Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

इस गांव की महिलाएँ कैसे खेती करके कमा रही 2500 रुपये रोज जानिए

इस गांव की महिलाएँ कैसे खेती करके कमा रही 2500 रुपये रोज जानिए –  बरेली के मध्य में स्थित हाफ़िज़गंज के शांत गाँव में, संकल्प और जुनून की एक उल्लेखनीय कहानी सामने आती है। सपनों से भरे दिल और एक उद्यमी की भावना वाली 45 वर्षीय महिला जगरानी से मिलें। एक गृहिणी से एक सफल लघु-स्तरीय उद्यमी बनने तक जगरानी की यात्रा इच्छाशक्ति और निरंतर संकल्प की शक्ति का प्रमाण है।

शुरुआत

जगरानी के जीवन में एक अप्रत्याशित मोड़ आया जब उन्हें अपने परिवार की आय में योगदान देने की आवश्यकता महसूस हुई। उनके पति एक मामूली रेडीमेड कपड़े की दुकान चलाते थे और जैसे-जैसे परिवार का खर्च बढ़ता गया, उन्होंने आय के वैकल्पिक स्रोत तलाशने का फैसला किया। यह उसके उद्यमशीलता साहसिक कार्य की शुरुआत थी।

‘नारी शक्ति’ का गठन

उद्यमिता की ओर जगरानी का पहला कदम ‘नारी शक्ति’ नामक एक स्वयं सहायता समूह का गठन था, एक ऐसा नाम जो महिलाओं के सशक्तिकरण को दर्शाता है। उन्होंने समूह में दस महिलाओं को जोड़ा और इसे राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनआरएलएम) के तहत पंजीकृत किया। यह उनकी आत्मनिर्भरता की यात्रा का आधार था।

मशरूम की खेती

अपने पास मौजूद 50 वर्ग मीटर ज़मीन के खाली टुकड़े के साथ, जगरानी ने मशरूम की खेती के लिए एक शेड स्थापित किया। इस निर्णय ने कृषि की दुनिया में उनके प्रवेश को चिह्नित किया। जगरानी का दृढ़ निश्चय और अपने सपनों को साकार करने की इच्छा इस नए उद्यम के पीछे प्रेरक शक्तियाँ थीं।

खेती में निवेश

अपने मशरूम सेटअप को बेहतर बनाने और उत्पादन बढ़ाने के लिए, जगरानी ने अपने स्वयं सहायता समूह के कॉमन फैसिलिटी सेंटर लोन (सीसीएल) से 1 लाख रुपये का निवेश किया। उन्हें अपने उद्यम की क्षमता पर विश्वास था और इसकी सफलता सुनिश्चित करने के लिए वह जोखिम उठाने को तैयार थीं। इस निवेश ने उज्जवल भविष्य का मार्ग प्रशस्त किया।

पीएमएफएमई योजना का लाभ

विकास की अपनी खोज में, जगरानी ने प्रधान मंत्री की माइक्रो फूड प्रोसेसिंग एंटरप्राइजेज (पीएमएफएमई) योजना के औपचारिककरण से 40,000 रुपये का ऋण लिया। इस वित्तीय प्रोत्साहन ने उनके मशरूम खेती कार्यों के विस्तार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। जगरानी के मशरूम की मांग बरेली से लेकर दिल्ली तक थी।

मशरुम की खेती से कमाई

जगरानी के दृढ़ निश्चय और अटूट जुनून का अच्छा फल मिला। वह अब मशरूम की खेती से प्रतिदिन लगभग 2500 रुपये कमाती हैं, जो उनके परिवार की आय में एक महत्वपूर्ण योगदान है। यह सफलता की कहानी इस बात का उदाहरण देती है कि कैसे लचीलापन और कड़ी मेहनत जीवन को बदल सकती है।

प्रधानमंत्री के साथ वर्चुअल बातचीत

3 नवंबर को, प्रधान मंत्री मोदी ने पीएमएफएमई योजना के तहत जगरानी के असाधारण काम पर ध्यान दिया। वह व्यक्तिगत रूप से उनके प्रयासों को स्वीकार करना चाहते थे और एक आभासी संवाद में शामिल होना चाहते थे। जगरानी इस प्रतिष्ठित अवसर के लिए चुनी गई उत्तर प्रदेश की चार महिलाओं में से एक थीं। यह उनके और उनके पूरे समुदाय के लिए गर्व का क्षण था।

भविष्य का सपना

जगरानी का सफर अभी खत्म नहीं हुआ है. मशरूम की खेती में उनकी सफलता ने उन्हें और विस्तार करने के लिए प्रेरित किया है। वह अब अपने मशरूम उत्पादन को बढ़ाने के लिए एक और शेड बनाने की प्रक्रिया में है, जो उसकी दृढ़ भावना का प्रमाण है।

इसे भी पढ़े:-

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !