Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

चना के फायदे, नुकसान, वैज्ञानिक नाम, बनने वाली रेसपी

चना का वैज्ञानिक नाम, scientific name of Gram चना के फायदे, नुकसान, बनने वाली रेसपी चना के नुकसान चना के फायदे और नुकसान चना खाने के फायदे व नुकसान चना की रेसिपी – चना एक प्रमुख दलहनी फसल है। जिसकी खेती भारत और मध्य पूर्वी देशों में बहुत पुराने समय से किया जा रहा है। इसकी सब्जी खाने में काफी स्वादिष्ट होती है। चने में कई प्रकार के विटामिंस और मिनरल्स के साथ-साथ फाइबर की काफी अच्छी मात्रा पाई जाती है। जो हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक होता है। जो वजन घटाने के साथ-साथ पाचन तंत्र को नियंत्रण करने में मदद करता है।

चाने की कई प्रकार की किस्में है। इसमें काबुली चना सबसे प्रचलित चना है। जिसका अधिकतर उपयोग छोले के रूप में किया जाता है। यह हल्का बदामी रंग का और काले रंग से बड़ा होता है। भारतीय उपमहाद्वीप में 18वीं सदी में चना लाया गया था। आज हम इस लेख में आपको बताएंगे कि चना से शरीर में क्या क्या लाभ होता है। साथ ही साथ आप को बताएंगे की चना का वैज्ञानिक नाम, फायदे, नुकसान, बनने वाले पकवान। जो श्याद आप नही जानते होगें।

चना का वैज्ञानिक नाम एवं कुल (Gram Scientific Name in Hindi )

  • चना का वैज्ञानिक नाम सिसर एरीटिनम (Cicer arietinum) है।
  • यह फैबेसी कुल का फसल है जिसे मटर परिवार के रूप में भी जाना जाता है।
  • इस परिवार में कई अन्य महत्वपूर्ण खाद्य फ़सलें शामिल हैं जैसे बीन्स, दाल, मूंगफली और सोयाबीन।
  • चना मे कई औषधीय गुणों से भरा हुआ है।
  • चना की रेसिपी कैसे बनाई जाती है। आइये जानते हैं चना की सब्जी कैसे बनाएं के बारे में

चना की रेसिपी

चना तो लगभग सभी के घर में इस्तेमाल किया जाता है। चना सेहत के लिए अच्छा माना जाता है चना खाने से शरीर के कई रोग खत्म हो जाते है। चना का आम तौर पर, सब्जी मे उपयोग करते है। आज हम आपको चना की सब्जी बनाने की विधि, चना की सब्जी की रेसिपी कैसे बनाये जिसके लिए आपको बहुत ज्यादा सामग्री जुटाने की जरूरत नहीं है और बहुत ही कम समय में चना की सब्जी रेसिपी बनाकर तैयार कर सकते है।

चना की सब्जी रेसिपी बनाने के लिए सामान

  • चना ( chickpeas )
  • टमाटर, कटा हुआ (tomato, chopped )
  • प्याज, कटा हुआ ( onion, chopped)
  • अदरक(Ginger)
  • हींग(asafoetida)
  • जीरा पिसा हुआ (ground cumin)
  • मिर्ची पाउडर(chili powder)
  • हल्दी पाउडर (turmeric)
  • नमक (salt)
  • तेल (cooking oil)
  • हरी धनिया (garnish)
  • हरी मिर्च (green chili)

चना की सब्जी बनाने की विधि

  • चना को अलग-अलग पानी में अच्छे से धोकर कम से कम 3 घंटे के लिए भिगो कर रख दे।
  • प्याज, लहसुन, अदरक, को पेस्ट बना ले।
  • इसके बाद एक प्रेशर कुकर में तेल गरम करें।
  • इसके बाद कटा हुआ प्याज, हरी मिर्च, कद्दूकस किया हुआ अदरक और कीमा बनाया हुआ लहसुन डालें।।
  • इसके बाद धनिया, जीरा, हल्दी, गरम मसाला और पेपरिका डालें। मसाले को अच्छे से चलाकर 1-2 मिनिट तक भून लीजिए।
  • पिसा हुआ टमाटर डालें और अच्छी तरह मिलाएँ। बीच-बीच में हिलाते हुए और 2-3 मिनट तक पकाएँ।
  • कुकर में चना डालें और उन्हें टमाटर और मसाले के मिश्रण में मिलाएँ।
  • इसके बाद स्वादानुसार नमक डालें इसे अच्छी तरह से मलाएं।
  • इसके बाद प्रेशर कुकर को बंद कर दें और मध्यम आंच पर 5 से 7 मिनट तक पकाएं।
  • इसके बाद प्रेशर कुकर खोलें और चना की सब्जी बनकर तैयार हो गई है।
  • अपनी पसंद की रोटी या चावल के साथ गरमागरम परोसें।

चना का उपयोग

चना का कई तरह से उपयोग किया जाता है जो कि हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। चना मे अधिक मात्रा मे औषधि गुण पाया जाता हैं। चना की सब्जी, छोले आदि मे उपयोग किया जाता है यह हमारे लिए औषधि के रुप मे काम करता है। जो हमारे स्वास्थ्य को बेहतर करने में मदद करता है। इसमें कई प्रकार के पोषक तत्व भी पाए जाते हैं।

  • कच्चा चना का उपयोग सुबह नास्ते के रुप मे कर सकते है।
  • चना का उपयोग सूप बनाकर भी किया जाता है।
  • चना की सब्जी बनाकर उपयोग किया जाता है।
  • काबुली चना के छोले के रुप मे उपयोग किया जाता है।
  • चना को भुजाकर उपयोग किया जाता है।

चलिए आपको बताते हैं कि चना खाने से शरीर में किस प्रकार के फायदे और नुकसान होने है, दोनों के बारे में पूरी जानकारी देंगे तो आप हमारे साथ बने रहें और चना के बारे मे पूरी जानकारी नीचे प्राप्त करें।

इसे भी पढ़े:-

चना के फायदे (Benefits of Gram in Hindi)

अगर आप भी चना का उपयोग नही करते है तो यह पढ़ने के बाद आप जरूर चना का उपयोग करना शुरू कर देंगे, क्योंकि चना में कई प्रकार के औषधि गुण पाए जाते हैं जो हमें स्वस्थ रखने मे काफी मदद करते हैं। चना भिगोकर खाने के फायदे। जैसा कि हमने ऊपर बताया कि चना में कई प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं उसमें, कार्बोहाइड्रेट, मैग्नीशियम, फास्फोरस, थियामिन, राइबोफ्लेविन, नियासिन , विटामिन-बी6, फोलेट, तथा के प्रोटीन भी पाए जाते हैं। चना बहुत ही फायदेमंद होता है। इसके बारे में पूरी जानकारी हम नीचे दे रहे है। आप इसे पुरा पढ़े

1. प्रोटीन के लिए चना का उपयोग

चना शाकाहारी लोगों के लिए प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है। 100 ग्राम पके हुए चना से लगभग 8 ग्राम प्रोटीन मिलता है, जो 1 अंडे या 30 ग्राम मांस में प्रोटीन सामग्री के बराबर होता है। अपने आहार में चने को शामिल करने से आपको अपनी प्रोटीन की आवश्यकता को पूरा करने में मदद मिल सकती है, जो शरीर में ऊतकों के निर्माण और मरम्मत के लिए आवश्यक है। प्रोटीन स्वस्थ हड्डियों, मांसपेशियों और त्वचा को बनाए रखने के लिए भी महत्वपूर्ण है। प्रोटीन के लिए अपने आहार में चने को शामिल करने के कई तरीके हैं। आप इसे शाकाहारी बर्गर या मीटबॉल के लिए आधार के रूप में उपयोग कर सकते हैं, इसे सूप और स्टॉज में जोड़ सकते हैं यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि चना प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है इसका सेवन संतुलित आहार के हिस्से के रूप में किया जाना चाहिए जिसमें फल, सब्जियां, साबुत अनाज और स्वस्थ वसा जैसे आवश्यक पोषक तत्वों के अन्य स्रोत शामिल हों।

2. त्वचा के लिए चना के फायदे

चना एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो त्वचा को फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाने में मदद करते हैं। चना विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत माना जाता है जो कोलेजन के उत्पादन के लिए आवश्यक है। कोलेजन एक प्रोटीन है जो त्वचा को मजबूत और लोचदार बनाए रखने में मदद करता है। चने में जिंक होता है जो त्वचा में तेल उत्पादन को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह तैलीय या मुंहासे वाली त्वचा वाले लोगों के लिए मददगार हो सकता है। चने में सैपोनिन और फ्लेवोनोइड्स जैसे यौगिक होते हैं, जिनमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। यह एक्जिमा या सोरायसिस जैसी सूजन वाली त्वचा की स्थिति वाले लोगों के लिए मददगार हो सकता है। चना फाइबर और पानी से भरपूर होता है, जो त्वचा को हाइड्रेटेड रखने और रूखेपन को रोकने में मदद कर सकता है साथ ही साथ चने में विटामिन बी 6 होता है, जो दाग-धब्बों और काले धब्बों को कम करके त्वचा की रंगत में सुधार करने में मदद करता है।

3. दिमाग के लिए चना का उपयोग

जैसा की हमने बताया की चना मे विटामिन बी 6, फोलेट और मैग्नीशियम जैसे आवश्यक पोषक तत्वों पाये जाते है, जो मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। चना में ट्रिप्टोफैन होता है जो एक एमिनो एसिड की तरह कार्य करता है जो शरीर द्वारा सेरोटोनिन का उत्पादन करने के लिए उपयोग किया जाता है एक न्यूरोट्रांसमीटर जो मूड को नियंत्रित करने में मदद करता है। चने का सेवन सेरोटोनिन के स्तर को बढ़ाने और मूड को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। चना कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है जो मस्तिष्क को ऊर्जा प्रदान कर सकता है। यह फोकस और एकाग्रता को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।चना मैग्नीशियम का एक अच्छा माना जाता है, जो नींद को नियंत्रित करने के लिए महत्वपूर्ण है। चने का सेवन नींद की गुणवत्ता में सुधार करने और अनिद्रा जैसे नींद संबंधी विकारों के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है।

4. बालों के लिए चना के फायदे

चना प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत माना जाता है, जो बालों के विकास के लिए आवश्यक है। चने का सेवन बालों को मजबूत बनाने और टूटने से बचाने में मदद कर सकता है। चना विटामिन और खनिजों जैसे आयरन, जिंक और विटामिन बी 6 से भरपूर होता है जो बालों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। आयरन बालों के रोम तक ऑक्सीजन पहुंचाने में मदद करता है जबकि जिंक और विटामिन बी 6 सीबम के उत्पादन को नियंत्रित करने में मदद करता है बालों के झड़ने को रोकने में चना मदद करता है क्योकि चने में फोलेट होता है, जो कोशिका वृद्धि और विभाजन के लिए महत्वपूर्ण होता है। चने का सेवन बालों के रोम के विकास को बढ़ावा देने और बालों के झड़ने को रोकने में मदद कर सकता है। चने में विटामिन सी होता है, जो शरीर में आयरन के अवशोषण को बेहतर बनाने में मदद करता है। कोलेजन के उत्पादन के लिए आयरन महत्वपूर्ण है, एक प्रोटीन जो बालों को मजबूत और स्वस्थ रखने में मदद करता है। चने का सेवन बालों की बनावट में सुधार करने और भंगुरता को रोकने में मदद कर सकता है।

5. वजन घटाने के लिए चना का उपयोग

चना पोषक तत्वों से भरपूर भोजन है, जिसका अर्थ है कि इसमें विभिन्न प्रकार के विटामिन, खनिज और अन्य लाभकारी पोषक तत्व होते हैं। जब हम पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं, तो हम वजन घटाने के लिए कैलोरी की कमी को बनाए रखते हुए अपने शरीर की पोषक तत्वों की जरूरतों को पूरा कर सकते हैं। चना फाइबर का एक अच्छा स्रोत माना जाता है जो भूख को कम करने में मदद करता है। जब हम ऐसे खाद्य पदार्थ खाते हैं जिसमे फाइबर अधिक होते हैं, तो वे पचने में अधिक समय लेते हैं और हमें लंबे समय तक भरा हुआ महसूस कराते हैं। चना से बने उत्पाद कैलोरी सेवन को कम करने और वजन घटाने में सहायता कर सकते हैं। ये खाद्य पदार्थ आमतौर पर फाइबर उच्च होते हैं, जो कम कैलोरी से हमें पूर्ण महसूस करने में मदद कर सकते हैं। यह वजन घटाने को बढ़ावा देने और शरीर में वसा को कम करने में मदद कर सकता है। वजन कम करने के लिए योग करना बहुत जरूरू होता है।

6. आंखों के लिए चना के फायदे

चना आँखों के लिए बहुत फायेमन्द हो सकता है। चना मे फाइबर, प्रोटीन और आयरन, मैग्नीशियम और जिंक जैसे खनिजों जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होता है। ये पोषक तत्व आंखों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। साथ ही साथ चना मे जिंक, विशेष रूप से, स्वस्थ आँख बनाए रखने में भूमिका निभाने के लिए जाना जाता है। यह विटामिन ए के चयापचय में शामिल है, जो अच्छी दृष्टि के लिए आवश्यक है, और रेटिना में उच्च मात्रा में पाया जाता है। चना जिंक का एक अच्छा स्रोत है, जो अप्रत्यक्ष रूप से आंखों के स्वास्थ्य का समर्थन कर सकता है। कुल मिलाकर, जबकि चने का आंखों के लिए प्रत्यक्ष लाभ नहीं हो सकता है, पोषक तत्वों से भरपूर संतुलित आहार के हिस्से के रूप में इसे शामिल करना आंखों के स्वास्थ्य सहित समग्र स्वास्थ्य का समर्थन कर सकता है

7. पाचन के लिए चना के फायदे

चना एक पौष्टिक पदार्थ है जिसमे फाइबर, प्रोटीन और अन्य आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर होता है। ये पोषक तत्व पाचन के लिए कई तरह से फायदेमंद होते हैं। फाइबर पाचन स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए आवश्यक है क्योंकि यह नियमित मल त्याग को बढ़ावा देने, कब्ज को रोकने और पाचन तंत्र के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है। चना घुलनशील और अघुलनशील फाइबर दोनों का एक समृद्ध स्रोत माना जाता है। चने में प्रोटीन होता है जो भूख को नियंत्रित करने में मदद करके पाचन में सहायता कर सकता है। यह अधिक खाने से रोकने और स्वस्थ पाचन को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है। चने में एमाइलेज और प्रोटीज जैसे पाचक एंजाइम होते हैं, जो क्रमशः कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन के टूटने में सहायता कर सकते हैं। यह पोषक तत्वों के अवशोषण में सुधार करने और समग्र पाचन स्वास्थ्य का समर्थन करने में मदद कर सकता है।

8. गर्भावस्था में चना के फायदे

चना अपने पोषक तत्व के कारण गर्भावस्था के दौरान एक स्वस्थ आहार के रुप मे जाना जाता है। चना प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है, जो भ्रूण की वृद्धि और विकास के लिए आवश्यक है। इसमें आयरन, जिंक और मैग्नीशियम जैसे महत्वपूर्ण खनिज भी शामिल हैं, जो भ्रूण के विकास और विकास के साथ-साथ मातृ स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए आवश्यक हैं। चना फोलेट का भी एक अच्छा स्रोत है जिसमे विटामिन बी पाया जाता है जो भ्रूण के विकास के लिए आवश्यक है गर्भावस्था के दौरान पर्याप्त फोलेट का सेवन विकासशील भ्रूण में न्यूरल ट्यूब दोषों के जोखिम को कम करने के लिए दिखाया गया है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि गर्भावस्था के दौरान चना आहार में एक स्वस्थ जोड़ हो सकता है, लेकिन संतुलित आहार के हिस्से के रूप में इसका सेवन कम मात्रा में किया जाना चाहिए। कच्चे या अधपके चने से बचना चाहिए क्योंकि इसमें हानिकारक बैक्टीरिया हो सकते हैं। गर्भावस्था के दौरान व्यक्तिगत आहार संबंधी आवश्यकताओं के संबंध में स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से परामर्श करना भी महत्वपूर्ण है।

9. हृदय में चना के फायदे

चना फाइबर का एक अच्छा स्रोत माना जाता है, जो रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद कर सकता है। उच्च कोलेस्ट्रॉल का स्तर हृदय रोग के लिए एक जोखिम कारक है इसलिए चना जैसे फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन इस जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। चने में फ्लेवोनोइड्स और फेनोलिक यौगिक जैसे एंटीऑक्सिडेंट भी होते हैं, जो हृदय और रक्त वाहिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाने में मदद कर सकते हैं। यह हृदय रोग और अन्य हृदय संबंधी विकारों के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा चना पोटेशियम का एक अच्छा स्रोत माना जाता है जो स्वस्थ रक्तचाप के स्तर को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है। उच्च रक्तचाप हृदय रोग के लिए एक जोखिम कारक है, इसलिए आहार में चना जैसे पोटेशियम युक्त खाद्य पदार्थ शामिल करने से इस जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है। कुल मिलाकर चने को संतुलित आहार के हिस्से के रूप में शामिल करना इसकी उच्च फाइबर सामग्री, प्रोटीन सामग्री और पाचन एंजाइमों के कारण पाचन के लिए फायदेमंद हो सकता है।

10. हड्डी स्वास्थ्य के लिए चना का उपयोग

चना कई खनिजों का एक अच्छा स्रोत माना जाता है जो हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं जिनमें कैल्शियम, मैग्नीशियम और जस्ता शामिल हैं। साबुत अनाज में फाइबर युक्त चोकर और पोषक तत्वों से भरपूर रोगाणु सहित अनाज के सभी भाग होते हैं, जो अनाज उत्पादों की तुलना में हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए अधिक लाभ प्रदान कर सकते हैं। मजबूत हड्डियों के निर्माण के लिए खनिज आवश्यक हैं। साबुत अनाज वाले चना के उत्पाद जैसे ब्रेड या पास्ता खाना हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकता है। चना में विटामिन ई और सेलेनियम जैसे यौगिक होते हैं जो शरीर में सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं। पुरानी सूजन हड्डियों के नुकसान में योगदान कर सकती है और ऑस्टियोपोरोसिस के जोखिम को बढ़ा सकती है।

चना के नुकसान (Side Effects of Gram Hindi)

चना का उपयोग अधिकत्तर, सब्जी के रुप मे उपयोग किया जाता है। इसका लोग अपनी पसंद के हिसाब से उपयोग करते हैं लेकिन कुछ परिस्थितियों में यह हमारे लिए हानिकारक हो सकता है इसलिए आपको चना का उतना ही उपयोग करना चाहिए, जिससे आप को कोई समस्याओं का सामना ना करना पड़े। चना के खाने से हमें फायदे और नुकसान दोनों होते हैं नीचे हमने चना के खाने से कुछ नुकसान के बारे में बताया है।

  • चना उच्च फाइबर वाला भोजन माना जाता है, जो कुछ लोगों में पाचन संबंधी परेशानी जैसे सूजन, गैस और दस्त का कारण बन सकता है।
  • चने में प्यूरीन होता है जो प्राकृतिक यौगिक होते हैं जिन्हें शरीर में यूरिक एसिड में तोड़ा जा सकता है। यूरिक एसिड के उच्च स्तर से यूरिक एसिड क्रिस्टल का निर्माण हो सकता है
  • चना उच्च कैलोरी वाला भोजन है इसलिए बड़ी मात्रा में इसका सेवन वजन बढ़ाने में योगदान दे सकता है।

यहां हमने चना से संबंधित जानकारियां इस लेख में बताई हैं चना हम सब सामान्य रूप से सब्जी, छोले आदि के रुप मे उपयोग करते हैं। लेकिन इसका अत्यधिक सेवन नहीं करना चाहिए जिससे कि किसी प्रकार की समस्या का कारण बने। अगर आपको किसी प्रकार की कोई समस्या होती है तो आप अपने डॉक्टर से सलाह लेकर ही उपयोग करें। आशा करता हूं कि आज हमने चनाका वैज्ञानिक नाम के साथ चना के फायदे नुकसान के बारे में जो आपको जानकारियां प्रदान की है वह आपके लिए काफी मददगार साबित हुई होंगी। ऐसे ही जानकारियों के लिए हमारे साथ जुड़े रहे। धन्यवाद

इसे भी पढ़े:-

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

1.) चना का वैज्ञानिक नाम और कुल क्या है ?

Answer:- चना का वैज्ञानिक नाम सिसर एरीटिनम (Cicer arietinum) है।

2.) प्रोटीन के लिए चने का क्या उपयोग है?

Answer:- चना, विशेष रूप से छोले, शाकाहारी लोगों के लिए प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है। 100 ग्राम पके हुए छोले में लगभग 8 ग्राम प्रोटीन होता है, जो एक अंडे या 30 ग्राम मांस में प्रोटीन की मात्रा के बराबर होता है।

3.) त्वचा के लिए चने के क्या फायदे हैं?

Answer:- चना एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है जो त्वचा को फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाने में मदद करता है। वे विटामिन सी का भी एक अच्छा स्रोत हैं जो कोलेजन के उत्पादन के लिए आवश्यक है।

4.) चना मस्तिष्क को कैसे लाभ पहुंचाता है?

Answer:- मैग्नीशियम जैसे आवश्यक पोषक तत्व होते हैं, जो मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। छोले में ट्रिप्टोफैन होता है जो एक एमिनो एसिड की तरह काम करता है जिसका उपयोग शरीर सेरोटोनिन का उत्पादन करने के लिए करता है, एक न्यूरोट्रांसमीटर जो मूड को नियंत्रित करने में मदद करता है।

5.) चना बालों को कैसे लाभ पहुंचाता है?

Answer:- चने बालों के झड़ने को रोकने में मदद करते हैं क्योंकि इनमें फोलेट होता है, जो कोशिकाओं के विकास और विभाजन के लिए आवश्यक होता है। छोले का सेवन बालों के रोम के विकास को बढ़ावा देने और बालों के झड़ने को रोकने में मदद कर सकता है।

6.) क्या चना वजन घटाने में मदद कर सकता है?

Answer:- जी हां, चना एक पोषक तत्वों से भरपूर भोजन है जिसमें फाइबर होता है, जो भूख को कम करने और हमें लंबे समय तक भरा हुआ महसूस कराने में मदद कर सकता है।

7.) हृदय के लिए चने के क्या फायदे हैं?

Answer:- इसमें फ्लेवोनोइड्स और फेनोलिक यौगिक जैसे एंटीऑक्सिडेंट भी होते हैं जो हृदय और रक्त वाहिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचा सकते हैं।

8.) चना हड्डियों के स्वास्थ्य में कैसे मदद करता है?

Answer:- चना हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण कई खनिजों का एक अच्छा स्रोत है, जैसे कैल्शियम, मैग्नीशियम और जस्ता। साबुत अनाज वाले चने के उत्पाद, जैसे ब्रेड या पास्ता, हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकते हैं। चने में विटामिन ई और सेलेनियम जैसे यौगिक भी होते हैं

9.) क्या चना खाने के कोई नुकसान हैं? 

Answer:-हां, चना एक उच्च फाइबर वाला भोजन है जो कुछ लोगों में पाचन संबंधी परेशानी जैसे सूजन, गैस और दस्त का कारण बन सकता है। इसमें प्यूरीन भी होता है जिसे शरीर में यूरिक एसिड में तोड़ा जा सकता है, जिससे यूरिक एसिड क्रिस्टल का निर्माण होता है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !