Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

Goat Farming: बकरी पालन मे हरा चारा खिलाएँ दूध और मांस उत्पादन, जानें क्या बोले साइंटिस्ट

Goat Farming: बकरी पालन मे हरा चारा खिलाएँ दूध और मांस उत्पादन, जानें क्या बोले साइंटिस्ट – मथुरा में केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान (सीआईआरजी) के वैज्ञानिक विभिन्न लाभों के लिए बकरी पालन में प्राकृतिक कृषि पद्धतियों के महत्व पर जोर देते हैं। वे साल भर हरे चारे की फसलें जैसे लोबिया, बाजरा, ज्वार, बरसीम, जई और जौ उगाने की सलाह देते हैं ताकि बकरियों को पौष्टिक और प्रदूषणरहित चारा मिल सके। उनकी सिफ़ारिशों के कुछ मुख्य बिंदु इस प्रकार हैं:

साल भर चारे के लिए प्राकृतिक खेती

सीआईआरजी वैज्ञानिकों का सुझाव है कि प्राकृतिक खेती के तरीकों से चारा फसलों की निरंतर खेती संभव हो सकती है, जिससे बकरियों के लिए हरे चारे की लगातार आपूर्ति सुनिश्चित हो सकती है। यह दृष्टिकोण रासायनिक रूप से दूषित चारे पर निर्भरता को कम करता है और बकरियों के समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।

बकरी के हरा चारा खिलाएँ

बकरियों के लिए उच्च गुणवत्ता और पौष्टिक चारा उपलब्ध कराना एक चुनौती बन गया है, क्योंकि ऐसा चारा अक्सर बाजार में उपलब्ध नहीं होता है। बकरी के दूध और मांस उत्पादन पर केंद्रित एक लाभदायक व्यवसाय चलाने के लिए, बकरियों को प्राकृतिक खेती के माध्यम से उगाया गया हरा चारा खिलाना आवश्यक है।

प्राकृतिक खेती के लाभ

सीआईआरजी के अनुसार, बकरी पालन में प्राकृतिक खेती से प्राप्त हरे चारे का उपयोग करने के कई फायदे हैं, जिनमें आर्थिक लाभ और बकरी के स्वास्थ्य में सुधार शामिल है। यह व्यवसाय और स्वास्थ्य दोनों दृष्टिकोण से एक लाभदायक उद्यम है।

मांस और दूध मे लाभ

प्राकृतिक खेती से बकरियों को हरा चारा खिलाने का एक प्राथमिक लाभ यह है कि इससे मांस और दूध प्रदूषकों से मुक्त हो जाता है। यह अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि देश अक्सर रासायनिक अवशेषों के लिए आयातित मांस और दूध का परीक्षण करते हैं। प्राकृतिक कृषि पद्धतियाँ ऐसे रसायनों के उपयोग को समाप्त करती हैं।

बकरियों स्वास्थ्य के लिए

प्राकृतिक खेती का चारा लागत प्रभावी है क्योंकि यह बीज और अमृत से उगाया जाता है, और यह आमतौर पर रासायनिक रूप से उगाए गए चारे की तुलना में अधिक उपज देता है। यह तरीका बकरियों के स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है।

प्राकृतिक खेती में जीवा-बीजामृत

सीआईआरजी के वैज्ञानिक प्राकृतिक खेती में जीवा-बीजामृत के उपयोग को बढ़ावा दे रहे हैं। जीवामृत मिट्टी को गुड़, बेसन, गाय के गोबर और मूत्र जैसी सामग्रियों के साथ मिलाकर तैयार किया जाता है। यह मिश्रण मिट्टी के मित्र जीवाणुओं को बढ़ाता है, जिससे अंततः चारे की गुणवत्ता में लाभ होता है। इस प्रक्रिया में बकरी के मूत्र के उपयोग को लेकर शोध जारी है।

जैविक चराई

जब बकरियां अपने प्राकृतिक वातावरण, जैसे कि बगीचों, खेतों या जंगलों में चरती हैं, तो उनके दूध को 100 प्रतिशत जैविक माना जाता है क्योंकि वे रासायनिक संदूषण के बिना पेड़ों और झाड़ियों से अपना चारा स्वयं चुनती हैं। हालाँकि, खेतों में या घर पर हरा चारा उपलब्ध कराने से उनके आहार में कीटनाशक और रसायन शामिल हो सकते हैं।

संक्षेप में, सीआईआरजी वैज्ञानिक बकरियों के लिए दूषित हरे चारे की निरंतर आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए प्राकृतिक कृषि पद्धतियों की वकालत करते हैं। इससे न केवल बकरी के स्वास्थ्य को लाभ होता है, बल्कि रसायन-मुक्त मांस और दूध के उत्पादन में भी मदद मिलती है, जिसकी विशेष रूप से अंतरराष्ट्रीय बाजारों में मांग है। प्राकृतिक खेती में चारे की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए जीवा-बीजामृत के उपयोग को प्रोत्साहित किया जाता है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) बकरी पालन में प्राकृतिक खेती क्या है?

Ans:- बकरी पालन में प्राकृतिक खेती में रासायनिक कीटनाशकों या सिंथेटिक उर्वरकों के उपयोग के बिना हरे चारे की फसलों की खेती शामिल है। यह दृष्टिकोण सुनिश्चित करता है कि बकरियों को स्वच्छ और पौष्टिक आहार उपलब्ध कराया जाए।

2.) प्राकृतिक खेती के माध्यम से उगाई जाने वाली कुछ सामान्य हरे चारे की फसलें क्या हैं?

Ans:- बकरी पालन में प्राकृतिक खेती के लिए उपयुक्त सामान्य हरे चारे की फसलों में लोबिया, बाजरा, ज्वार, बरसीम, जई और जौ शामिल हैं। चारे का निरंतर स्रोत उपलब्ध कराने के लिए इन फसलों की खेती साल भर की जा सकती है।

3.) क्या बकरियाँ खुले इलाकों में प्राकृतिक चारा चर सकती हैं?

Ans:- हाँ, जब बकरियाँ बगीचों, खेतों या जंगलों में अपने आप चरती हैं, तो उनके दूध को 100 प्रतिशत जैविक माना जाता है, क्योंकि वे रासायनिक संदूषण के बिना अपना चारा स्वयं चुनती हैं। हालाँकि, यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि चरागाह क्षेत्र हानिकारक रसायनों से मुक्त हों।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !