Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

“गुजरात सरसों-8”: सरसो की यह नई किस्म, 94 दिनों में बंपर पैदावार देखकर किसान खुश

“गुजरात सरसों-8”: सरसो की यह नई किस्म, 94 दिनों में बंपर पैदावार देखकर किसान खुश – भारत के गुजरात में “गुजरात मस्टर्ड-8” नामक अभूतपूर्व सरसों की किस्म की शुरूआत के साथ एक महत्वपूर्ण परिवर्तन गुजरने वाला है। आनंद कृषि विश्वविद्यालय द्वारा विकसित, सरसों की इस उन्नत किस्म में क्षेत्र में कृषि पद्धतियों में क्रांतिकारी बदलाव लाने की क्षमता है। इस लेख में, हम इस उल्लेखनीय सरसों की किस्म की प्रमुख विशेषताओं और गुजरात में किसानों के जीवन पर इसके सकारात्मक प्रभाव के बारे मे जानेंगे।

सरसों की सही किस्म

जैसे-जैसे सरसों की बुआई का मौसम नजदीक आता है, किसानों को अपनी उपज और लाभ को अधिकतम करने के लिए सरसों की सही किस्म का चयन करने के महत्वपूर्ण निर्णय का सामना करना पड़ता है। यह निर्णय महत्वपूर्ण है, क्योंकि उनकी फसल की सफलता काफी हद तक उनकी पसंद पर निर्भर करती है। आनंद कृषि विश्वविद्यालय ने इस चुनौती को पहचाना है और “गुजरात मस्टर्ड-8” विकसित करके इस अवसर पर आगे आया है।

गुजरात मस्टर्ड-8″ की मुख्य विशेषताएं

1. जल्दी पकने वाली किस्म

“गुजरात मस्टर्ड-8” की सबसे खास विशेषताओं में से एक इसकी तीव्र परिपक्वता है। पकने में अधिक समय लेने वाली सरसों की अन्य किस्मों के विपरीत, यह असाधारण किस्म किसानों को अपनी फसल जल्दी काटने का अनूठा लाभ प्रदान करती है। केवल 94 दिनों में, किसान पारंपरिक सरसों की किस्मों की तुलना में प्रतीक्षा समय को कम करके, अपनी कड़ी मेहनत का प्रतिफल प्राप्त कर सकते हैं।

2. बंपर पैदावार

“गुजरात मस्टर्ड-8” प्रति हेक्टेयर 2791 किलोग्राम की प्रभावशाली औसत उपज का दावा करता है। यह बंपर उपज क्षमता उन किसानों के लिए गेम-चेंजर है जो अपनी उत्पादकता और लाभप्रदता बढ़ाना चाहते हैं। तेज़ विकास चक्र और उच्च पैदावार के साथ, यह किस्म गुजरात के कृषि क्षेत्र के लिए गेम-चेंजर साबित होने का वादा करती है।

3. अधिक तेल

38.39% तेल सामग्री के साथ, “गुजरात सरसों-8” अन्य सरसों किस्मों की तुलना में अधिक तेल सामग्री प्रदान करता है। यह विशेषता इसे न केवल आर्थिक रूप से व्यवहार्य बनाती है बल्कि तिलहन निष्कर्षण के लिए एक पसंदीदा विकल्प भी बनाती है। किसान अपनी फसल से अधिक तेल प्राप्त करने की उम्मीद कर सकते हैं, जिससे उनकी लाभप्रदता और बढ़ेगी।

4. कीटों और रोगों के प्रति प्रतिरोध

“गुजरात सरसों-8” की खेती केवल गति और उपज के बारे में नहीं है; यह खर्चों को कम करने के बारे में भी है। यह किस्म तेजी से परिपक्व होती है, जिससे ख़स्ता फफूंदी रोग और एफिड्स, जो सरसों की फसलों के लिए आम खतरा है, के प्रति संवेदनशीलता कम हो जाती है। परिणामस्वरूप, किसान कीट और रोग नियंत्रण उपायों से जुड़े खर्चों में कटौती कर सकते हैं।

किसानो को अधिक मुनाफा 

“गुजरात मस्टर्ड-8” के पीछे के वैज्ञानिक इसकी क्षमता से उत्साहित हैं। उनका दावा है कि सरसों की यह किस्म अन्य प्रसिद्ध किस्मों के प्रदर्शन से बेहतर है। इसकी खेती का चयन करके, किसान अधिक मुनाफा कमा सकते हैं, जिससे संभावित रूप से खेती में आत्मनिर्भरता का मार्ग प्रशस्त हो सकता है।

सरकारी सहायता

“गुजरात मस्टर्ड-8” के परिवर्तनकारी प्रभाव को पहचानते हुए, सरकार ने इस नवीन किस्म पर अपना पूरा जोर दिया है। किसानों को “गुजरात सरसों-8” को सफलतापूर्वक उगाने के लिए आवश्यक जानकारी और संसाधन प्रदान करने के लिए विभिन्न परियोजनाएं और योजनाएं शुरू की गई हैं। यह सरकारी समर्थन किसानों को खेती में आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ने और कृषि स्थिरता को बढ़ावा देने में सहायता करने के लिए तैयार है।

निष्कर्षतः, “गुजरात मस्टर्ड-8” एक गेम-चेंजिंग सरसों की किस्म है जो बंपर पैदावार देते हुए केवल 94 दिनों में पक जाती है। इसकी उच्च तेल सामग्री और कीटों और बीमारियों के प्रति प्रतिरोधक क्षमता इसे गुजरात और उसके बाहर के किसानों के लिए एक आकर्षक विकल्प बनाती है। सरकारी समर्थन और वैज्ञानिक समर्थन के साथ, यह किस्म किसानों के मुनाफे को बढ़ाने और कृषि समुदायों की आत्मनिर्भरता में योगदान देने का वादा करती है।

इसे भी पढ़े –

FAQs

1.) पकने के मामले में “गुजरात सरसों-8” पारंपरिक सरसों की किस्मों से कैसे तुलना करती है?

Ans:- पारंपरिक सरसों की किस्मों की लंबी पकने की अवधि की तुलना में, “गुजरात सरसों -8” केवल 94 दिनों में बहुत तेजी से पकती है।

2.) “गुजरात सरसों-8” की प्रति हेक्टेयर औसत उपज कितनी है?

Ans:- औसतन, “गुजरात मस्टर्ड-8” की प्रति हेक्टेयर प्रभावशाली 2791 किलोग्राम उपज होती है, जिससे किसानों को बंपर पैदावार मिलती है।

3.) “गुजरात सरसों-8” की तेल सामग्री अन्य सरसों किस्मों की तुलना में कैसी है?

Ans:-“गुजरात मस्टर्ड-8” में 38.39% तेल की मात्रा है, जो इसे तिलहन निष्कर्षण के लिए आर्थिक रूप से अधिक व्यवहार्य विकल्प बनाती है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !