Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

6 क्विंटल प्रति हेक्टेयर पैदावार देने वाली मेथी की उन्नत किस्मे

6 क्विंटल प्रति हेक्टेयर पैदावार देने वाली मेथी की उन्नत किस्मे – देशभर के किसानों पत्तेदार फसल मेथी की बुआई करते है, जो न केवल आर्थिक लाभ बल्कि अधिक पोषण भी प्रदान करती है। इस लेख में, हम मेथी की किस्मों के बारें मे जानेंगे, जिसमें शीर्ष पांच उन्नत किस्मों- पूसा कसूरी, आरएसटी 305, राजेंद्र क्रांति, एएफजी 2 और हिसार सोनाली मे सबसे अधिक उत्पादन कौन सी किस्त देती है।

उन्नत किस्में क्यों चुनें?

  • पारंपरिक मेथी की खेती के अपने फायदे हैं, लेकिन उन्नत किस्में एक उल्लेखनीय लाभ का वादा करती हैं – कम समय में प्रति एकड़ 6 क्विंटल तक उपज।
  • मेथी की लोकप्रियता इसकी समृद्ध प्रोटीन सामग्री, सूक्ष्म तत्वों और विटामिन के कारण है। ये पोषक तत्व बाजार में इसकी उच्च मांग में योगदान करते हैं, जिससे यह विभिन्न व्यंजनों में प्रमुख बन जाता है।

पूसा कसूरी

पूसा कसूरी, एक उल्लेखनीय किस्म है, जो देर से फूल आने के कारण पहचानी जाती है, जिससे बुआई के लगभग 5-6 दिन बाद फसल की देरी सुनिश्चित होती है। इसके छोटे आकार के बीज के बावजूद, किसान प्रति एकड़ 2.5 से 2.8 क्विंटल उपज की उम्मीद कर सकते हैं।

आर.एम.टी. 305

आर.एम.टी. 305 में त्वरित खाना पकाने के गुण और ख़स्ता फफूंदी और जड़ गाँठ नेमाटोड रोगों के प्रतिरोध का दावा किया गया है। इससे प्रति एकड़ लगभग 5.2 से 6 क्विंटल की पर्याप्त उपज प्राप्त होती है।

एएफजी 2:

एएफजी 2 किस्म की विशेषता चौड़ी पत्तियां हैं, जिससे किसान एक ही बुआई के बाद तीन बार इसकी कटाई कर सकते हैं। छोटे आकार के अनाज प्रति एकड़ 7.2 से 8 क्विंटल के प्रभावशाली उत्पादन में योगदान करते हैं।

राजेंद्र क्रांति

राजेंद्र क्रांति मेथी की एक सर्वोत्कृष्ट किस्म के रूप में उभरी है, जो लगभग 5 क्विंटल प्रति एकड़ का सराहनीय उत्पादन देती है। यह किस्म बुआई के लगभग 120 दिन बाद खेत में पक जाती है।

हिसार सोनाली

हिसार सोनाली किस्म केंद्र चरण में है, जो प्रति एकड़ 6 क्विंटल तक उपज देने में सक्षम है। इसकी अनूठी विशेषताएं न केवल पाक प्रसन्नता में योगदान देती हैं बल्कि सौंदर्य प्रसाधनों के उत्पादन में भी इसका उपयोग किया जाता है।

मेथी की बाजार मे मांग

इन उन्नत मेथी किस्मों से प्राप्त सौंदर्य प्रसाधनों की मांग उनके बाजार मूल्य को बढ़ाती है, जिससे किसानों को उनकी उपज के लिए आकर्षक मूल्य मिलना सुनिश्चित होता है। मेथी की मांग हमेशा बनी रहती है क्यो स्वास्थ के लिए बहुत लाभदाय होता है रोज लोग इसे सुबह पानी मे भीगो कर खाते  है।

निष्कर्ष

उन्नत मेथी किस्मों की खेती किसानों के लिए एक गेम-चेंजर है, जो बढ़ी हुई पैदावार, रोग प्रतिरोधक क्षमता और विविध अनुप्रयोगों की पेशकश करती है। पूसा कसूरी, आरएसटी 305, राजेंद्र क्रांति, एएफजी 2 और हिसार सोनाली को अपनाने से कृषि में सफलता के नए रास्ते खुलते दिखाई दे रहे हैं।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) क्या मैं मेथी की इन किस्मों की खेती किसी भी क्षेत्र में कर सकता हूँ?

Ans:- हां, ये किस्में विभिन्न क्षेत्रों के लिए अनुकूल हैं, जिससे व्यापक खेती सुनिश्चित होती है।

2.) क्या इन किस्मों में रोग प्रबंधन के लिए कोई विशेष सावधानियां हैं?

Ans:-हालांकि ये किस्में रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रदर्शित करती हैं, नियमित निगरानी और निवारक उपायों की सलाह दी जाती है।

3.) बुआई के बाद पूसा कसूरी में फूल आने में कितना समय लगता है?

Ans:-पूसा कसूरी में आमतौर पर देर से फूल आते हैं, बुआई के लगभग 5-6 दिन बाद फूल आते हैं।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !