Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

धान की यह किस्म किसानो की बदलेगी किस्मत, होगा बंम्पर पैदावार

धान की यह किस्म किसानो की बदलेगी किस्मत, होगा बंम्पर पैदावार :- भारत, चीन, जापान, पाकिस्तान और बांग्लादेश सहित कई एशियाई देशों में धान की खेती एक बड़े पैमाने पर की जाती है। इन देशों में, भारत दुनिया में धान का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक देश है, लेकिन पारंपरिक खेती के तरीकों के निरंतर उपयोग के कारण इसका उत्पादन उतना नहीं बढ़ रहा है। पैदावार और लाभ बढ़ाने के लिए भारतीय किसानों को आधुनिक खेती तकनीकों को अपनाने और धान की उन्नत किस्मों का चयन करने की आवश्यकता है। इस लेख में, हम धान की कुछ ऐसी किस्मों के बारे मे बताएंगे जो किसानों के लिए बंपर पैदावार के साथ अच्छा मुनाफ दे सकती है।

धान की खेती पूरे एशिया में एक महत्वपूर्ण खेती के रुप मे जाना जाता है। भारत में किसानों ने पारंपरिक खेती के तरीकों पर आज भी खेती करते चले आ रहे है। जो कन्ही ना कन्ही किसानो के पैदावार और मुनाफे को कम करता है। इस समस्या के समाधान के लिए, किसानों को आधुनिक तकनीकों को अपनाना चाहिए और धान की उन्नत किस्मों की खेती करनी चाहिए। ऐसा करके वह अपनी पैदावार और मुनाफा दोनो कमा सकते है।

धान की उन्नत किस्मे

अधिक पैदावार और गुणवत्ता वाले बासमती चावल के निर्यात के लिए भारत की हमेशा मे विश्व मे प्रथम स्थान पर रहा है। हालाँकि मांग को बनाए रखने और अच्छा लाभ प्राप्त करने के लिए देश में खेती के नये तरीकों को विकसित करने की आवश्यकता है। किसानों को उन्नत धान की किस्मों को अपनाने की जरूरत है जो अधिक पैदावार, रोग प्रतिरोधक क्षमता और कम विकास चक्र प्रदान करती हैं। ये किस्में न केवल बाजार की मांग को पूरा करती हैं बल्कि किसानों को अधिक मुनाफा भी देती है।

पन्त धान-12

पंत कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के सहयोग से भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा विकसित धान की उन्नत किस्म पंत धान-12 किसानों के लिए एक अच्छा विकल्प है। यह अर्ध-बौनी किस्म केवल 110-115 दिनों में पक जाती है, जिसे पकाने के लिए कम समय की आवश्यकता होती है। प्रति हेक्टेयर 7-8 टन की उपज के साथ, पंत धान-12 बंपर पैदावार और पर्याप्त लाभ देती है।

पूसा-1401 बासमती

पूसा-1401 बासमती यह धान आईएआरआई के सहयोग से भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा विकसित एक उन्नत किस्म है जो अर्ध-बौनी बासमती किस्म है। यह 120 से 140 दिनों में पक जाता है जिससे किसान बंपर पैदावार ले सकते हैं। सिंचित क्षेत्रों के लिए उपयुक्त खेती क्षमता के साथ पूसा-1401 बासमती प्रति हेक्टेयर 4 से 5 टन पैदावार दे सकता है जिससे किसानों को पर्याप्त लाभ मिलता है।

कावुनी सह-57

तमिलनाडु कृषि विश्वविद्यालय द्वारा विकसित उन्नत किस्म कावुनी को-57 अपनी अधिक उपज के लिए जानी जाती है। काले चावल की यह किस्म सामान्य धान की तुलना में दोगुनी उपज देती है, जिससे यह किसानों के लिए एक अच्छा विकल्प बन जाती है। पारंपरिक किस्मों से 100% बेहतर रोग-विरोधी क्षमता के साथ, कावुनी को-57 एक स्वस्थ फसल सुनिश्चित करता है। किसान पूरे साल इसकी खेती कर सकते हैं और प्रति हेक्टेयर 4600 किलोग्राम उपज की उम्मीद कर सकते हैं।

पूसा 1460

पूसा 1460 को धान की सर्वोत्तम किस्मों में से एक माना जाता है। इसमें पतले और छोटे चावल के दाने होते हैं, जो अपने बेहतरीन स्वाद के लिए जाने जाते हैं। 120 से 125 दिनों की अवधि के साथ, किसान उत्पादक उपज के लिए पूसा 1460 धान की कटाई कर सकते हैं। इस किस्म की उत्पादन क्षमता 50 से 55 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है, जिससे किसानों को पर्याप्त कमाई होती है।

भारत में किसानों के लिए अधिक पैदावार और लाभ प्राप्त करने के लिए धान की उन्नत किस्मों की खेती करना चाहिए है। और पुराने तरीके को छोड़कर आधुनिक तकनीक अपनाकर पंत धान-12, पूसा-1401 बासमती, कावुनी सह-57 और पूसा 1460 जैसी किस्मों की खेती करके किसान अपने धान के उत्पादन में अधिक पैदावार प्राप्त कर सकते है और अपने मुनाफे को दोगुना कर सकते हैं। किसानों के लिए इन उन्नत किस्मों को अपनाना और भारत में कृषि क्षेत्र के विकास में योगदान देना आवश्यक है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs:-

1.) धान की कौन सी किस्म अपनी अधिक गुणवत्ता के लिए जानी जाती है?

Ans:- बासमती चावल, विशेष रूप से उन्नत किस्म पूसा-1401 बासमती, अपनी निर्यात गुणवत्ता के लिए प्रसिद्ध है।

2.) पंत धान-12 को पूर्ण रुप से पकने मे कितना समय लगता है?

Ans:- पंत धान-12 लगभग 110-115 दिनों में पूर्ण रुप से पक जाता है, जिससे यह किसानों के लिए एक अच्छा विकल्प बन जाता है।

3.) क्या धान की उन्नत किस्में भारत के सभी क्षेत्रों के लिए उपयुक्त हैं?

Ans:-हाँ, धान की उन्नत किस्मों की खेती भारत के विभिन्न क्षेत्रों में की जा सकती है, हालाँकि कुछ किस्मों कुल अगल क्षेत्रो के लिए आवश्यकताएँ होती हैं।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !