Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

खरीफ फसलो की बुआई से पहले करे यह काम, जो बहुत कम लोग करते है

खरीफ फसलो की बुआई से पहले करे यह काम- मानसून का मौसम आते ही देश भर के किसान खरीफ फसलों की बुआई के लिए कमर कस लेते हैं। रायपुर में कृषि विज्ञान केंद्र के कृषि वैज्ञानिक बुआई से पहले बीज उपचार और अंकुरण परीक्षण के महत्व पर जोर देते हैं। कृषि प्रयासों की सफलता काफी हद तक उपयोग किए गए बीजों की गुणवत्ता पर निर्भर करती है। स्वस्थ बीजों से पौधे स्वस्थ होते हैं, कृमि रोग का प्रकोप कम होता है और उत्पादकता में वृद्धि होती है। दूसरी ओर, गलत बीजों के परिणामस्वरूप खराब अंकुरण होता है, प्रति इकाई क्षेत्र में कम पौधे होते हैं, और कीट रोगों से निपटने के लिए अत्यधिक फसल दवा की आवश्यकता होती है। फसल उत्पादन सुनिश्चित करने के लिए, किसानों को खेती शुरू करने से पहले इस सावधानीपूर्वक प्रक्रिया का पालन करने की सलाह दी जाती है।

सही किस्मों और बीजों का चयन

पुरानी किस्मों से बचें: यह महत्वपूर्ण है कि 10 वर्ष से अधिक पुरानी धान की किस्मों का चयन न करें। पुरानी किस्मों में रोग और कीट प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है, जिससे अतिरिक्त दवाओं की आवश्यकता के कारण खेती की लागत बढ़ जाती है।

सही समय पर पकने वाला किस्म का चयन करें: किसानों को देर से पकने वाली किस्मों को चुनने से बचना चाहिए क्योंकि वे रबी की फसल पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती हैं। अधिकतम उत्पादन के लिए जलवायु और क्षेत्र के अनुरूप उपयुक्त किस्मों का चयन करना आवश्यक है।

सही जगह से बीज ले: अपने पहचान और विश्वसनीय स्रोतों से बीज प्राप्त करें। नही तो आप की पुरी फसल खराब हो सकती है इस लिए सही बीज चुने।

नमक के मिश्रण का उपयोग: बीजों के चयन के लिए 17% नमक के घोल का उपयोग करें। यह प्रक्रिया स्वस्थ बीजों की पहचान करने में मदद करती है, जिससे अंकुरण दर सुनिश्चित होती है। उन दानों को अलग करें जिनमें कीट क्षति के लक्षण दिखें।

बीज धोना: नमक के घोल का उपयोग करके बीज चुनने के बाद, उन्हें साफ पानी से अच्छी तरह धो लें। यह आप को अंकुरण बीज चुननेे मे मदद करता है।

बीज उपचार

सही उपचार करें: किसानों को बुआई से पहले बीज का उपचार करना चाहिए। प्रत्येक किलोग्राम बीज के लिए 10 ग्राम ट्राइकोडर्मा विरिडी, 2-3 ग्राम कार्बेन्डाजिम 50% WP, या 2-3 ग्राम मैन्कोजेब 75% WP का उपयोग करें। ये उपचार बीजों की सुरक्षा करने और रोगों से लड़ने की उनकी क्षमता बढ़ाने में मदद करते हैं।

धान की खेती के लिए उपचार: धान की खेती के लिए रोपा विधि अपनाने वाले किसानों को रोपण से पहले तरहा उपचार करना चाहिए। टारहा को 3 ग्राम कारटाप हाइड्रोक्लोराइड 50% एसपी या 2.5 मिली क्लोरोपैरिफोस 20 ईसी प्रति लीटर पानी से उपचारित करें। यह उपचार तना छेदक कीटों को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करता है।सही किस्मों और बीजों का चयन

किसानों के लिए अन्य जरुरी कार्य

खेत की तैयारी: फसल उत्पादन के लिए पर्याप्त खेत की तैयारी महत्वपूर्ण है। मिट्टी पलटने वाले हल से 2-3 जुताई करें, जिसमें प्रति एकड़ 6 से 10 टन गोबर की खाद, वर्मीकम्पोस्ट या चिकन खाद शामिल करें। यह मिट्टी की उर्वरता बनाए रखने में मदद करता है।

निरीक्षण पट्टी : खेतों में रोपाई या बुआई करते समय हर 3 मीटर पर निरीक्षण पट्टी छोड़ें, जिसकी चौड़ाई डेढ़ से दो फीट हो। इससे क्षेत्र में होने वाली बीमारियों का आसानी से अवलोकन किया जा सकता है।

खरपतवारनाशी का उचित उपयोग: खरपतवारनाशी की मात्रा का उपयोग सही समय पर करें। समान वितरण सुनिश्चित करने के लिए खरपतवारनाशी लगाते समय फ्लैट फैन नोजल का प्रयोग करें। लगते समय छिड़काव करके खेत में नमी बनाए रखने से खरपतवार की वृद्धि को रोकने में मदद मिल सकती है।

जल स्तर नियंत्रित: रोपाई के बाद, किसानों को खरपतवार की वृद्धि को रोकने के लिए जल स्तर को नियंत्रित करना चाहिए। यह सुनिश्चित करता है कि खरपतवारों को कम करते हुए फसलों को पर्याप्त पानी मिले।

इसे भी पढ़े:-

FAQS:-

Q : किसानों के लिए बीज उपचार क्यों महत्वपूर्ण है?

Ans : किसानों के लिए बीज उपचार आवश्यक है क्योंकि यह बीजों को बीमारियों और कीटों से बचाने में मदद करता है, जिसके परिणामस्वरूप पौधे स्वस्थ होते हैं और उत्पादकता में वृद्धि होती है।

Q : किसान सही बीज किस्मों का चयन कैसे कर सकते हैं?

Ans : किसानों को ऐसी बीज किस्मों का चयन करना चाहिए जो 10 वर्ष से अधिक पुरानी न हों, सही समय पर पकने वाली हो।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !