Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

मोबाइल वैन योजना को मिली हरी झंडी, अब मिलेगा प्याज 25 रुपये किलो तो दाल 60 रुपये किलो

मोबाइल वैन योजना को मिली हरी झंडी, अब मिलेगा प्याज 25 रुपये किलो तो दाल 60 रुपये किलो – आम जनता के लिए दालों और प्याज की सस्ती पहुंच सुनिश्चित करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम में, उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने एक अग्रणी परियोजना शुरू की है। इस पहल में 75 मोबाइल वैन की तैनाती शामिल है, जिसका उद्देश्य दिल्ली और इसके पड़ोसी क्षेत्रों में कम कीमत पर इन आवश्यक खाद्य पदार्थों को उपलब्ध कराना है। सरकार द्वारा ‘भारत दल’ करार दिया गया यह पायलट प्रोजेक्ट बढ़ती खाद्य कीमतों से जूझ रहे अनगिनत व्यक्तियों के जीवन में पर्याप्त बदलाव लाने का वादा करता है।

भारत दल’ का शुभारंभ 

आवश्यक खाद्य पदार्थों की बढ़ती कीमत पूरे भारत में नागरिकों के लिए चिंता का विषय रही है। ‘भारत दल’ का शुभारंभ इस संकट को कम करने के लिए सरकार द्वारा एक सक्रिय कदम का प्रतिनिधित्व करता है। मंत्री चौबे ने नेशनल कंज्यूमर कोऑपरेटिव फेडरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (एनसीसीएफ) कार्यालय में आयोजित उद्घाटन समारोह में बोलते हुए, लोगों के लिए महत्वपूर्ण खाद्य पदार्थों को ऐसी कीमतों पर उपलब्ध कराने के परियोजना के उद्देश्य पर जोर दिया जिससे उनके बजट पर बोझ न पड़े।

योजना के लाभार्थी

11 अगस्त को अपनी शुरुआत के बाद से, इस पहल के कारण आंध्र प्रदेश, असम, तेलंगाना, हिमाचल प्रदेश, ओडिशा, पंजाब, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, तमिलनाडु सहित 12 राज्यों के थोक बाजारों में 35,250 टन प्याज जारी किया गया है। चंडीगढ़, केरल और दिल्ली। उपभोक्ता मामलों के सचिव रोहित कुमार सिंह ने खुलासा किया कि सरकार प्याज की कीमतों को स्थिर करने के लिए प्रतिबद्ध है। इसे हासिल करने के लिए, उन्होंने थोक और खुदरा दोनों बाजारों में प्याज का बफर स्टॉक जारी करना शुरू कर दिया है।

बफ़र स्टॉक को बढ़ावा देना

प्याज की कीमतों में किसी भी तरह की बढ़ोतरी को रोकने के लिए, सरकार पहले ही अपने थोक बफर स्टॉक से 12 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को पर्याप्त मात्रा में प्याज जारी कर चुकी है, जो कुल 36,250 टन है। इसके अतिरिक्त, भारतीय राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन महासंघ लिमिटेड (NAFED) और राष्ट्रीय उपभोक्ता सहकारी महासंघ (NCCF) को 3 से 5 लाख टन अतिरिक्त प्याज खरीदने का काम सौंपा गया है। इस रणनीतिक कदम का उद्देश्य बफर स्टॉक को बढ़ाना है, जिससे अधिक स्थिर प्याज बाजार सुनिश्चित हो सके।

लोगों के लिए ‘अमृत का उपहार’

मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के इस पहल को ‘अमृत काल’ के दौरान ‘अमृत का उपहार’ बताया। सरकार देश भर में नागरिकों को लाभ पहुंचाने के लिए अन्य शहरों में भी इसी तरह की परियोजनाओं को लागू करने पर सक्रिय रूप से विचार कर रही है। यह प्रयास किफायती दरों पर रसोई की आवश्यक वस्तुएं उपलब्ध कराने के मंत्रालय के व्यापक दृष्टिकोण के अनुरूप है। इसके अलावा, सरकार का इरादा इस पहल में बाजरा जैसे अधिक खाद्य पदार्थों को शामिल करने का है। मौजूदा योजना के तहत, दालों की कीमत 60 रुपये प्रति किलोग्राम है, जबकि प्याज 25 रुपये प्रति किलोग्राम की बेहद सस्ती दर पर उपलब्ध है।

‘भारत दल’ पहल शुरू करने और सस्ती दालें और प्याज वितरित करने के लिए मोबाइल वैन तैनात करने का सरकार का निर्णय देश में खाद्य सामर्थ्य के गंभीर मुद्दे को संबोधित करने के लिए एक सराहनीय प्रयास है। उठाए गए सक्रिय कदमों से उम्मीद है कि आम आदमी पर बढ़ती खाद्य कीमतों का बोझ काफी हद तक कम हो जाएगा।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) मैं ‘भारत दल’ योजना तक कैसे पहुंच सकता हूं?

Ans:- “‘भारत दल’ योजना दिल्ली और इसके आसपास के क्षेत्रों में तैनात मोबाइल वैन के माध्यम से उपलब्ध है। अपने इलाके में इन वैनों पर नज़र रखें।

2.) “इस पहल के तहत दालों की कीमत क्या है?

Ans:- इस योजना के तहत दालों की कीमत 60 रुपये प्रति किलोग्राम है, जिससे वे उपभोक्ताओं के लिए बेहद सस्ती हो गई हैं।

3.) क्या यह पहल दिल्ली तक ही सीमित है, या इसे अन्य शहरों तक भी बढ़ाया जाएगा?

Ans:- सरकार इस पहल की पहुंच बढ़ाने के लिए अन्य शहरों में भी इसी तरह की परियोजनाएं लागू करने पर विचार कर रही है।

4.)  बफर स्टॉक के लिए अतिरिक्त प्याज खरीदने के लिए कौन जिम्मेदार है?

Ans:- भारतीय कृषि सहकारी विपणन एसोसिएशन लिमिटेड (NAFED) और राष्ट्रीय उपभोक्ता सहकारी एसोसिएशन (NCCF) को अतिरिक्त सामग्री का काम सौंपा गया है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !