Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

गोबर से पेंट बनाकर यहाँ कि महिलाओ का भविष्य बदला, सरकार कर रही इस योजना के जरिए मदद

गोबर से पेंट बनाकर यहाँ कि महिलाओ का भविष्य बदला, सरकार कर रही इस योजना के जरिए मदद – आज की तेजी से भागती दुनिया में, गाय का गोबर अपने पारंपरिक कृषि उपयोग से आगे निकल गया है और एक महत्वपूर्ण व्यावसायिक माध्यम के रूप में विकसित हुआ है। छत्तीसगढ़ राज्य एक उल्लेखनीय परिवर्तन का गवाह बन रहा है क्योंकि किसान और उद्यमी गाय के गोबर से संबंधित उद्यमों के माध्यम से पर्याप्त आय अर्जित कर रहे हैं।

छत्तीसगढ़ में गाय के गोबर का व्यवसाय

एक नये व्यवसाय की खोज

परंपरागत रूप से, गाय का गोबर कृषि उद्देश्यों के लिए खाद के रूप में काम करता है। हालाँकि, छत्तीसगढ़ एक नई राह तैयार कर रहा है। स्थानीय किसान गाय के गोबर को प्राकृतिक खेती में एक प्रमुख खिलाड़ी के रूप में नियोजित कर रहे हैं, जिसे सरकार की ‘न्याय योजना’ से बढ़ावा मिला है जो गाय के गोबर की खरीद को प्रोत्साहित करती है। यह बदलाव गाय के गोबर से कई मूल्यवान उत्पाद बनाने में सक्षम बना रहा है।

गाय के गोबर का उत्पाद

छत्तीसगढ़ अब गाय के गोबर को असंख्य उत्पादों में तब्दील होते देख रहा है। इसमे शामिल है:

1. गोबर की खाद: खेतों में खाद डालना

गोबर की खाद, गाय के गोबर को खाद में परिवर्तित करके प्राप्त उत्पाद, खेतों के लिए एक शक्तिशाली उर्वरक के रूप में उभरा है। यह मिट्टी के पोषण को समृद्ध करता है और फसल की पैदावार बढ़ाता है, टिकाऊ कृषि पद्धतियों में योगदान देता है।

2. गाय के गोबर से बना पेंट

गाय के गोबर से पेंट बनाने का व्यवसाय छत्तीसगढ़ में काफी जोर पकड़ चुका है। घरों की दीवारों पर इस अभिनव पेंट को लागू करके, निवासी घर के अंदर के तापमान को काफी कम करने में सक्षम हैं। यह पर्यावरण-अनुकूल पेंट न केवल ऊर्जा-कुशल है बल्कि इसकी अत्यधिक मांग भी है।

3. गाय के गोबर से बनी रचनाएँ

छत्तीसगढ़ के स्थानीय बाजारों में, मोमबत्तियाँ, मूर्तियाँ और बहुत कुछ जैसे गाय के गोबर आधारित उत्पाद अपनी छाप छोड़ रहे हैं। ये उत्पाद न केवल उद्यमिता को बढ़ावा दे रहे हैं बल्कि क्षेत्रीय शिल्प कौशल के संरक्षण में भी योगदान दे रहे हैं।

गाय के गोबर के व्यवसाय में सरकार की भूमिका

गाय के गोबर के व्यवसाय को प्रोत्साहन

छत्तीसगढ़ सरकार ने गोबर उद्योग को बढ़ावा देने के लिए प्रगतिशील कदम उठाए हैं। न्याय योजना के माध्यम से, सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में 2 रुपये प्रति किलोग्राम की निश्चित दर पर गाय के गोबर की खरीद को सक्रिय रूप से प्रोत्साहित कर रही है। यह पहल गाय के गोबर संग्रहण और उपयोग दोनों को प्रोत्साहित करती है।

पेंट उत्पादन में क्रांति लाना

सरकार का समर्थन खाद के साथ समाप्त नहीं होता है। छत्तीसगढ़ में गाय के गोबर से पेंट उत्पादन में वृद्धि देखी जा रही है। अधिकारी यह सुनिश्चित करने के लिए सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं कि गौशालाएं गाय के गोबर से बने पेंट के निर्माण के लिए सुरक्षित और उत्पादक स्थान बनें, जिससे इस नवीन उद्योग को और बढ़ावा मिले।

गाय के गोबर के व्यवसाय के फलते-फूलते परिणाम

छत्तीसगढ़ के किसान और उद्यमी गोबर के व्यवसाय से काफी लाभ उठा रहे हैं। कुछ उल्लेखनीय उदाहरणों में शामिल हैं:

1. बढ़ा हुआ कृषि लाभ

गोबर की खाद के उपयोग से कृषि उत्पादकता में वृद्धि हुई है। इससे किसानों को अधिक मुनाफा होता है क्योंकि मिट्टी की गुणवत्ता में सुधार के कारण उनकी फसलें फलती-फूलती हैं।

2. गाय के गोबर से पेंट की बढ़ती मांग

गाय के गोबर से बने पेंट की बढ़ती मांग उद्यमिता के लिए नए रास्ते पेश कर रही है। यह प्रवृत्ति न केवल आर्थिक विकास को बढ़ावा देती है बल्कि टिकाऊ और स्थानीय रूप से प्राप्त उत्पादों के उपयोग को भी बढ़ावा देती है।

3. स्थानीय अर्थव्यवस्था और शिल्प कौशल को बढ़ावा देना

विविध गोबर-आधारित उत्पादों का उद्भव स्थानीय शिल्प कौशल और अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित कर रहा है। यह क्षेत्र पारंपरिक कौशल को संरक्षित करते हुए प्रतिभाओं का पोषण कर रहा है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) ‘घरों को ठंडा करने में गाय के गोबर से पेंट कैसे काम करता है?

Ans:- गाय के गोबर का पेंट, जब दीवारों पर लगाया जाता है, तो प्राकृतिक इन्सुलेटर के रूप में कार्य करता है, गर्मी को दर्शाता है और इनडोर तापमान को कम करता है।

2.) गोबर की खाद से कृषि को क्या लाभ होता है?

Ans:- गाय के गोबर की खाद मिट्टी के पोषण को समृद्ध करती है, जिससे फसल उत्पादकता बढ़ती है और किसानों का मुनाफा बढ़ता है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !