Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

सोलर पावर ग्रिड योजना से किसानों की आय दोगुनी

सोलर पावर ग्रिड योजना से किसानों की आय दोगुनी- उत्तर प्रदेश में गैर-पारंपरिक ऊर्जा विकास एजेंसी ने किसानों की आय दोगुनी करने के उद्देश्य से एक विशेष योजना शुरू की है। यह पहल किसानों को ट्यूबवेलों पर सौर ऊर्जा ग्रिड स्थापित करने के लिए 90 प्रतिशत तक सब्सिडी की सुविधा प्रदान करती है। यह कार्यक्रम न केवल मुफ्त सिंचाई प्रदान करता है बल्कि किसानों को बिजली विभाग को उत्पादित अधिशेष बिजली बेचकर पैसा कमाने में भी सक्षम बनाता है।

सोलर पावर ग्रिड योजना 

उत्कर्ष सुरक्षा एवं उत्थान योजना NEDA द्वारा शुरू की गई एक आवश्यक योजना है। इसका उद्देश्य किसानों को उनके ट्यूबवेलों के लिए बिजली पैदा करने और उनकी फसलों को मुफ्त में सिंचाई करने में सक्षम बनाकर लाभान्वित करना है। इसके अलावा, किसानों के पास सौर ऊर्जा ग्रिड संयंत्रों से उत्पादित अधिशेष बिजली को सीधे उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन को बेचने का अवसर है। यह योजना न केवल किसानों की आय बढ़ाने में मदद करती है बल्कि उनकी आर्थिक स्थिति को भी मजबूत करती है।

सोलर पावर ग्रिड पर सब्सिडी

किसान उत्कर्ष सुरक्षा एवं उत्थान योजना के तहत, NEDA ट्यूबवेलों पर सौर ऊर्जा ग्रिड की स्थापना के लिए 90 प्रतिशत तक की सब्सिडी प्रदान करता है। यह पर्याप्त सब्सिडी किसानों पर वित्तीय बोझ को काफी कम करती है और उन्हें नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करती है। इस सब्सिडी का उपयोग करके, किसान सौर ऊर्जा पर स्विच कर सकते हैं और कम बिजली लागत से लाभ उठा सकते हैं।

बिजली विभाग को बिजली बेचना

सब्सिडी के अलावा, किसान सौर ऊर्जा ग्रिड संयंत्रों से उत्पन्न अतिरिक्त बिजली को सीधे बिजली विभाग को बेच सकते हैं। बिजली विभाग उत्पादित बिजली के लिए 3.58 पैसे प्रति यूनिट की दर प्रदान करता है। यह प्रावधान किसानों को सौर ऊर्जा की शक्ति का उपयोग करके और नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में योगदान करके अतिरिक्त आय अर्जित करने की अनुमति देता है।

योजना का लाभ कैसे प्राप्त करें

योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को अपना आवेदन परियोजना अधिकारी कार्यालय में जमा करना होगा। यह आवेदन प्रक्रिया सुनिश्चित करती है कि योजना “पहले आओ पहले पाओ” के आधार पर संचालित हो। इसके अतिरिक्त, किसानों के पास निजी ट्यूबवेल पर बिजली कनेक्शन होना चाहिए और इसे अपने संबंधित क्षेत्र में बिजली विभाग के जूनियर इंजीनियर (जेई) द्वारा प्रमाणित किया जाना चाहिए।

पहले आओ पहले पाओ योजना

“पहले आओ पहले पाओ” योजना सोलर पावर ग्रिड योजना का एक महत्वपूर्ण पहलू है। यह दृष्टिकोण सुनिश्चित करता है कि जो किसान जल्दी आवेदन करते हैं उनके पास योजना से लाभान्वित होने की अधिक संभावना है। यह किसानों को तुरंत कार्य करने और योजना द्वारा प्रदान की गई सब्सिडी और आय के अवसरों का लाभ उठाने के लिए प्रोत्साहित करता है।

किसानों की आय बढ़ाना

NEDA योजना किसानों के लिए स्थायी और निरंतर आय का एक महत्वपूर्ण स्रोत बन गई है। योजना का उपयोग करके, किसान अपने ट्यूबवेल के लिए बिजली पैदा कर सकते हैं और बिना किसी लागत के अपने खेतों की सिंचाई कर सकते हैं। इसके अलावा, बिजली वितरण कंपनियों को अतिरिक्त बिजली बेचने से किसानों को अपनी आय बढ़ाने में मदद मिलती है। यह योजना न केवल किसानों की आय बढ़ाने में योगदान देती है बल्कि पर्यावरणीय स्थिरता को बढ़ावा देने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

पर्यावरणीय प्रभाव और रोजगार के अवसर

सोलर पावर ग्रिड योजना को लागू करने से पर्यावरण पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। सिंचाई के लिए सौर ऊर्जा का उपयोग करके, किसान डीजल पर अपनी निर्भरता कम कर सकते हैं, जिससे कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन में कमी आएगी और वातावरण पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। इसके अतिरिक्त, यह योजना किसानों के लिए प्रत्यक्ष रोजगार के अवसर पैदा करती है, ग्रामीण विकास और आर्थिक विकास में योगदान देती है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) उत्कर्ष सुरक्षा एवं उत्थान योजना से किसान कैसे लाभ प्राप्त कर सकते हैं?

Ans:- किसान अपने ट्यूबवेल पर सौर ऊर्जा ग्रिड स्थापित करने के लिए 90 प्रतिशत तक की सब्सिडी प्राप्त करके योजना का लाभ उठा सकते हैं। वे अतिरिक्त आय अर्जित करके उत्पादित अतिरिक्त बिजली को बिजली विभाग को भी बेच सकते हैं।

2.) किसान इस योजना के लिए कैसे आवेदन कर सकते हैं?

Ans:- योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को अपना आवेदन परियोजना अधिकारी कार्यालय में जमा करना होगा। आवेदन प्रक्रिया का पालन करना और निजी ट्यूबवेल पर प्रमाणित बिजली कनेक्शन होना जरूरी है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !