Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

पीएम किसान की किस्त से पहले कृषि मंत्री का बड़ा ऐलान किसान खुश

पीएम किसान की किस्त से पहले कृषि मंत्री का बड़ा ऐलान किसान खुश:- कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने हाल ही में पीएम किसान सम्मान निधि योजना से संबंध में एक महत्वपूर्ण घोषणा की। केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना का उद्देश्य देशभर के किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान करना है। ई-केवाईसी प्रक्रिया को सही रूप से पूरा करने को सुनिश्चित करने के लिए, सरकार ने एक नई सुविधा शुरू की है जो किसानों को चेहरे के प्रमाणीकरण के माध्यम से अपना ई-केवाईसी पूरा करने की अनुमति देती है।

पीएम किसान सम्मान निधि योजना

छोटे और सीमांत किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के उद्देश्य से दिसंबर 2018 में पीएम किसान सम्मान निधि योजना शुरू की गई थी। इस योजना के तहत, पात्र किसानों को सालाना 6,000 रुपये का वित्तीय लाभ मिलता है, जिसका भुगतान 2,000 रुपये की तीन समान किस्तों में किया जाता है। इस योजना का उद्देश्य किसानों की वित्तीय स्थिरता सुनिश्चित करना और उनके आर्थिक बोझ को कम करना है।

ई-केवाईसी पूरा करने पर जोर

पीएम किसान योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए किसानों को ई-केवाईसी प्रक्रिया पूरी करनी होगी। पहले, जो किसान अपना ई-केवाईसी पूरा नहीं करते थे, वे योजना की किस्तों के लिए पात्र नहीं थे। हालाँकि, सरकार के प्रयासों के बावजूद, कई किसान अभी भी अपना ई-केवाईसी पूरा नहीं कर पाए हैं। इस समस्या के समाधान के लिए राज्य सरकारों के सहयोग से एक विशेष अभियान शुरू किया गया है।

चेहरे से होगा ई-केवाईसी पूरा

परंपरागत रूप से, किसान अपनी ई-केवाईसी प्रक्रिया को ओटीपी (वन-टाइम पासवर्ड) या फिंगरप्रिंट सत्यापन के माध्यम से पूरा कर सकते हैं। हालाँकि, ई-केवाईसी प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए ‘फेस ऑथेंटिकेशन’ नामक एक नई विधि शुरू की गई है। जिन किसानों ने पीएम किसान योजना के तहत पंजीकरण कराया है, वे अब ओटीपी या फिंगरप्रिंट सत्यापन की आवश्यकता के बिना अपना चेहरा स्कैन करके अपना ई-केवाईसी पूरा कर सकते हैं। यह सुविधा पीएम-किसान मोबाइल एप्लिकेशन पर उपलब्ध है।

14वीं किस्त कब आयेगा

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसानों को प्रति वर्ष 6,000 रुपये का वित्तीय लाभ मिलता है। यह राशि 2,000 रुपये की तीन बराबर किस्तों में वितरित की जाती है। यह योजना 8.1 करोड़ से अधिक किसानों तक पहुंचने में सफल रही है, 13वीं किस्त का भुगतान पहले ही किया जा चुका है। देशभर के किसान 14वीं किस्त का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं, जिसके जून के अंत तक उनके खातों में पहुंचने की उम्मीद है।

पीएम किसान योजना ऐप पर क्या सुविधाएँ मिलती है

पीएम किसान योजना ऐप पर कई सुविधाएं प्रदान करता है जो किसानों को महत्वपूर्ण जानकारी और सेवाओं तक पहुंचने में सक्षम बनाता है। ऐप पर ‘नो यूजर स्टेटस मॉड्यूल’ के माध्यम से, किसान अपनी भूमि की बुआई की स्थिति, अपने आधार को बैंक खातों से जोड़ने और अपनी ई-केवाईसी स्थिति की जांच कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त, कृषि मंत्रालय ने लाभार्थियों के लिए उनके दरवाजे पर आधार-लिंक्ड बैंक खाते खोलने की सुविधा के लिए इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक (आईपीपीबी) के साथ साझेदारी की है।

चेहरे के माध्यम से ई-केवाईसी को पूरा करने के संबंध में कृषि मंत्री की घोषणा पीएम किसान सम्मान निधि योजना के कार्य को सुनिश्चित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। सत्यापन प्रक्रिया को सरल बनाने से अधिक किसान इस योजना से लाभान्वित हो सकेंगे और उन्हें आवश्यक वित्तीय सहायता प्राप्त हो सकेगी। किसानों तक पहुंचने और राज्य सरकारों के साथ सहयोग करने के सरकार के प्रयास कृषि समुदाय के कल्याण के प्रति उनकी प्रतिबद्धता को दर्शाते हैं।

इसे भी पढ़े:-

FAQs:-

Q : पीएम किसान सम्मान निधि योजना क्या है?

Ans : पीएम किसान सम्मान निधि योजना एक सरकारी योजना है जिसका उद्देश्य भारत में छोटे और सीमांत किसानों को आर्थिक रुप से सहायता प्रदान करना है। पात्र किसानों को प्रति वर्ष 6,000 रुपये का वित्तीय लाभ मिलता है।।

Q : ई-केवाईसी क्या है और यह पीएम किसान योजना के लिए क्यों महत्वपूर्ण है?

Ans : ई-केवाईसी का मतलब है सही किसानो की पहचान करना , जो व्यक्तियों की पहचान को प्रमाणित करने के लिए एक सत्यापन प्रक्रिया है। पीएम किसान योजना का लाभ पाने के लिए किसानों के लिए ई-केवाईसी पूरा करना जरूरी है।

Q : किसान चेहरे से अपना ई-केवाईसी कैसे पूरा कर सकते हैं?

Ans : पीएम किसान योजना के तहत पंजीकृत किसान पीएम-किसान मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से अपना चेहरा स्कैन करके अपना ई-केवाईसी पूरा कर सकते हैं। इससे OTP या फिंगरप्रिंट सत्यापन की आवश्यकता नही होती है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !