Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

Mandi News Today In Hindi: चना व उड़द के भावो मे भंयकर तेजी, आवक मे हुई भारी कमी

Mandi News Today In Hindi: चना व उड़द के भावो मे भंयकर तेजी, आवक मे हुई भारी कमी – राजस्थान के कोटा के हलचल भरे शहर में मंडी में कृषि भावो मे उखल पूथल देखी गई, जिससे उद्योग जगत में हर कोई हैरान रह गया। यह कृषि बाज़ार व्यापारियों, किसानों और उपभोक्ताओं के लिए एक महत्वपूर्ण केंद्र रहा है। इस लेख में, हम कोटा मंडी में हाल के वस्तुओं की कीमतों और उपलब्धता के बारे में बहुमूल्य जानकारी प्रदान करेंगे।

चना की मांग

कई भारतीय घरों में मुख्य भोजन चना, 100 रुपये प्रति क्विंटल के उच्च मूल्य बिंदु के साथ ध्यान आकर्षित करता रहा। प्रोटीन से भरपूर इस दाल की मांग मजबूत बनी हुई है और इसकी कीमत उपभोक्ताओं और व्यापारियों के बीच इसकी लोकप्रियता को दर्शाती है।

उड़द की दाल 

अक्सर विभिन्न पाक व्यंजनों में उपयोग की जाने वाली उड़द की औसत कीमत 400 रुपये प्रति क्विंटल पर बरकरार रही। यह सुसंगत मूल्य निर्धारण बाजार में संतुलित आपूर्ति-मांग समीकरण का प्रतीक है।

धान मे मंदी

लाखों लोगों की जीविका का प्राथमिक स्रोत धान की बाजार गति धीमी रही और कीमतें 150 रुपये प्रति क्विंटल पर बनी रहीं। इस सुस्ती के लिए मौसमी उतार-चढ़ाव और उपभोक्ता प्राथमिकताएं जैसे कारक जिम्मेदार हो सकते हैं।

लहसुन के दाम

लहसुन की आवक 5500 कट्टे की रही, जिससे बाजार में उत्साह बढ़ गया। लहसुन के शौकीनों को खुशी हुई, क्योंकि यह 5000 रुपये से लेकर 14000 रुपये प्रति क्विंटल तक बिका। कीमतों में स्थिरता इस सुगंधित बल्ब के लिए एक अच्छी तरह से विनियमित बाजार का सुझाव देती है।

गेहूँ सरसो के दाम

  • गेहूं चमक: 2400 से 2475 रुपये
  • गेहूं औसत: 2450 से 2550 रुपये
  • गेहूं सर्वोत्तम: 2550 से 2571 रुपये
  • सोयाबीन नई: 3500 से 4450 रुपए
  • सरसों: 5000 से 5400 रुपये
  • ग्राम देसी बेस्ट: 5300 से 5800 रुपये

खाद्य तेल के दाम

खाद्य तेलों के दायरे में 15 किलो टिन की कीमतें इस प्रकार रहीं:

  • सोया रिफाइंड फॉर्च्यून: 1650 रुपये
  • चंबल: 1630 रुपये
  • सदाबहार: 1510 रुपये
  • लोकल रिफाइंड : 1430 रुपये
  • दीप ज्योति: 1535 रुपये
  • सरसों स्वास्तिक: 1880 रुपये
  • अलसी: 1980 रुपये

अन्य उल्लेखनीय कीमतें

  • मूगफली: ट्रक 3070 रुपए, स्वास्तिक निवाई 2730 रुपए, कोटा स्वास्तिक 2700 रुपए, सोना सिक्का 2780 रुपए प्रति टिन।
  • देसी घी: मिल्क फूड 7390 रुपए, कोटा फ्रेश 7280 रुपए, पारस 7350 रुपए, नोवा 7350 रुपए, अमूल 10100 रुपए, सरस 9400 रुपए, मधुसूदन 8100 रुपए प्रति टिन।
  • वनस्पति घी: स्कूटर 1420 रुपए, अशोका 1420 रुपए प्रति टिन।
  • चीनी: 4050 से 4080 रुपये प्रति क्विंटल।

चावल और दालें 

चावल और दालें, भारतीय व्यंजनों की रीढ़, एक विविध मूल्य सीमा प्रदर्शित करती हैं:

  • बासमती चावल: 6500-12500 रुपये
  • पौना: 6500-8500 रुपये
  • डबल पीस : 5500-7000 रुपये
  • पीस: 3800-4800 रुपये
  • गोल्डन बासमती साबुत: 8200-9700 रुपये
  • पौना: 4000-5000 रुपये
  • डबल पीस : 3000-3800 रुपये
  • कानी: 2500-3000 रुपये

तुअर, मूंग, उड़द, मसूर, चना दाल और पोहा सहित दालों ने उपभोक्ताओं के लिए 4000 रुपये से लेकर 5000 रुपये प्रति क्विंटल तक के कई विकल्प पेश किए।

कोटा सर्राफा बाजार

कोटा के सर्राफा बाजार की अपनी ही कहानी है। जहां चांदी की कीमतों में गिरावट देखी गई, वहीं सोने में तेजी बनी रही:

  • चांदी 100 रुपये की गिरावट के साथ 70,500 रुपये प्रति किलोग्राम बोली गई।
  • वहीं आभूषण सोना 200 रुपए की तेजी के साथ 59,500 रुपए प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया।

अंडा बाज़ार

कोटा के अंडा बाजार में फार्म अंडे की कीमत इस प्रकार थी:

  • 570 रुपये प्रति सैकड़ा
  • 180 रुपये प्रति प्लेट
  • 80 रुपये प्रति दर्जन

Also Read 

Mandi News 2023 : krishidost.com ने इस लेख मे आपके लिए Mandi News Today In Hindi के ताजा भाव क्या चल रहे है। इसके बारे में पुरी जानकारी दी है। यह भाव व्यापारियों तथा अन्य मिडिया स्त्रोत से लिए गये है। आप अपना आनाज भेचने से पहले मंडी समिती से भाव की पुष्टी जरुर करा ले। आशा करता हूँ की यह जानकारी आप के लिए उपयोगी रही होगी।

FAQs

1.) इंदौर मंडी में काबुली चने के दाम क्यों बढ़ रहे हैं?

Ans:- काबुली चने की कीमतों में बढ़ोतरी का कारण कम कीमतों पर बिकवाली की वापसी और आगामी त्योहारी सीजन के दौरान घरेलू मांग बढ़ने की उम्मीद को माना जा सकता है। इसके अतिरिक्त, निर्यातकों से खरीद मूल्य वृद्धि में योगदान दे रही है।

2.) कोटा मंडी में धान का बाजार मंदा क्यों है?

Ans:- मौसमी उतार-चढ़ाव और उपभोक्ता प्राथमिकताओं सहित विभिन्न कारकों के कारण धान बाजार की गति धीमी हो गई है।

3.) कोटा मंडी में चने की ऊंची कीमतों के पीछे क्या कारण हैं?

Ans:- मौसमी कारकों के साथ-साथ चने की उच्च मांग ने बाजार में इसकी ऊंची कीमतों में योगदान दिया है।

4.) कोटा के सर्राफा बाजार में चांदी की कीमतों में गिरावट क्यों आई जबकि सोने की कीमतें ऊंची रहीं?

Ans:- बाजार की गतिशीलता और निवेशकों की भावना से कीमती धातु की कीमतों में उतार-चढ़ाव हो सकता है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !