Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

अरहर की नई किस्म मात्र 120 दिन मे 20 क्विंटल पैदावार, किसानो को होगा डबल मुनाफा

अरहर की नई किस्म मात्र 120 दिन मे 20 क्विंटल पैदावार, किसानो को होगा डबल मुनाफा- अरहर भारत में एक आवश्यक फलीदार फसल है, जो लाखों लोगों के लिए प्रोटीन का एक मूल्यवान स्रोत प्रदान करती है। भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान ने पूसा-16 नामक अरहर की एक उल्लेखनीय नई किस्म की खोज की है, जो किसानों के लिए काफी लाभकारी हो सकती। इस लेख में, हम पूसा-16 की विशेषताओं, लाभों और खेती की तकनीकों के बारे मे जानगें, साथ ही खरीफ मौसम में इस फसल के महत्व के बारे मे भी डालेंगे।

अरहर की नई किस्म

ख़रीफ़ सीज़न के दौरान किसानों के सामने आने वाली चुनौतियों का समाधान करने के लिए अरहर की एक नई किस्म पूसा-16 विकसित की गई है। इसे कम समय मे पकाया जा सकता है, जिससे किसानों को अतिरिक्त फसलें बोने और उनके लाभ में वृद्धि का लाभ मिलता है।

पूसा-16 के फायदे

पूसा-16 के प्राथमिक लाभों में से एक केवल 120 दिनों की कम अवधि मे पूर्ण रुप से पककर तैयार होना। यह विशेषता किसानों को पहले फसल काटने में सक्षम बनाती है, जिससे अंतरफसल के लिए अवसर पैदा होता है और उनकी भूमि की क्षमता अधिकतम हो जाती है। इसके अतिरिक्त, यह किस्म जलभराव और फफूंदी रोगों के प्रति प्रतिरोधक क्षमता प्रदर्शित करती है, जिससे बेहतर फसल सुरक्षा और उपज सुनिश्चित होती है।

उपयुक्त मिट्टी और बुआई का समय

पूसा-16 बलुई दोमट मिट्टी में सबसे अच्छी तरह पनपती है, जिससे किसानों के लिए खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी का चयन करना आवश्यक हो जाता है। इस किस्म की बुआई का आदर्श समय जून से जुलाई के बीच है, जो कि ख़रीफ़ के मौसम के साथ बिल्कुल मेल खाता है।

बीजोपचार एवं बीज के बीच दूरी 

बीज बोने से पहले उन्हें थीरम और कार्बेन्डाजिम से उपचारित करना जरूरी है। यह उपचार फंगल रोगों को रोकने में मदद करता है और स्वस्थ अंकुर सुनिश्चित करता है। बीज बोने के लिए अनुशंसित दूरी पंक्तियों के बीच 30 सेमी और व्यक्तिगत पौधों के बीच 10 सेमी है।

प्रमाणित बीज आवश्यकताएँ

बढ़िया खेती के परिणाम प्राप्त करने के लिए, किसानों को पूसा-16 के प्रमाणित बीजों का चयन करना चाहिए और उन्हें 10-12 किलोग्राम प्रति एकड़ की दर से बोना चाहिए। उच्च गुणवत्ता वाले बीजों का उपयोग समान विकास और सफलता की उच्च संभावना सुनिश्चित करता है।

पूसा-16 की अन्य विशेषताएं

पूसा-16 में कई उल्लेखनीय विशेषताएं हैं जो इसे किसानों के लिए पसंदीदा विकल्प बनाती हैं:

  • मात्र 120 दिनों में पक कर तैयार होना।
  • जलभराव और फफूंदी रोगों के खिलाफ प्रतिरोध।
  • प्रति हेक्टेयर लगभग 20 क्विंटल की प्रभावशाली उपज।
  • बलुई दोमट मिट्टी में बुआई के लिए उपयुक्त।
  • दलहनी फसलों में उच्च घनत्व वाले रोपण की अनुमति देता है।

अरहर-16 की खेती के फायदे

पूसा-16 की खेती से किसान विभिन्न लाभ प्राप्त कर सकते हैं:

  • समय की बचत: इसकी कम अवधि  मे पकने के कारण, किसानों के पास अन्य फसलें बोने के लिए अधिक समय होता है, जिससे उनकी कृषि गतिविधियों में विविधता आती है।
  • उत्पादन में वृद्धि: पूसा-16 बेहतर विकसित फल प्रदान करता है, जिसके परिणामस्वरूप समग्र उत्पादन अधिक होता है।
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता: इस किस्म की फफूंदी रोगों के प्रति प्रतिरोधक क्षमता स्वस्थ पौधों और बढ़ी हुई उपज को सुनिश्चित करती है।
  • बेहतर आर्थिक स्थिति: बेहतर पैदावार और बढ़ा हुआ मुनाफा प्राप्त करके किसान अपनी वित्तीय स्थिरता को मजबूत कर सकते हैं।

खेती की तकनीक

पूसा-16 की सफल खेती के लिए किसानों को उपयुक्त तकनीक अपनानी चाहिए और बीज उपचार तथा फसल प्रबंधन पर विशेषज्ञ की सलाह लेनी चाहिए। फसल के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए नियमित सिंचाई और उर्वरकों का उचित उपयोग महत्वपूर्ण है।

स्वास्थ्य फसल सुनिश्चित करना

अच्छी फसल सुनिश्चित करने के लिए, किसानों को पूसा-16 फसल की जरूरतों पर पूरा ध्यान देना चाहिए। फसल को स्वस्थ और उत्पादक बनाए रखने के लिए पर्याप्त सिंचाई, उचित उर्वरक और समय पर कीट नियंत्रण आवश्यक कदम हैं।

किसानों के लिए एक उन्नत किस्म

पूसा-16 किसानों के जीवन को बदलने, उत्पादकता बढ़ाने और आर्थिक उत्थान की पेशकश करने की क्षमता रखता है। अपने त्वरित बदलाव के समय और प्रभावशाली उपज के साथ, यह किस्म पूरे भारत के किसानों के लिए एक उज्जवल और अधिक समृद्ध भविष्य की आशा जगाती है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) पूसा-16 को पक कर तैयार होने में कितना समय लगता है?

Ans:- पूसा-16 केवल 120 दिनों में पक जाती है, जिससे यह जल्दी उपज देने वाली किस्म बन जाती है।

2.) पूसा-16 की बुआई के लिए किस प्रकार की मिट्टी उपयुक्त है?

Ans:- पूसा-16 की बुआई के लिए बलुई दोमट मिट्टी आदर्श होती है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !