Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

सरकार का बड़ा फैसला किसानो को रबी फलस के 1.01 लाख करोड़ का लोन देने के लिए पैसा पास, जाने कैसे मिलेगा लोन

सरकार का बड़ा फैसला किसानो को रबी फलस के 1.01 लाख करोड़ का लोन देने के लिए पैसा पास, जाने कैसे मिलेगा लोन – उत्तर प्रदेश में किसानो को सशक्त बनाने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम में, कृषि विभाग ने 2023-24 के रबी सीजन के लिए कुल 1.01 लाख करोड़ रुपये का फसल ऋण प्रदान करने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित किया है। इस पहल का उद्देश्य राज्य में किसानों के लिए ऋण की आसान पहुंच को सुविधाजनक बनाना है, जिससे अंततः उनकी कृषि गतिविधियों में वृद्धि होगी। यह लेख कृषि क्षेत्र के लिए इसके महत्व और लाभों पर प्रकाश डालते हुए इस पर्याप्त वित्तीय सहायता के विवरण पर प्रकाश डालता है।

रबी फसल ऋण वितरण

कृषि समृद्धि को बढ़ाने का लक्ष्य

चालू वर्ष का फसल ऋण लक्ष्य, जो 1.01 लाख करोड़ रुपये है, पिछले वर्ष के आवंटन की तुलना में लगभग 22.40 प्रतिशत की पर्याप्त वृद्धि दर्शाता है। पिछले वर्ष किसानों को 82.51 हजार करोड़ रुपये का ऋण मिला था, जो मौजूदा लक्ष्य से काफी कम है। आवंटन में यह वृद्धि कृषि अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने और राज्य के किसानों को समर्थन देने की सरकार की प्रतिबद्धता को रेखांकित करती है।

किसान क्रेडिट कार्ड वित्तीय सहायता की कुंजी

अपनी कृषि गतिविधियों के समर्थन के लिए सुरक्षित ऋण की तलाश कर रहे किसान मुख्य रूप से किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) पर निर्भर होंगे। इस वर्ष, 62 लाख नए केसीसी जारी करने का एक प्रभावशाली लक्ष्य निर्धारित किया गया है, और पहले ही 19.12 लाख नए केसीसी वितरित किए जा चुके हैं। केसीसी किसानों को केवल सात प्रतिशत की प्रतिस्पर्धी ब्याज दर पर ऋण प्रदान करता है। इसके अतिरिक्त, जो लोग समय पर अपना ऋण चुकाते हैं वे अतिरिक्त तीन प्रतिशत छूट के पात्र हैं, जिससे उनका वित्तीय बोझ और कम हो जाता है।

किसानो के कल्याण का प्रयास

सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के बैंक से ऋण

कृषि विभाग ने इस पहल के कार्यान्वयन को सुविधाजनक बनाने के लिए सार्वजनिक और निजी दोनों क्षेत्रों के बैंकों के साथ साझेदारी की है। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों द्वारा 22.36 लाख नए केसीसी जारी करने की उम्मीद है, जबकि सहकारी बैंक 2.63 लाख नए केसीसी प्रदान करने के लिए तैयार हैं। ये सहयोग किसानों को ऋण प्राप्त करने के लिए व्यापक विकल्प प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं, जिससे पूरी प्रक्रिया अधिक सुलभ और कुशल हो जाएगी।

उत्तर प्रदेश के किसानों के लिए एक उज्जवल भविष्य

उत्तर प्रदेश में रबी फसल ऋण के लिए बढ़ा हुआ आवंटन कृषक समुदाय के लिए गेम-चेंजर साबित होने का वादा करता है। किसानों के पास अब ऋण तक आसान पहुंच होगी, जिससे वे अपनी कृषि गतिविधियों में अधिक प्रभावी ढंग से निवेश कर सकेंगे। ऐसे समय में जब इसकी सबसे अधिक आवश्यकता है, धनराशि का यह निवेश राज्य के किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार लाएगा।

निष्कर्ष

रबी फसल ऋण के लिए 1.01 लाख करोड़ रुपये आवंटित करके कृषि क्षेत्र को बढ़ाने की उत्तर प्रदेश सरकार की प्रतिबद्धता कृषक समुदाय को समर्थन देने की दिशा में एक उल्लेखनीय कदम है। किसान क्रेडिट कार्ड के लाभों के साथ बढ़ा हुआ ऋण आवंटन निस्संदेह राज्य में किसानों की आर्थिक संभावनाओं को ऊपर उठाएगा, विकास और समृद्धि को बढ़ावा देगा।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) उत्तर प्रदेश में किसान किसान क्रेडिट कार्ड के लिए कैसे आवेदन कर सकते हैं?

Ans:- उत्तर प्रदेश में किसान सार्वजनिक और निजी दोनों क्षेत्रों के बैंकों के माध्यम से किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं। इस प्रक्रिया में आम तौर पर आवश्यक दस्तावेज जमा करना और विशिष्ट मानदंडों को पूरा करना शामिल होता है।

2.) किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से प्राप्त ऋण पर ब्याज दर क्या है?

Ans:- किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से प्राप्त ऋण सात प्रतिशत की प्रतिस्पर्धी ब्याज दर के साथ आते हैं, यदि समय पर ऋण चुकाया जाता है तो अतिरिक्त तीन प्रतिशत छूट की संभावना होती है।

3.) उत्तर प्रदेश में रबी फसलों के लिए बढ़े ऋण आवंटन के क्या मायने हैं?

Ans:- बढ़ा हुआ ऋण आवंटन महत्वपूर्ण है क्योंकि यह किसानों को अधिक वित्तीय सहायता प्रदान करता है, जिससे उनके लिए अपनी कृषि गतिविधियों में निवेश करना और उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार करना आसान हो जाता है।

4.) इस पहल का उत्तर प्रदेश की समग्र अर्थव्यवस्था पर क्या प्रभाव पड़ेगा?

Ans:- इस पहल से कृषि उत्पादकता और किसानों की आय को बढ़ावा देकर उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था पर सकारात्मक प्रभाव पड़ने की उम्मीद है, जिससे समग्र आर्थिक विकास में योगदान मिलेगा।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !