Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

सरकार खेल रही है किसानो के साथ खेल सरसो के भाव जमीन पर तो गेहूँ के भाव पहुचे 3000 पार

सरकार खेल रही है किसानो के साथ खेल सरसो के भाव जमीन पर तो गेहूँ के भाव पहुचे 3000 पार – ऐसे देश में जहां कृषि अर्थव्यवस्था की रीढ़ है, फसल की कीमतों में किसी भी उतार-चढ़ाव के दूरगामी परिणाम होते हैं। भारत में गेहूं और सरसों की कीमतों में हालिया रुझानों ने कैसे प्रभावित कर रहे है आइऐ जानते है।

सरसों की मंदी

कृषि परिदृश्य उथल-पुथल में है क्योंकि किसानों को सरसों के बीज की गिरती कीमतों के साथ एक कठिन चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। कई भारतीय किसानों की मुख्य फसल सरसों की कीमतों में गिरावट देखी गई है, जिससे वे संकट में हैं। यह स्थिति सरकार की भूमिका और कृषि क्षेत्र पर पड़ने वाले प्रभावों पर सवाल उठाती है जिन किसानों ने सरसों की खेती के लिए अपना समय और प्रयास समर्पित किया है, उन्हें अभूतपूर्व प्रतिकूलता का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि इस आवश्यक फसल की कीमतें गिर गई हैं। सरसों की कीमतों में अचानक आई मंदी के कारण किसानों को गुजारा करने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है, जिससे उनकी आजीविका और खुशहाली प्रभावित हो रही है।

  • स्टॉक सीमा: गिरती कीमतों पर अंकुश लगाने के लिए सरकार ने सरसों के बीज पर स्टॉक सीमा लगा दी है। इस विनियमन का उद्देश्य जमाखोरी और सट्टा व्यापार को रोकना है जो कीमतों को और कम कर सकता है।
  • निर्यात प्रतिबंध: घरेलू बाजार में अच्छी आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए, सरकार ने सरसों के बीज के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है। घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मांग के बीच संतुलन बनाए रखने के लिए यह कदम जरूरी है।
  • खुले बाजार में बिक्री: सरसों के बीज की मांग को बढ़ावा देने के लिए, सरकार ने खुले बाजार में बिक्री शुरू की है, जिससे व्यवसायों और उपभोक्ताओं के लिए इस महत्वपूर्ण कृषि उत्पाद तक पहुंच आसान हो गई है।
  • मूल्य समर्थन: सरकार सरसों किसानों को मूल्य समर्थन प्रदान करने पर भी विचार कर रही है, जो आर्थिक कठिनाई का सामना कर रहे लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण राहत हो सकती है।

गेहूं की बढ़ती कीमतें

गेहूं की कीमतों में आश्चर्यजनक उछाल

जहां सरसों की कीमतें गिर रही हैं, वहीं गेहूं की कीमतों में तेज वृद्धि देखी गई है, जो पहली नजर में विरोधाभासी लगता है। प्रति क्विंटल गेहूं की कीमत में उछाल आया है और यह 3,000 रुपये के करीब पहुंच गया है. इस बढ़ोतरी के पीछे कारण बहुआयामी हैं और त्योहारी सीजन से जुड़े हैं।

आम लोगों पर प्रभाव

गेहूं की कीमतों में उछाल से न केवल किसान चिंतित हैं, बल्कि आम लोग भी चिंतित हैं जो अपने दैनिक भोजन के लिए इस प्रमुख खाद्य पदार्थ पर निर्भर हैं। खाद्य तेल और दालें जैसे आवश्यक खाद्यान्न, जो उपयोग के मामले में गेहूं से निकटता से जुड़े हुए हैं, की कीमतों में भी बढ़ोतरी देखी गई है। यह स्थिति आम नागरिक के पहले से ही ख़राब बजट पर अतिरिक्त बोझ डालती है।

विभिन्न बाजारों में गेहूं का भाव

गेहूं की कीमतों पर अधिक विस्तृत परिप्रेक्ष्य प्रदान करने के लिए, आइए विभिन्न राज्यों के विभिन्न बाजारों में औसत दरों पर नजर डालें।

बाज़ार औसत मूल्य (प्रति किलोग्राम)

  • कंडी मंडी: 2360 रुपये
  • कोटा मंडी: 2575 रुपए
  • बूंदी मंडी: 2455 रुपए
  • बांद्रा मंडी: 2600 रुपये
  • ध्रोल मंडी: 2300 रुपये
  • महोबा मंडी: 2290 रुपये
  • फैजाबाद मंडी: 2340 रुपये
  • लालसोट मंडी: 2300 रुपए
  • प्रतापगढ़ मंडी: 2438 रुपये

ये अलग-अलग कीमतें दर्शाती हैं कि पूरे देश में स्थिति एक समान नहीं है, और कई कारक कीमतों में उतार-चढ़ाव में योगदान करते हैं।

गेहूं की कीमतों का भविष्य

हर किसी के मन में यह सवाल है कि क्या आने वाले दिनों में गेहूं की कीमतों में बढ़ोतरी जारी रहेगी।

चुनाव का प्रभाव

विधानसभा चुनाव करीब आने के साथ, गेहूं की बढ़ती कीमतें सरकार के लिए एक गंभीर चिंता का विषय बन गई हैं। पांच राज्यों में आगामी चुनावों के कारण अटकलें लगाई जा रही हैं कि सरकार गेहूं की कीमतों को स्थिर करने के लिए कदम उठा सकती है। इसमें आयात शुल्क को संभावित रूप से हटाना भी शामिल है, हालांकि इस मामले पर कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया गया है। फिलहाल, यह अटकलों का विषय बना हुआ है, जिससे गेहूं बाजार में और अनिश्चितता बढ़ गई है।

गेहूं और सरसों की कीमतों में हालिया उतार-चढ़ाव किसानों, उपभोक्ताओं और सरकार को समान रूप से प्रभावित कर रहा है। हालांकि सरकार ने स्थिति से निपटने के लिए कदम उठाए हैं, लेकिन भविष्य में कीमतों में उतार-चढ़ाव की अनिश्चितता और आगामी चुनावों का असर कृषि क्षेत्र पर बना हुआ है। सभी हितधारकों के लिए इन घटनाक्रमों पर बारीकी से नजर रखना जरूरी है

Also Read 

 

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !