तेजी मंदी समान रूप से बना रहेगा

सीपीयू समिति घट-बढ़

विदेशी में सीपीयू की भाव $1025 प्रति टन बोले जा रहे हैं वही वनस्पति घी निर्माताओं की मांग निकलने पाम आयल के भाव 50 रुपये बढकर 8290 रुपये हो गए हैं ।

सरसों खल तेल में तेजी नहीं

सरसों खल के भाव 50 रुपये बढ़कर 2320 से 2540 रुपये प्रति कुटंल हो गए हैं उत्तर प्रदेश की मंडियों में सरसों तेल की कीमतों में तेजी का रुख चल रहा है सरसों का भाव ऊपर से नीचे आ गया है आने वाले दिनों में भाव बढ़ने की संभावना देखी जा रही है।

सरसों में तेजी नहीं।

लगातार मौसम के खराब होने के कारण सरसों की आवक में कमी देखी जा रही है लारेंस रोड पर सरसों के भाव 5420 से 5520 रुपये प्रति कुंतल पर बेचा जा रहा हैं वहीं नजलगढ़ मंडी में इसके 4880 ले 5002 रुपये प्रति कुंतल बेचे जा रहे हैं। देश की मंडियों में सरसों की आवक 11 लाख बोरी से अधिक रही है। आवक का दबाव बढ़ाने की तेजी से आसान नहीं लग रहे हैं।

Today Mandi Bhav 2023 : krishidost.com ने इस लेख मे आपके लिए देश की प्रमुख मंंडियो मे का क्या भाव चल रहा है। इसके बारे में पुरी जानकारी दी है। यह भाव व्यापारियों तथा अन्य मिडिया स्त्रोत से लिए गये है। आप अपना आनाज भेचने से पहले मंडी समिती से भाव की पुष्टी जरुर करा ले। आशा करता हूँ की यह जानकारी आप के लिए उपयोगी रही होगी।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !