Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

गन्ना किसानो के लिए सरकार का बड़ा कदम, सरकार ने बढ़ाई गन्ने की एमएसपी

गन्ना किसानो के लिए सरकार का बड़ा कदम, सरकार ने बढ़ाई गन्ने की एमएसपी- केंद्र सरकार ने गन्ने का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाकर गन्ना किसानों को मदद करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। इस फैसले की घोषणा 28 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक के दौरान की गई थी। कृषि लागत और मूल्य आयोग (सीएसीपी) ने पहले सरकार से गन्ने का समर्थन मूल्य बढ़ाने की सिफारिश की थी और अब उसने कार्यान्वित किया गया. यह कदम गन्ना किसानों के लिए अच्छी खबर लेकर आया है, क्योंकि यह उनकी उपज का बेहतर मूल्य सुनिश्चित करता है। इस लेख मे हम वित्तीय वर्ष 2023-24 के दौरान बढ़े हुए एमएसपी और गन्ना किसानों के लिए इसके प्रभावों के बारें मे भी जानंगे।

पिछले 10 साल मे गन्ने के समर्थन मूल्य कितना बढ़ा था

पिछले कुछ वर्षों में गन्ने के समर्थन मूल्य में महत्वपूर्ण बदलाव देखे गए हैं। 2013-2014 सीज़न में, गन्ने के लिए उचित और लाभकारी मूल्य 210 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया था। 9 साल की अवधि में गन्ने की एफआरपी में कुल 105 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी हुई है। 2021 में, गन्ने का एमएसपी 5 रुपये बढ़ाकर 290 रुपये तक पहुंच गया। अगले वर्ष, 2022 में, इसमें 15 रुपये की और वृद्धि हुई, जो 305 रुपये प्रति क्विंटल हो गई। इसका मतलब है कि पिछले 9 सालों में गन्ने के रेट में कुल मिलाकर 105 रुपये की बढ़ोतरी देखी गई है.

गन्ना किसानों के लिए इस साल कितना बड़ा एफआरपी

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हाल ही में केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक के दौरान, गन्ने के लिए एफआरपी 10 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ा दी गई थी। इस फैसले को सरकार ने मंजूरी दे दी है और इसके परिणामस्वरूप, आगामी सीजन में गन्ने के लिए नई एफआरपी 315 रुपये होगी। केंद्र सरकार की मंजूरी के बाद बढ़ी हुई एफआरपी चीनी सीजन 2023-24 के दौरान चीनी मिलों द्वारा किसानों से गन्ने की खरीद पर लागू होगी।

2023-24 के लिए गन्ना का अनुमानित मूल्य 

गन्ना किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति ने 2023-24 के चीनी सीजन के लिए 315 रुपये प्रति क्विंटल की कीमत को मंजूरी दे दी है। यह कीमत अक्टूबर से सितंबर तक वैध होगी और 10.25 प्रतिशत की मूल वसूली दर पर लागू होगी। गन्ने का यह उचित और लाभकारी मूल्य सुनिश्चित करता है कि किसानों को अक्टूबर 2023 से शुरू होने वाले बढ़े हुए समर्थन मूल्य का लाभ मिलेगा। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि गन्ने के लिए सरकार की बढ़ी हुई एमएसपी नए गन्ना सीजन के लिए लागू होगी, जो कि शुरू हो रही है। 1 अक्टूबर, 2023, और 30 सितंबर, 2024 को समाप्त होगा।

गन्ना किसानों पर इसका क्या प्रभाव होगा

गन्ने का समर्थन मूल्य बढ़ाने के इस फैसले से देशभर के लाखों गन्ना उत्पादक किसानों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। चीनी क्षेत्र, एक आवश्यक कृषि-आधारित उद्योग होने के नाते, न केवल लगभग 5 करोड़ गन्ना किसानों और उनके आश्रितों की आजीविका का समर्थन करता है, बल्कि चीनी मिलों में सीधे कार्यरत लगभग 5 लाख श्रमिकों को रोजगार भी प्रदान करता है।

इसके अतिरिक्त, इससे खेतिहर मजदूरों और परिवहन सहित विभिन्न सहायक गतिविधियों में लगे व्यक्तियों को लाभ होता है। चालू चीनी सीजन 2022-23 में चीनी मिलों ने लगभग 3,353 लाख टन गन्ने की खरीद की है, जिसका मूल्य 1,11,366 करोड़ रुपये है। यह आंकड़ा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान की फसल की खरीद के बाद दूसरा सबसे बड़ा है। इसके अलावा, वर्ष 2013-14 में लगभग 57,104 करोड़ रुपये का गन्ना खरीदा गया, जबकि 2022-23 में कुल खरीद मूल्य 1,13,000 करोड़ रुपये तक पहुंच गया।

गन्ना किसानो का सरकार करेगी सही समय पर भुगतान

सरकार ने गन्ना किसानो को समय पर भुगतान सुनिश्चित करने के लिए भी कदम उठाए हैं। पिछले पांच वर्षों में जैव ईंधन क्षेत्र के रूप में इथेनॉल के विकास से गन्ना किसानों और समग्र रूप से चीनी क्षेत्र को काफी मदद मिली है। गन्ने की चीनी को इथेनॉल में बदलने से भुगतान अवधि में तेजी आई है, जिससे चीनी मिलों के लिए कार्यशील पूंजी की आवश्यकता कम हो गई है।

इसके अलावा, मिलों के पास अधिशेष चीनी कम होने से धन की रुकावट कम हो गई है, जिससे वे किसानों का बकाया तुरंत भुगतान करने में सक्षम हो गए हैं। वित्तीय वर्ष 2021-22 के दौरान डिस्टिलरीज द्वारा उत्पन्न राजस्व लगभग 20,500 करोड़ रुपये होने का अनुमान है। इस पर्याप्त राजस्व से किसानों को गन्ने का बकाया भुगतान करने में आसानी हुई है।

इसे भी पढ़े:-

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !