Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

लीफ माइनर रोग ने बढ़ाई किसानों की चिंता, सरसों की फसल मे करें इस दवा का छिड़काव

लीफ माइनर रोग ने बढ़ाई किसानों की चिंता, सरसों की फसल मे करें इस दवा का छिड़काव – करौली में किसान वर्तमान में लीफ माइनर संक्रमण में वृद्धि से जूझ रहे हैं, यह एक चिंताजनक कीट रोग है जिसने सरसों की फसलों को तबाह करने की क्षमता के कारण अशुभ उपनाम “काला सोना” अर्जित किया है। करौली के विभिन्न क्षेत्रों में इस कीट की व्यापक उपस्थिति ने किसानों के बीच चिंता बढ़ा दी है, जिन्हें फसल खराब होने का डर है। पत्ती खनिक मुख्य रूप से सरसों की पत्तियों को प्रभावित करते हैं, अंततः बीजों को प्रभावित करते हैं और फसल की पैदावार के लिए एक महत्वपूर्ण खतरा पैदा करते हैं।

लीफ माइनर रोग

लीफ माइनर, जिसे आमतौर पर टनल किट के नाम से जाना जाता है, सरसों की फसल को काफी नुकसान पहुंचाता है, जिसके परिणामस्वरूप किसानों को काफी वित्तीय नुकसान होता है। यदि उपचार न किया जाए तो यह रोग फसल के पूर्ण विनाश का कारण बन सकता है। हालाँकि, किसानों के पास इस खतरे से निपटने और अपनी सरसों की फसल की सुरक्षा के लिए व्यवहार्य समाधान हैं।

कृषि विभाग का सलाह

लीफ माइनर का प्रकोप प्रारंभिक बुआई चरण से लेकर अंतिम फसल तक फैलता है, जिससे फसल के पूरे जीवनचक्र में लगातार खतरा बना रहता है। वी.डी. करौली में कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक शर्मा मुद्दे की गंभीरता पर जोर देते हैं। लीफ माइनर, एक छोटी मक्खी के समान, अपने अंडे सरसों की पत्तियों की सतह पर जमा करती है। अंडे से निकले लार्वा पत्तियों में सुरंग बनाते हैं, जिससे विशिष्ट सर्पीन धारियों का निर्माण होता है। भोजन के इस व्यवहार से पत्तियों पर सफेद रेखाएं बन जाती हैं, जिससे क्लोरोफिल उत्पादन में बाधा आती है और अंततः फसल की उपज कम हो जाती है। इसके अतिरिक्त, कमजोर सरसों और तेल की मात्रा में कमी से किसानों को आर्थिक नुकसान हुआ है।

दवा

इस कृषि चुनौती के जवाब में, वी.डी. शर्मा लीफ माइनर संक्रमण के प्रभाव को कम करने के लिए एक व्यावहारिक दृष्टिकोण प्रदान करते हैं। किसानों को सलाह दी जाती है कि वे प्रति लीटर पानी में 1 मिलीलीटर डाइमेथोएट, 1 मिलीलीटर लैम्बडासाइहलोथ्रिन और 1 मिलीलीटर साइपरमेथ्रिन को घोलकर घोल बनाएं, जिसका उपयोग छिड़काव के लिए किया जा सकता है। वैकल्पिक रूप से, संक्रमण होने पर किसान प्रति बीघे 6 किलोग्राम फेनवेलरेट पाउडर डालकर इस कीट से निपट सकते हैं। इन तरीकों का उद्देश्य सरसों की फसल पर कहर बरपाने की लीफ माइनर की क्षमता को कम करना और किसानों को अपनी आजीविका की सुरक्षा का एक प्रभावी साधन प्रदान करना है।

FAQs :

1.) लीफ माइनर क्या है और यह करौली में सरसों की फसल के लिए चिंता का विषय क्यों है?

Ans : लीफ माइनर एक कीट है जो करौली में सरसों की फसल को संक्रमित करता है, जिससे इसे अशुभ उपनाम “काला सोना” मिलता है। यह सरसों की पत्तियों में सुरंग बनाकर काफी नुकसान पहुंचाता है, जिससे क्लोरोफिल उत्पादन कम हो जाता है, बीज कमजोर हो जाते हैं और तेल की मात्रा कम हो जाती है।

2.)  लीफ माइनर का प्रकोप कब होता है और यह कितने समय तक रहता है?

Ans : लीफ माइनर का प्रकोप सरसों की फसल की बुआई से लेकर कटाई की अवस्था तक होता है। यह फसल के पूरे जीवन चक्र में बना रहता है, जिससे किसानों के लिए लगातार खतरा बना रहता है।

इसे भी पढ़े

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !