Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

इस साल गेहूँ की यह किस्म हुई किसानो मे मशहूर, बीज की कमी हुई

इस साल गेहूँ की यह किस्म हुई किसानो मे मशहूर, बीज की कमी हुई – कृषि की दुनिया में एक नये विकास में, पंजाब कृषि विश्वविद्यालय (पीएयू) ने हाल ही में एक क्रांतिकारी गेहूं किस्म का अनावरण किया है जिसे ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ के नाम से जाना जाता है। गेहूं की यह नई किस्म क्षेत्र के किसानों के दिलों को लुभाते हुए, चपाती बनाने की कला को बदलने के लिए तैयार है। गेहूं की अन्य किस्मों की तुलना में थोड़ी कम उपज होने के बावजूद, ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ किसानों के बीच एक धमाल मचा रही है, जिसके आश्चर्यजनक 300 क्विंटल बीज पहले ही किसान मेलों और कृषि विज्ञान केंद्रों में बिक चुके हैं। इसकी लोकप्रियता का मुख्य कारण इसके द्वारा उत्पादित नरम, मीठी और स्वादिष्ट चपाती बताया जा रहा है।

पीबीडब्ल्यू-1 चपाती का जादू

‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ सिर्फ गेहूं से कहीं अधिक है; यह चपाती बनाने की दुनिया में गेम-चेंजर है। अपने उल्लेखनीय गुणों के साथ, इसने पाक कला की दुनिया में तूफान ला दिया है। गेहूं की इस असाधारण किस्म में मोटे अनाज और 12.13 प्रतिशत की प्रभावशाली प्रोटीन सामग्री होती है, जो इसे उन लोगों के लिए एक उत्कृष्ट विकल्प बनाती है जो अपने दैनिक भोजन में पोषण मूल्य को प्राथमिकता देते हैं। जब मीठी और मुलायम चपाती बनाने की बात आती है, तो ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ पारंपरिक ‘देसी गेहूं’ को भी मात देती है।

‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ का आकर्षण

जो चीज़ ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ को वास्तव में असाधारण बनाती है, वह लंबे समय तक पकाने के बाद भी अपनी सफेदी बरकरार रखने की क्षमता है। इस गेहूं की किस्म से बनी चपाती में मिठास और कोमलता होती है जो तवे से उतरने के बाद भी लंबे समय तक बनी रहती है। अतीत में, लंबी गेहूं की किस्म सी306 ने चपाती की गुणवत्ता के लिए स्वर्ण मानक स्थापित किया था, और पीएयू ने बाद में पीबीडब्ल्यू 175 पेश किया, जिसने चपाती बनाने के अनुभव को और बढ़ाया। अब, ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ के साथ, पीएयू उत्कृष्टता की इस परंपरा को नई ऊंचाइयों पर ले जाता है, और चपाती प्रेमियों को एक अनोखा और आनंददायक अनुभव प्रदान करता है।

पीएयू का समर्पण

‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ की शुरूआत कृषि पद्धतियों को आगे बढ़ाने और किसानों को नवीन समाधान प्रदान करने के लिए पंजाब कृषि विश्वविद्यालय के अटूट समर्पण का एक प्रमाण है। जैसे-जैसे रबी का मौसम नजदीक आता है, किसान और उपभोक्ता दोनों उत्सुकता से उस सुखद बदलाव का इंतजार करते हैं जो ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ उनके खाने की मेज पर लाने का वादा करता है।

निष्कर्ष

कृषि की दुनिया में नवाचार की कोई सीमा नहीं है और पंजाब कृषि विश्वविद्यालय की ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ प्रगति की उस भावना का प्रमाण है। गेहूं की इस उल्लेखनीय किस्म ने न केवल किसानों का ध्यान आकर्षित किया है, बल्कि उन पाक प्रेमियों का भी ध्यान आकर्षित किया है जो चपाती बनाने और उसका आनंद लेने की कला का आनंद लेते हैं। अपने अनूठे गुणों और असाधारण पोषण सामग्री के साथ, ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ इस क्षेत्र में चपाती बनाने में क्रांति लाने के लिए तैयार है, जो पाक परिदृश्य पर एक स्थायी छाप छोड़ने का वादा करता है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) . ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ क्या है और यह गेहूं की अन्य किस्मों से कैसे भिन्न है?

Ans:- ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ पंजाब कृषि विश्वविद्यालय (पीएयू) द्वारा विशेष रूप से नरम, मीठी और स्वादिष्ट चपाती बनाने के लिए विकसित गेहूं की एक नई किस्म है। यह अपनी उच्च प्रोटीन सामग्री और लंबे समय तक पकाने के बाद भी सफेद, मीठी और नरम चपाती बनाने की क्षमता के लिए जाना जाता है।

2.) ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ किसानों को कैसे मिली है?

Ans:- गेहूं की अन्य किस्मों की तुलना में थोड़ी कम उपज होने के बावजूद, ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ ने क्षेत्र के किसानों के बीच काफी लोकप्रियता हासिल की है, जिसके 300 क्विंटल बीज पहले ही किसान मेलों और कृषि विज्ञान केंद्रों में बिक चुके हैं।

3.) ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ की तुलना ‘देसी गेहूं’ जैसी पारंपरिक गेहूं की किस्मों से कैसे की जाती है?

Ans:- ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ मीठी और नरम चपाती बनाने में पारंपरिक ‘देसी गेहूं’ के मुकाबले अपनी पकड़ बनाए रख सकती है और लंबे समय तक पकाने के बाद भी इसकी सफेदी बरकरार रहती है।

4.) कृषि पद्धतियों को आगे बढ़ाने में ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ का क्या महत्व है?

Ans:- पंजाब कृषि विश्वविद्यालय (पीएयू) द्वारा ‘पीबीडब्ल्यू-1 चपाती’ की शुरूआत कृषि पद्धतियों को आगे बढ़ाने और किसानों को नवीन समाधान प्रदान करने के प्रति उनके समर्पण का प्रमाण है, जो आगामी रबी सीजन में एक सुखद बदलाव का वादा करता है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !