Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

गरुड़ एयरोस्पेस किसानो को ड्रोन देने के लिए देश की पहली कंपनी के रुप मे मिली मंजूरी

भारत देश के कृषि प्रधान देश है। देश में जल्द ही खेती बाडी में बदलाव देखने को मिल सकते है। जी हाँ गांवो मे आपको आसपास के खेतों में ड्रोन उड़ते आयेंगे। इसका सबसे बड़ा कारण है कि देश की पहली स्वदेशी कंपनी गरुड़ एयरोस्पेस को किसानो को ड्रोन लिए एक मंजूरी दे दी गयी है।देश मे कुछ साल पहले तिलचट्टो से किसानो का काफी नुकसान हुआ था। तभी से सरकार का उद्देश्य था कि ड्रोन से ही कृषि क्षेत्र मे बदलाव किया जा सकता है।

देश मे किसानो के लिए ड्रोन बनाने वाली कंपनी गरुड़ एयरोस्पेस को एविएशन सेक्टर के रेग्युलेटर नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA) से ‘टाइप सर्टिफिकेशन’ और ‘आरपीटीओ’ (रिमोट पायलट ट्रेनिंग ऑर्गनाइजेशन) मंजूरी मिल गई है.

किसान ड्रोन क्या है

  • मेक इन इंडिया के तहत किसानों को होने वाले फसल नुकसान से बचाने के लिए किसान ड्रोन का विकसित किया जा रहा है। जिससे किसान फसल में दवा का छिड़काव, खेत की निगरानी, सहित तमाम प्रकार की काम कर सकते हैं।
  • गरुड़ एयरोस्पेस में भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को ब्रांड एंबेसडर बनाया गया है तथा उन्होंने इस कंपनी में धोनी ने निवेश भी किया है।
  • धोनी द्वारा हाल ही में इसी कंपनी ने एक ड्रोन लांच किया गया जिसका नाम द्रोणि है।
  • गरुड़ एयरोस्पेस के पास लगभग 400 ड्रोन के बेड़े और 500 से अधिक पायलटों की एक बेहतर प्रशिक्षित टीम भी है। इनकी सुविधा अभी लगभग 26 अलग-अलग शहरों में उपलब्ध है।
  • भारत देश में सबसे किफायती कृषि ड्रोन की कीमत लगभग 4 से 5 लाख तक है। जिससे किसान भाई अधिकतम 25 किलो वजन तक का उपयोग कर सकते हैं।

जीए-एजी मॉडल के लिए टाइप सर्टिफिकेशन

गरुड़ एयरोस्पेस के एक बयान में बताया कि उनका ड्रोन कृषि से संबंधित जुड़े कार्यों को ध्यान में रखकर बनाया जा रहा है। इनके ड्रोन की क्वालिटी चेक करने के बाद जीए-एजी मॉडल के लिए टाइप सर्टिफिकेशन मिला है। इनका ड्रोन जांच करने के बाद ही जारी किया जाता है। डीजीसीए एक मान्यता प्राप्त संगठन है। जो ड्रोन नियम-2021 के नियम-34 के तहत ड्रोन बनाने वाली कंपनियों को प्रमाण पत्र देती है।

इसे भी पढ़े

गरुड़ एयरोस्पेस के अध्यक्ष ने क्या कहां

गरुड़ एयरोस्पेस कंपनी को अगले 5 महीने के अंदर लगभग 5000 से ज्यादा ड्रोन बनाने का डिमांड है। किसान ड्रोन को डीजीसीए से दोनों तरफ के सर्टिफिकेट मिलने पर गरुड़ एयरोस्पेस के अध्यक्ष ने कहा कि यह देश की पहली कंपनी होगी। जो खुद भारत मे ड्रोन निर्मत करेगी। भारत की पहली कंपनी को मंजूरी मिलने से मैन्यूफैक्चरिंग क्षमताओं का मजबूत विकास होगा और इस क्षेत्र में हमारा देश आगे जा सकेगा।

नागरिक उड्डयन महानिदेशालय क्या है (DGCA)

नागरिक उड्डयन महानिदेशालय भारत की एक नियामक संस्था है। जो मुख्य रूप से सुरक्षा मुद्दों से निपटती है। भारत में हवाई परिवहन की सुविधा, नागरिक हवाई नियमों , हवाई सुरक्षा और उड़ान योग्यता सहित तमाम प्रकार की जिम्मेदारियां होती है। यह संस्था अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन के साथ मिलकर भी कई कार्यों को करती है।

किसान ड्रोन से खेती बाड़ी ने बदलाव

  • किसान ड्रोन से कई प्रकार के कार्य किए जा सकते हैं जिसे किसान अपनी जिंदगी में एक नई बदलाव के रूप में देख सकते हैं।
  • कृषि क्षेत्र में नई-नई प्रकार की करियर की संभावना भी देखा जा रहा है।
  • कृषि ड्रोन खेती से जुड़े कई कार्य करने में सक्षम होता है।
  • किसान भाई इससे कीटनाशक, खेत की निगरानी, फसल की निगरानी, आंकड़े जुटाना, डेटा संग्रह सहित तमाम प्रकार के काम आसानी से कर सकते हैं।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !