Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

शकरकंद का वैज्ञानिक नाम, फायदे, नुकसान, बनने वाले पकवान

शकरकंद का वैज्ञानिक नाम, scientific name of Sweet potato शकरकंद के फायदे, नुकसान, बनने वाले पकवान शकरकंद के नुकसान शकरकंद के फायदे और नुकसान शकरकंद खाने के फायदे व नुकसान शकरकंद की रेसिपी – शकरकंद एक सपुष्पक पौधा है इसका रूपांतरण जड़ में होता है शकरकंद का उत्पादन सबसे पहले अमेरिका देश में हुआ था इसके बाद यह अमेरिका से होते हुए फिलिपीन पहुंचा इसके बाद चीन, मलेशिया, भारत में आया। शकरकंद ऊर्जा का उत्तम आहार माना जाता है इसमें विटामिन ए और विटामिन सी की अधिक मात्रा पाई जाती है। आलू की अपेक्षा इस में स्टार्च की मात्रा अधिक होती है इसे उबालकर खाकर भी खाया जाता है। भारत में बिहार और उत्तर प्रदेश में इसकी खेती बहुत बड़े पैमाने पर की जाती है। शकरकंद का कई प्रकार से उपयोग होता है शकरकंद की सब्जी, अचार के साथ-साथ इसका आयुर्वेद में कई प्रकार की दवाइयों के रूप में उपयोग किया जाता है। जो शरीर में बहुत ही फायदेमंद होता है। आज हम इस लेख में आपको बताएंगे कि शकरकंद से शरीर में क्या क्या लाभ होता है। साथ ही साथ आप को बताएंगे की शकरकंद का वैज्ञानिक नाम, फायदे, नुकसान, बनने वाले पकवान। जो श्याद आप नही जानते होगें।

शकरकंद का वैज्ञानिक नाम एवं कुल (Sweet potato Scientific Name in Hindi )

  • शकरकंद का वैज्ञानिक नाम ईपोमोएआ बातातास ( Ipomoea batatas) है।
  • यह कॉन्वॉल्वुलेसी (Convolvulaceae – कोन्वोल्वूलाकेऐ) कुल का एक पौधा है।
  • इसके जड़ का रंग लाल अथवा भूरा होता है,
  • शकरकंद में विटामिन ए, और विटामिन सी, के साथ साथ कई पोषक तत्व पाए जाते हैं।
  • इसका स्वाद पकने के बाद मीटा होता है। लोग आसानी से खा सकते है।
  • इसके जड़ो का उपयोग औषधी के रूप में किया जाता है
  • शकरकंद की स्वादिष्ट सब्जी कैसे बनाई जाती है। आइये जानते हैं शकरकंद की रेसिपी के बारे में

शकरकंद की रेसिपी

शकरकंद तो लगभग सभी के घर में इस्तेमाल किया जाता है। शकरकंद सेहत के लिए अच्छा माना जाता है शकरकंद खाने से शरीर के कई रोग खत्म हो जाते है। शकरकंद का आम तौर पर लोग सब्जी, सलाद के रुप मे उपयोग करते है। आज हम आपको शकरकंद का हलवा की रेसिपी बनाना बताएंगे शकरकंद की स्वादिष्ट हलवा कैसे बनाये जिसके लिए आपको बहुत ज्यादा सामग्री जुटाने की जरूरत नहीं है और बहुत ही कम समय में गाजर की सब्जी बनाकर तैयार कर सकते है।

शकरकंद की हलवा बनाने के लिए सामान

  • शकरकंद
  • दूध
  • घी
  • चीनी
  • काजू
  • बादाम
  • किशमिश
  • इलायची पाउडर

शकरकंद का हलवा बनाने का आसान तरीका

  • शकरकंद का हलवा बनाने के लिए से पहले आपको एक कड़ाही में तेल को डालना है और हल्की आंच पर उसे गर्म करना है।
  • इसके बाद उसमें ऐसा कद्दूकस किया हुआ शकरकंद डालना है और 3 से 4 मिनट तक उसे अच्छे से पकाना है।
  • इसके बाद उसमें दूध को डालना है और अच्छी तरह से उसे मिलाकर हल्की आंच पर उबालना है।
  • जब मिश्रण उबलने लगे तो आच को कम कर दें और उसे थोड़ा गाढ़ा होने तक पकाएं लगभग 20 से 25 मिनट का समय के बाद हल्का चिपचिपा होने तक आपको ध्यान देना है।
  • और जब लगभग सारा दूध सूख जाए और मिश्रण पूरा तरह से गाढ़ा हो जाए तब उसे लगभग 5 से 7 मिनट तक और पकाना है।
  • और बीच में इसे चलाते रहे इसके बाद उसने काजू, किसमिस, चीनी डालें और अच्छी तरह से मिलाये। चीनी जब तक गल के मिल ना जाए चलाते रहे लगभग 3 से 4 मिनट तक समय लगेगा।
  • इसके बाद इलायची का पाउडर डालें, इसके बाद अपने गैस को बंद कर दे।
  • इस प्रकार से आप की स्वादिष्ट शकरकंद के हलवे की रेसिपी तैयार हो चुकी है इसे एक कटोरी में निकालें और बदाम के साथ सजाएं।

शकरकंद का उपयोग

शकरकंद का कई तरह से उपयोग किया जाता है जो कि हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। शकरकंद मे अधिक मात्रा मे औषधि गुण पाया जाता हैं। शकरकंद का स्वाद पकने के बाद मीटा होता है। शकरकंद को कच्चा खाएं या पका कर खाये दोनो हमारे लिए औषधि के रुप मे काम करता है। जो हमारे स्वास्थ्य को बेहतर करने में मदद करता है। इसमें कई प्रकार के पोषक तत्व भी पाए जाते हैं।

  • शकरकंद का उपयोग सब्जी के रूप में किया जाता है।
  •  कच्चे शकरकंद को पानी में उबालकर या आग में उसे भूनकर कर खाया जाता है देश में कई राज्य में इसे बहुत ही पसंद किया जाता है।
  • शकरकंद का उपयोग जूस बनाकर भी किया जाता है।
  • शकरकंद का सूप बनाकर भी ले सकते है।
  • शकरकंद का अचार भी बनाकर अधिक उपयोग किया जाता है।
  • शाम के समय शकरकंद का रायता बनाकर भी उपयोग किया जाता है।

चलिए आपको बताते हैं कि शकरकंद खाने से शरीर में किस प्रकार के फायदे और नुकसान होने है, दोनों के बारे में पूरी जानकारी देंगे तो आप हमारे साथ बने रहें और शकरकंद के बारे मे पूरी जानकारी नीचे प्राप्त करें।

इसे भी पढ़े:-

शकरकंद के फायदे (Benefits of Sweet potato in Hindi)

अगर आप भी शकरकंद नहीं खाते हैं तो यह पढ़ने के बाद आप जरूर शकरकंद खाना शुरू कर देंगे, क्योंकि शकरकंद में कई प्रकार के औषधि गुण पाए जाते हैं जो हमें स्वस्थ रखने के लिए काफी मदद करते हैं। जैसा कि हमने ऊपर बताया कि शकरकंद में कई प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं उसमें, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटैशियम, सोडियम, जिंक, कॉपर, सेलेनियम तथा के प्रोटीन भी पाए जाते हैं। शकरकंद बहुत ही फायदेमंद होता है। इसके बारे में पूरी जानकारी हम नीचे दे रहे है। आप इसे पुरा पढ़े

1. बालों के लिए शकरकंद के फायदें

शकरकंद में कई प्रकार के विटामिंस और मिनरल्स पाए जाते हैं जो हमारे बालों को स्वस्थ रखने में काफी मदद करते हैं इसमें विटामिन-ए, विटामिन-सी, कैल्शियम, आयरन, जिंक और बीटा-कैरोटिन की मात्रा अधिक होती है यह हमारे बालों को सेहतमंद बनाने में मदद करता है साथ ही साथ बालों को बढ़ने में भी मदद करता है। बाल बढ़ाने के उपाय में आप रोज शकरकंद का उपयोग कर सकते हैं या शकरकंद का एक गिलास जूस भी पी सकते हैं जिससे आपके बालों को बढ़ने में मदद मिलेगी।

2. त्वचा के लिए शकरकंद के फायदे

कई लोग सोचते हैं कि त्वचा के लिए शकरकंद खाने से क्या फायदा हो सकता है तो हम आपको बता दें कि त्वचा की खूबसूरती को बढ़ाने में मदद करता है शकरकंद में जेंथोफाइल्स (xanthophylls) भरपूर मात्रा में पाया जाता है यह एक प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट का कार्य करता है त्वचा को यूवी किरणों से होने वाली नुकसान से भी बचाता है और आपके दमकते हुए चेहरे को बनाए रखने में मदद करता है। शकरकंद में विटामिन-सी की भी अच्छी मात्रा पाई जाती है जो त्वचा को मुलायम रखता है। लेकिन यह कहा जा सकता है की शकरकंद त्वचा के लिए बहुत ही फायदेमंद है

3. गर्भावस्था मे शकरकंद के फायदेमंद

गर्भावस्था के दौरान शकरकंद का उपयोग करने से कई प्रकार की समस्या कम होती है क्योंकि शकरकंद में विटामिन-ए पाया जाता है विटामिन-ए की कमी अंधपन और गंभीर मामलों में मृत्यु तक का कारण बन सकता है शकरकंद में विटामिन-ए की अच्छी मात्रा पाई जाती है।। इसको बेहतर करने के लिए गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को शकरकंद का सेवन करना चाहिए। लेकिन खाने पहले डॉक्टर की सलाह जरुर लेना है।

4. मधुमेह मरीजो के लिए

मधुमेह रोगियों के लिए शकरकंद सबसे उत्तम आहार के रूप में माना जाता है क्योंकि चीन में हुए एक रिसर्च के अनुसार शकरकंद में पाए जाने वाले फ्लेवोनोइड रक्त में मौजूद ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित कर सकते हैं और शकरकंद में एंटीडायबिटिक गुण होते हैं, जो मधुमेह को नियंत्रित करने में मददगार हो सकते हैं इस समस्या को नियंत्रित करने या इस अवस्था से बचने में शकरकंद फायदेमंद हो सकती है।

5. मोटापा रोगियों के लिए शकरकंद

अगर किसी को अपना मोटापा कम करना है तो उसे सब्जियां और फल का प्रयोग करना चाहिए इसके पीछे का कारण होता है कि सब्जियों में फाइबर की मात्रा अधिक होती है और यह खाने को पचाने में मदद करता है और लंबे समय तक पेट भरे रहने का आपको अनुभव कराता है जिससे व्यक्ति कम खाना खाता है और उसका वजन धीरे-धीरे कम होता है शकरकंद एक ऐसी सब्जी है जिसमें फाइबर की मात्रा अधिक पाई जाती है और यह वजन घटाने में आपके लिए बहुत ही लाभदायक साबित हो सकता है और रिसर्च में पाया गया कि शकरकंद में एंटी ऑबेसिटी गुण पाए जाते हैं, जो बढ़ते हुए वजन को नियंत्रित कर मोटापे को कम करने में मदद कर सकते हैं

6. मस्तिष्क को अच्छा बनाने के लिए

मस्तिष्क को स्वस्थ रखने के लिए शकरकंद आपके लिए उपयोगी साबित हो सकता है इसलिए आपको शकरकंद का रोजाना उपयोग करना चाहिए शकरकंद के उपयोग करने से मस्तिष्क की कार्य क्षमता बढ़ती है एक रिसर्च के अनुसार मीठा आलू यानी शकरकंद याददाश्त और सीखने की क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है क्योंकि इसमें एंथोसायनिन नामक एक कंपाउंड पाया जाता है जो मौजूदा एंटीऑक्सीडेंट गुण ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को दूर करने में मदद करता है और दिमाग के कार्य करने की क्षमता को बढ़ाता है।

7. हड्डियों के लिए

शरीर में हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए कैल्शियम की अधिक आवश्यकता होती है हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए शकरकंद एक उपयोगी सब्जी या फल के रूप में उपयोग किया जा सकता है क्योंकि शकरकंद में कैल्शियम और मैग्नीशियम की अच्छी मात्रा पाई जाती है जो हमारे हड्डियों के विकास करने में मदद करती है और वह हमारे शरीर को मजबूत बना दी है शरीर में कैल्शियम और मैग्नीशियम की मात्रा ही हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करती है यह शकरकंद में भरपूर मात्रा में पाया जाता है इसलिए आपको शकरकंद का उपयोग करना चाहिए।

8. रक्तचाप मे शकरकंद के फायदे

हृदय रोग में उच्च रक्तचाप को नियंत्रण करना बहुत ही आवश्यक होता है हृदय रोग से बचना है तो आपको शकरकंद का उपयोग करना चाहिए क्योंकि शकरकंद में कई प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं शकरकंद में नाइट्रेट की मात्रा पाई जाती है यह रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करता है जिससे उच्च रक्तचाप नियंत्रित करने में मदद मिलती है यह पोटेशियम का भी अच्छा स्रोत होता है और पोटेशियम को भी उच्च रक्तचाप को कम करने के लिए प्रभावी बताया गया है।

9. बच्चो के लिए शकरकंद के लाभ

बच्चों को शकरकंद खिलाने से क्या लाभ होते हैं एक रिसर्च में पाया गया है कि बच्चों को विटामिन ए की कमी से कई प्रकार की बीमारियां होती हैं बच्चों में विटामिन ए की कमी को पूरा करने के लिए शकरकंद एक अच्छा उदाहरण हो सकता है इसके उपयोग करने से बच्चों में विटामिन ए की कमी को दूर किया जा सकता है और बच्चे स्वस्थ रह सकते हैं एक रिसर्च के अनुसार बच्चों खेलकूद मे ज्यादा समय तक एक्टिव नही रह पाने कारण विटामिन की कमी होता है। शकरकंद खिलाने से उनकी क्षमता बढ़ाती है और वह जल्दी नहीं थकते और उनका प्रदर्शन अपने खेल में अधिक होता है।

10. हृदय के लिए शकरकंद के फायदे

हृदय को स्वस्थ रखने के लिए शकरकंद का उपयोग करना चाहिए क्योंकि शकरकंद में कई प्रकार के विटामिंस जैसे पोटेशियम सोडियम और कैल्शियम सहित आदि पोषक तत्व अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं जो हृदय को स्वस्थ बनाने में मदद करते हैं शकरकंद में पाए जाने वाले पोषक तत्व ब्लड क्लोटिंग को रोकने में भी मदद करते हैं शकरकंद में एंथोसायनिडिंस (Anthocyanidins) नामक फ्लेवोनोइड पाया जाता है। यह फ्लेवोनोइड एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीकार्सिनोजेनिक जैसे गुणों से भरपूर होता है, जो हृदय रोगों से सुरक्षा करने में मददगार हो सकता है शकरकंद के जूस का सेवन करना चाहिए जो आपके हृदय के साथ-साथ अन्य रोगो मदद करता है और आपका शरीर स्वस्थ बनाता है।

शकरकंद के नुकसान (Side Effects of Sweet potato in Hindi)

शकरकंद का उपयोग अधिकत्तर सब्जी, सलाद के रुप मे उपयोग किया जाता है। इसका लोग अपनी पसंद के हिसाब से उपयोग करते हैं लेकिन कुछ परिस्थितियों में यह हमारे लिए हानिकारक हो सकता है इसलिए आपको शकरकंद का उतना ही उपयोग करना चाहिए, जिससे आप को कोई समस्याओं का सामना ना करना पड़े। शकरकंद के खाने से हमें फायदे और नुकसान दोनों होते हैं नीचे हमने शकरकंद के खाने से कुछ नुकसान के बारे में बताया है।

  • शकरकंद का जूस निकालकर पीना चाहिए। रखे हुए शकरकंद के जूस में बैक्टीरिया पनप सकते हैं। इसका सेवन पेट दर्द या उल्टी का कारण बन सकता है।
  • पैकेट बंद शकरकंद का जूस नही पीना चाहिए। इसमें मौजूद प्रिजर्वेटिव शरीर को फायदे की जगह नुकसान पहुंचा सकते हैं।
  • लो शुगर की समस्या है उन्हें इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह लेना चाहिए, क्योंकि इसमें ग्लूकोज को कम करने वाला गुण होता है, जो सेहत पर बुरा असर डाल सकता है।
  • कई लोगों में शकरकंद खाने से एलर्जी की समस्या देखी गई है कभी उनके शरीर पर त्वचा पर लाल, खुजलीदार और जलनशील चक्कते, सांस लेने में तकलीफ और आंखों व नाक में समस्या हो सकती है।

यहां हमने शकरकंद से संबंधित कुछ जानकारियां इस लेख में बताई हैं शकरकंद हम सब सामान्य रूप से सब्जी, सालद, जूस मे उपयोग करते हैं। लेकिन इसका अत्यधिक सेवन नहीं करना चाहिए जिससे कि किसी प्रकार की समस्या का कारण बने। अगर आपको किसी प्रकार की कोई समस्या होती है तो आप अपने डॉक्टर से सलाह लेकर ही उपयोग करें। आशा करता हूं कि आज हमने शकरकंद के बारे में जो आपको जानकारियां प्रदान की है वह आपके लिए काफी मददगार साबित हुई होंगी। ऐसे ही जानकारियों के लिए हमारे साथ जुड़े रहे। धन्यवाद

इसे भी पढ़े:-

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

1.) शकरकंद का वैज्ञानिक नाम और कुल क्या है ?

Answer:- शकरकंद का वैज्ञानिक नाम ईपोमोएआ बातातास ( Ipomoea batatas) है।

2.) बालों के लिए शकरकंद के क्या फायदे हैं?

Answer:- शकरकंद मे विटामिन-ए, विटामिन-सी, कैल्शियम, आयरन, जिंक और बीटा-कैरोटिन से भरपूर होते हैं, जो स्वस्थ बालों और बालों के विकास को बढ़ावा देने में मदद कर सकते हैं। रोजाना एक गिलास शकरकंद का जूस पीने या शकरकंद का उपयोग करने से ये फायदे मिल सकते हैं।

3.) क्या शकरकंद त्वचा मे सुधार करने में मदद कर सकता है?

Answer:- हां, शकरकंद में जेंथोफाइल्स (xanthophylls) भरपूर होते हैं, जो एक एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है और त्वचा को यूवी किरणों से होने वाले नुकसान से बचाने में मदद कर सकता है। वे एक चमकदार और मुलायम रंग बनाए रखने में भी मदद कर सकते हैं।

4.) शकरकंद गर्भावस्था के लिए कैसे फायदेमंद हो सकता है?

Answer:- गर्भावस्था के दौरान शकरकंद का उपयोग करने से कई प्रकार की समस्या कम होती है क्योंकि शकरकंद में विटामिन-ए पाया जाता है। गर्भावस्था के दौरान शकरकंद का सेवन यह सुनिश्चित करने में मदद कर सकता है कि माँ और बच्चे दोनों को महत्वपूर्ण पोषक तत्व मिल रहे हैं।

5.) क्या मधुमेह वाले लोगों के लिए शकरकंद एक अच्छा भोजन विकल्प है?

Answer:-हां, शकरकंद में पाए जाने वाले फ्लेवोनोइड रक्त में मौजूद ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित कर सकते हैं और शकरकंद में एंटीडायबिटिक गुण होते हैं।

6.) क्या मोटे व्यक्तियों के लिए शकरकंद वजन घटाने में सहायता कर सकता है?

Answer:- हां, गाजर में उच्च फाइबर सामग्री पाचन में सहायता कर सकती है। शकरकंद में एंटी ऑबेसिटी गुण पाए जाते है जो एक व्यक्ति को लंबे समय तक भरा हुआ महसूस कराती है। वेट लॉस डाइट में गाजर को शामिल करना फायदेमंद हो सकता है।

7.) बच्चो को शकरकंंद खिलाने के क्या लाभ होता है?

Answer:-एक रिसर्च में पाया गया है कि बच्चों को विटामिन ए की कमी से कई प्रकार की बीमारियां होती हैं बच्चों में विटामिन ए की कमी को पूरा करने के लिए शकरकंद एक अच्छा उदाहरण हो सकता है

8.) क्या शकरकंद खाने से हड्डियाँ मजबूत होती हैं?

Answer:- हां, शरीर में हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए कैल्शियम की अधिक आवश्यकता होती है क्योंकि शकरकंद में कैल्शियम और मैग्नीशियम की अच्छी मात्रा पाई जाती है जो हमारे हड्डियों के विकास करने में मदद करती है।

9.) क्या शकरकंद हृदय रोगियो के लिए मदद कर सकता है?

Answer:- हाँ, हृदय को स्वस्थ रखने के लिए शकरकंद का उपयोग करना चाहिए क्योंकि शकरकंद में कई प्रकार के विटामिंस जैसे पोटेशियम सोडियम और कैल्शियम सहित आदि पोषक तत्व अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं शकरकंद में एंथोसायनिडिंस (Anthocyanidins) नामक फ्लेवोनोइड पाया जाता है। यह फ्लेवोनोइड एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीकार्सिनोजेनिक जैसे गुणों से भरपूर होता है, जो हृदय रोगों से सुरक्षा करने में मददगार हो सकता है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !