Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

मटर की यह 5 किस्मे किसानो को देंगी बंम्पर उत्पादन, एक फसल मे डबल मुनाफा

मटर की यह 5 किस्मे किसानो को देंगी बंम्पर उत्पादन, एक फसल मे डबल मुनाफा – मटर की खेती सिर्फ एक पारंपरिक कृषि नही है यह एक लाभदायक उद्यम है जो मेहनती किसानों को अच्छा धन कमाने मदद करती है। मटर न केवल कई घरों में मुख्य भोजन के रूप में काम करता है, बल्कि उनका उपयोग जमे हुए खाद्य पदार्थों, डिब्बाबंदी और यहां तक कि पालतू भोजन उत्पादन के क्षेत्र तक भी फैला हुआ है। एक किसान के रूप में, मटर की खेती करके अच्छा लाभ कमा सकता है।

मटर की सही किस्मों का चुनाव

मटर की खेती में सफलता करने के लिए किस्मों के चयन सही होना जरुरी है। प्रत्येक क्षेत्र की अनूठी जलवायु, मिट्टी की संरचना और बढ़ती स्थितियाँ यह निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं कि मटर की कौन सी किस्में सर्वोत्तम परिणाम देंगी। उचित चयन के साथ, किसान अपनी उपज क्षमता को अनुकूलित कर सकते हैं, जिससे बेहतर वित्तीय लाभ हो सकता है।

उच्च पैदावार और मुनाफे के लिए मटर की यह 5 किस्मे

काशी उदय

मटर की सबसे अच्छी किस्म काशी उदय किस्म है, जो उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड राज्यों के लिए आदर्श रूप से उपयुक्त है। 9-10 सेमी की फली की लंबाई के साथ, इसकी उपज 42 क्विंटल प्रति एकड़ है, जो इसे उच्च उत्पादकता चाहने वाले किसानों के लिए एक शानदार विकल्प बनाती है।

काशी प्रारंभिक

जो लोग छोटे खेती चक्र को प्राथमिकता देते हैं, उनके लिए काशी अर्ली किस्म खुद को एक इष्टतम विकल्प के रूप में प्रस्तुत करती है। केवल 50 दिनों में तैयार होने वाली यह किस्म प्रति एकड़ लगभग 38-40 क्विंटल उपज देती है, जिससे मुनाफा कमाने में तेजी आती है।

काशी नंदिनी

काशी नंदिनी किस्म विभिन्न राज्यों में अपनी अनुकूलनशीलता में चमकती है। प्रति एकड़ 44-48 क्विंटल की प्रभावशाली उपज सीमा के साथ, इसने लगातार और प्रचुर उपज चाहने वाले किसानों के लिए शीर्ष दावेदारों में अपनी जगह बना ली है।

काशी मुक्ति

काशी मुक्ति किस्म जो बिहार, झारखंड और पंजाब राज्यों में फल-फूल रही है। प्रति एकड़ 46 क्विंटल की उपज के साथ, इसने न केवल स्थानीय स्तर पर बल्कि विदेशों में भी ध्यान आकर्षित किया है।

पंत मटर 155

पंत मटर 155 किस्म अपनी असाधारण उपज क्षमता के कारण सबसे अलग है। हरी फलियों के लिए 50-60 दिनों के बाद कटाई योग्य, यह विभिन्न रोगों के खिलाफ प्रतिरोध का भी दावा करती है, संक्रमण के कारण उपज के नुकसान के जोखिम को कम करती है।

मटर की खेती कैसे करें

मिट्टी तैयार करना

बीज बोने से पहले मिट्टी को पर्याप्त रूप से तैयार करना अनिवार्य है। खरीफ मौसम की फसल की कटाई के बाद खेत की अच्छी तरह जुताई करें। एक समान बीज अंकुरण सुनिश्चित करने के लिए भूमि को समतल करें, जिससे मटर की स्वस्थ वृद्धि के लिए इष्टतम वातावरण तैयार हो सके।

बीज बोना

मटर की भरपूर फसल प्राप्त करना उचित बीज रोपण से शुरू होता है। बीज को 30×50 सेमी की दूरी बनाए रखते हुए 2-3 सेमी की गहराई पर बोएं। एक हेक्टेयर के लिए लगभग 35-40 किलोग्राम बीज की आवश्यकता के साथ, सावधानीपूर्वक योजना इष्टतम पौध घनत्व सुनिश्चित करती है।

आदर्श जलवायु परिस्थितियों को बनाए रखना

मटर की खेती की सफलता उपयुक्त तापमान स्थिति बनाए रखने पर निर्भर करती है। जबकि मटर 10-18 डिग्री सेल्सियस के इष्टतम तापमान सीमा के भीतर फलता-फूलता है, सफल अंकुरण के लिए 20-22 डिग्री सेल्सियस का तापमान महत्वपूर्ण है। तापमान की निगरानी और विनियमन पौधों की मजबूत वृद्धि में योगदान देता है।

पर्याप्त एवं समय पर सिंचाई उपलब्ध कराना

मटर की खेती के लिए उचित सिंचाई बहुत जरूरी है। पहली सिंचाई फूल आने से पहले करें और उसके बाद दूसरी सिंचाई फल लगने के बाद करें। लगातार और समय पर सिंचाई से पौधों का स्वस्थ विकास सुनिश्चित होता है और उच्च पैदावार को बढ़ावा मिलता है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) क्या मटर की खेती एक लाभदायक प्रयास है?

Ans:- हां, किस्मों के सही चयन और प्रभावी कृषि तकनीकों के साथ, मटर की खेती किसानों को पर्याप्त मुनाफा दिला सकती है।

2.) मटर की खेती की कमाई को कौन से कारक प्रभावित करते हैं?

Ans:- खेती कौशल, मिट्टी की गुणवत्ता, जलवायु की स्थिति और बाजार की मांग मटर की खेती से होने वाली कमाई को प्रभावित करने वाले महत्वपूर्ण कारक हैं।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !