Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

एक ही जिले के 9,000 किसानों का कटेगा सम्मान निधि की किस्त, जाने क्यो

एक ही जिले के 9,000 किसानों का कटेगा सम्मान निधि की किस्त, जाने क्यो – उत्तर प्रदेश मे मऊ में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की 15वीं किस्त को लेकर एक बड़ी घटना सामने आ रहा है। मऊ जिले के कुल 9,185 किसान अपनी केवाईसी प्रक्रियाओं को पुरा करने के लिए एक साथ एक चौराहे पर देखे गये। किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के उद्देश्य से यह किस्त अत्यधिक महत्व रखती है। हालाँकि, एक बाधा सामने आई है – कुछ किसानों के आधार नंबर उनके खातों से लिंक नही हैं, जिससे संभावित रूप से किस्त में देरी हो रही है।

केवाईसी पूरा करना क्यो जरुरी

उप कृषि निदेशक मऊ, सत्येन्द्र चौहान स्थिति की तात्कालिकता पर जोर देते हैं। 2,90,513 किसानों में से केवल 2,81,109 किसानों ने अपना केवाईसी पूरा किया है, 9,185 किसानों को किस्त ना आने का खतरा है। चौहान का दावा है कि किसानों के लिए अपना केवाईसी तुरंत पूरा करने का यह अंतिम अवसर है।

केवाईसी प्रक्रिया 

1. ऑनलाइन आवेदन 

प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करने के लिए, विभागीय कर्मचारी गांवों में किसानों के साथ सक्रिय रूप से जुड़ रहे हैं, और उन्हें केवाईसी पूरा करने में सहायता कर रहे हैं। ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया एक सुविधाजनक विकल्प है, जिससे किसानों को आवश्यकताओं को आसानी से पूरा करने में मदद मिलती है। कृषि विभाग के कर्मचारी केवाईसी को सुचारू रूप से पूरा करने को सुनिश्चित करने के लिए किसानों तक पहुंच कर अतिरिक्त प्रयास कर रहे हैं।

2. लोक सेवा केन्द्र

क्षेत्र सहायता के अलावा, किसान अपनी केवाईसी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए सार्वजनिक सेवा केंद्रों पर जा सकते हैं। उप कृषि निदेशक इन केंद्रों के महत्व को रेखांकित करते हैं, जो आवश्यक दस्तावेज़ीकरण को पूरा करने के लिए सुलभ केंद्र के रूप में कार्य करते हैं।

मृत किसानों के उत्तराधिकारि लाभ कैसे प्राप्त करें

यह योजना मृत किसानों के उत्तराधिकारियों को भी इसका लाभ देती है। यदि किसी पंजीकृत किसान की मृत्यु हो गई है, तो उत्तराधिकारी अभी भी किसान सम्मान निधि का लाभ उठा सकते हैं। इस प्रक्रिया में सहज सेवा केंद्र का दौरा करना शामिल है, जहां आवेदकों को मृतक प्रमाण पत्र, आधार और भूमि के कागजात जमा करने होंगे। ऑनलाइन आवेदन के बाद, इन दस्तावेजों की हार्ड कॉपी वारिस पंजीकरण के लिए मऊ में उप कृषि निदेशक कार्यालय में जमा की जानी है।

FAQs

1.) केवाईसी क्या है और यह किसानों के लिए क्यों जरूरी है?

Ans : केवाईसी, या अपने ग्राहक को जानें, एक ऐसी प्रक्रिया है जो व्यक्तियों की पहचान की पुष्टि करती है। किसानों के लिए, सरकारी योजना की किस्तें प्राप्त करने, पारदर्शिता और जवाबदेही सुनिश्चित करने के लिए केवाईसी पूरा करना महत्वपूर्ण है।

2.) क्या मृत किसानों के उत्तराधिकारी सम्मान निधि योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं?

Ans : हां, मृत किसानों के उत्तराधिकारी मृतक प्रमाण पत्र, आधार और जमीन के कागजात सहित आवश्यक दस्तावेज जमा करके योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं।

3.) किसान अपना केवाईसी ऑनलाइन कैसे पूरा कर सकते हैं?

Ans : किसान आधिकारिक पोर्टल के माध्यम से या अपने आसपास के सार्वजनिक सेवा केंद्रों पर जाकर अपना केवाईसी ऑनलाइन पूरा कर सकते हैं।

4.) केवाईसी पूरा करने के लिए किसानों को सहायता कहां से मिल सकती है?

Ans : किसान केवाईसी पूरा करने के लिए गांवों में जाने वाले विभागीय कर्मचारियों या सार्वजनिक सेवा केंद्रों पर जाकर सहायता प्राप्त कर सकते हैं। इन संसाधनों के साथ सक्रिय रूप से जुड़ना एक सुचारू केवाईसी प्रक्रिया की कुंजी है।

इसे भी पढ़े

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !