Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

Mandi bhav: गेहूं के भाव में उछाल, सब्जी-फलों के दाम गिरे , जानें आज का मंडी भाव

Mandi bhav: गेहूं के भाव में उछाल, सब्जी-फलों के दाम गिरे , जानें आज का मंडी भाव भारत के कृषि बाजार के गतिशीलता काफी अलग होती है। बाजार मे कीमतें एक राज्य से दूसरे राज्य में काफी भिन्न होती हैं, जिसके परिणामस्वरूप जिला और शहर स्तर पर उतार-चढ़ाव होता है। ये विविधताएं विभिन्न कृषि वस्तुओं को प्रभावित करती हैं, कुछ की कीमतों में बढ़ोतरी देखी जाती है, जबकि अन्य में गिरावट का अनुभव होता है। दालों, तिलहनों और अनाजों पर ध्यान केंद्रित करते हुए, इन बदलावों को प्रभावित करने वाले कारकों पर गहरी नजर रखते हुए, बाजार की कीमतों में हाल के बदलावों पर प्रकाश डालता है।

दालों की बढ़ती कीमतें

कृषि अर्थशास्त्र की निरंतर उतार-चढ़ाव भरी दुनिया में, हम बाजार की कीमतों में निरंतर बदलाव से अनजान नहीं हैं। आज, हम दालों और तिलहनों की कीमतों में काफी अंतर देख रहे हैं। विशेष रूप से, दालों में उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई है, कीमतें 50 रुपये से 100 रुपये प्रति क्विंटल तक बढ़ गई हैं। दाल की कीमतों में यह बढ़ोतरी उपभोक्ताओं और व्यापारियों को समान रूप से प्रभावित करती है, जिससे उन्हें बदलते बाजार की गतिशीलता के अनुकूल होने की आवश्यकता होती है।

सोयाबीन और सरसों की कीमतों में गिरावट

इसके विपरीत, सोयाबीन और सरसों की कीमतों में गिरावट देखी गई है। इस बदलाव के लिए कई कारक जिम्मेदार हो सकते हैं, जिनमें आपूर्ति और मांग की गतिशीलता, मौसम की स्थिति और सरकारी नीतियों में बदलाव शामिल हैं। ऐसे मूल्य में उतार-चढ़ाव के पीछे के कारणों को समझना उन किसानों और निवेशकों के लिए महत्वपूर्ण है जो इन वस्तुओं पर भरोसा करते हैं।

गेहूं की कीमत में वृद्धि की संभावना

विभिन्न कृषि उत्पादों में से गेहूं की कीमत में लगातार वृद्धि देखी गई है। इस उछाल से निपटने के लिए सरकार बाजार को स्थिर करने के लिए गेहूं बेचने पर विचार कर रही है। गेहूं की आपूर्ति बढ़ाने से बढ़ती कीमतों को नियंत्रित करने और देश भर में उपभोक्ताओं के लिए इसकी उपलब्धता सुनिश्चित करने में मदद मिल सकती है।

मौजूदा बाजार कीमतों एक नज़र :

दाल की कीमतें

  • तुअर दाल: 13,800 से 13,900 रुपये प्रति क्विंटल
  • मूंग दाल: 10,800 से 10,900 रुपये प्रति क्विंटल
  • उड़द दाल: 10,600 से 10,700 रुपये प्रति क्विंटल
  • चना दाल: 8,100 से 8,200 रुपये प्रति क्विंटल
  • मूंग दाल उत्तम: 11,000 से 11,100 रुपये प्रति क्विंटल
  • उड़द मोगर: 11,500 से 11,600 रुपये प्रति क्विंटल

चावल की कीमतें

  • बासमती: 11,500 से 12,500 रुपये प्रति क्विंटल
  • राजभोग: 7,400 से 7,500 रुपये प्रति क्विंटल
  • हंसा सफेद: 2,800 से 3,000 रुपये प्रति क्विंटल
  • तिबार: 9,500 से 10,000 रुपये प्रति क्विंटल
  • बासमती दुबार पोनिया: 8,500 से 9,000 रुपये प्रति क्विंटल
  • मिनी दूबार: 7,500 से 8,000 रुपये प्रति क्विंटल
  • मोगरा: 4,200 से 6,500 रुपये प्रति क्विंटल

अनाज की कीमतें

  • गेहूं: 1,950 से 3,192 रुपये प्रति क्विंटल
  • मक्का: 1,407 रुपये से 1,900 रुपये प्रति क्विंटल
  • चना देसी: 4,170 से 6,550 रुपये प्रति क्विंटल
  • मेथी: 2,420 से 2,600 रुपये प्रति क्विंटल
  • अरहर दाल: 5,910 रुपये से 6,200 रुपये प्रति क्विंटल
  • सोयाबीन: 4,316 रुपये से 4,920 रुपये प्रति क्विंटल
  • सरसों: 6,490 से 6,600 रुपये प्रति क्विंटल
  • डॉलर चना: 6,680 से 15,840 रुपये प्रति क्विंटल

सब्जियों और फलों की कीमतें

  • शिमला मिर्च: 3,920 से 4,100 रुपये प्रति क्विंटल
  • करेला: 1,980 से 2,200 रुपये प्रति क्विंटल
  • टमाटर: 700 से 2,190 रुपये प्रति क्विंटल
  • भिंडी: 3,930 से 4,160 रुपये प्रति क्विंटल
  • लौकी: 640 से 1,600 रुपये प्रति क्विंटल
  • फूलगोभी: 850 से 2,140 रुपये प्रति क्विंटल
  • प्याज: 670 से 1800 रुपये प्रति क्विंटल
  • लाल मिर्च: 16,010 से 21,150 रुपये प्रति क्विंटल
  • आलू: 1,100 से 2,150 रुपये प्रति क्विंटल
  • खीरा: 1,000 से 1,900 रुपये प्रति क्विंटल
  • पपीता: 780 से 2,900 रुपये प्रति क्विंटल
  • कद्दू: 750 से 1,520 रुपये प्रति क्विंटल
  • केला: 360 से 2,500 रुपये प्रति क्विंटल

इसे भी पढ़े:-

Mandi bhav Today 2023 : krishidost.com ने इस लेख मे आपके लिए गेहूं के भाव में उछाल, सब्जी-फलों के दाम गिरे । इसके बारे में पुरी जानकारी दी है। यह भाव व्यापारियों तथा अन्य मिडिया स्त्रोत से लिए गये है। आप अपना आनाज भेचने से पहले मंडी समिती से भाव की पुष्टी जरुर करा ले। आशा करता हूँ की यह जानकारी आप के लिए उपयोगी रही होगी।

FAQs:-

1.) भारत में कृषि कीमतों में उतार-चढ़ाव में योगदान देने वाले प्राथमिक कारक क्या हैं?

Ans:- भारत में बाजार कीमतें कई कारकों से प्रभावित होती हैं, जिनमें आपूर्ति और मांग की गतिशीलता, मौसम की स्थिति, सरकारी नीतियां, परिवहन लागत और वैश्विक कमोडिटी कीमतें शामिल हैं। कीमत में उतार-चढ़ाव के पीछे के कारणों को समझने के लिए इन कारकों को समझना आवश्यक है।

2.)  मूल्य में उतार-चढ़ाव से जुड़े जोखिमों को कम करने के लिए किसान कौन सी रणनीतियाँ अपना सकते हैं?

Ans:- फसलों में विविधता लाना, वायदा अनुबंध करना, वायदा और विकल्पों का उपयोग करना और सरकारी सहायता कार्यक्रमों में भाग लेना। ये रणनीतियाँ किसानों को मूल्य अस्थिरता के कारण होने वाले वित्तीय नुकसान से बचाने में मदद करती हैं।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !