Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

नवंबर मे गाजर की खेती करके एक बीघा से 400 क्विंटल का उत्पादन करें

नवंबर मे गाजर की खेती करके एक बीघा से 400 क्विंटल का उत्पादन करें – गाजर की खेती भारत में किसानों के लिए एक अच्छा पैसा कमाने मे मदद कर सकता है, जो कम लागत पर पर्याप्त मुनाफा देती है। ठंड के मौसम में पनपने वाली यह शीतकालीन फसल रबी और खरीफ दोनों मौसमों के लिए उपयुक्त है। यह लेख गाजर की वैज्ञानिक खेती पर नज़र डालता है, जिसमें उन्नत किस्मों, सिंचाई प्रथाओं, उर्वरक अनुप्रयोग और इस पौष्टिक सब्जी से जुड़े आर्थिक लाभों पर जोर दिया गया है। किसान भाई गाजर की खेती करने के लिए पुरी जानकारी पढ़े

गाजर की वैज्ञानिक खेती

बीज का चयन एवं बुआई का समय

  • गाजर की सफल फसल की कुंजी उचित बीज चयन और समय पर बुआई में निहित है।
  • रबी का मौसम, अगस्त से अक्टूबर तक, बुआई के लिए आदर्श समय है।

उपयुक्त जलवायु:

  • वैज्ञानिक रूप से सर्वोत्तम तरीके से गाजर की खेती करने के लिए कृषि विशेषज्ञों से परामर्श करना महत्वपूर्ण है।
  • शुरुआती गर्मियों से लेकर शरद ऋतु तक का ठंडा मौसम गाजर की खेती के लिए आदर्श जलवायु प्रदान करता है।

गाजर की उन्नत किस्में:

कई उन्नत किस्मों ने उच्च पैदावार और गुणवत्तापूर्ण उपज का प्रदर्शन किया है:

  • पूसा मेघाली
  • पूसा यमदागिनी
  • पूसा असिता
  • पूसा केसर
  • हिसार रसीली
  • गहरा 29
  • नांत

सिंचाई कब करें:

सही विकास और उपज सुनिश्चित करने के लिए गाजर की खेती के लिए उचित सिंचाई महत्वपूर्ण है:

  • पहली सिंचाई बीज रोपाई के तुरंत बाद करनी चाहिए.
  • ठंड के मौसम में हर 8-10 दिन में सिंचाई करें, जबकि गर्मियों में हर 4-5 दिन पर सिंचाई करें।

उर्वरक कितना डाले:

सही उर्वरक प्रयोग गाजर की वृद्धि और उपज में महत्वपूर्ण योगदान देता है:

  • पहली जुताई के बाद प्रति हेक्टेयर 30 गाड़ी गोबर डालें.
  • आखिरी जुताई के बाद रासायनिक उर्वरक के रूप में 30 किलोग्राम पोटाश और 30 किलोग्राम नाइट्रोजन प्रति हेक्टेयर डालें.
    गाजर की खेती के लाभ:

गाजर की खेती के फायदे:

  • गाजर की खेती आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण साबित होती है, जिससे पर्याप्त लाभ मिलता है।
  • न्यूनतम जल संसाधनों के साथ भी गाजर की खेती व्यवहार्य है, जो इसे किसानों के लिए एक स्थायी विकल्प बनाती है।
  • गाजर आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर है, जो आर्थिक और स्वास्थ्य दोनों लाभ प्रदान करती है।

गाजर की खेती से कमाई:

  • अनुमानित उपज: 300-400 क्विंटल प्रति हेक्टेयर.
  • बाजार मूल्य: 30-40 रुपये/किलो.
  • शुद्ध लाभ का अनुमान: 1 लाख रुपये के कृषि व्यय पर विचार करने के बाद भी, अपेक्षित शुद्ध लाभ लगभग 6 लाख रुपये है।

निष्कर्ष:

वैज्ञानिक तरीकों और उन्नत किस्मों के उपयोग से नवंबर मे गाजर की खेती किसानों के लिए एक आकर्षक और टिकाऊ उद्यम साबित होती है। गाजर के पोषण मूल्य के साथ मिलकर आर्थिक लाभ, इसे भारत के कृषि परिदृश्य में एक आकर्षक विकल्प बनाते हैं।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) गाजर बोने का सबसे अच्छा समय कब है?

Ans:- गाजर की बुआई रबी मौसम में अगस्त से अक्टूबर तक सबसे अच्छी होती है।

2.) गाजर की अनुशंसित उन्नत किस्में कौन सी हैं?

Ans:-अनुशंसित किस्मों में पूसा मेघाली, पूसा यमादागिनी, पूसा असिता और नैनटेस शामिल हैं।

3.) गाजर की सिंचाई कितनी बार करनी चाहिए?

Ans:- ठंड के मौसम में 8-10 दिन के अंतराल पर सिंचाई करें, जबकि गर्मियों में हर 4-5 दिन के अंतराल पर सिंचाई करें.

4.) गाजर का पोषण मूल्य क्या है?

Ans:- गाजर पोषण से भरपूर होती है, जो स्वास्थ्य के लिए आवश्यक आवश्यक विटामिन और खनिज प्रदान करती है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !