Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

Tur Chana Price: अरहर और चना दाल मे भारी गिरावट, जाने बड़ी वजह

Tur Chana Price: अरहर और चना दाल मे भारी गिरावट, जाने बड़ी वजह –  हाल के दिनों में, हमने भारत में अरहर और चना दाल की मांग में उल्लेखनीय गिरावट देखी है। यह गिरावट विभिन्न तत्वों, जैसे बढ़े हुए आयात, सरकारी नियमों और उपभोक्ता प्राथमिकताओं में बदलाव के कारण हुई है। इस लेख में, हम इस गिरावट में योगदान देने वाले प्रमुख कारकों, थोक कीमतों पर प्रभाव और इन महत्वपूर्ण दालों के लिए भविष्य का पता लगाएंगे।

बढ़े हुए आयात की भूमिका

अरहर और चना दाल की मांग में कमी का एक मुख्य कारण आयात में वृद्धि है, खासकर अफ्रीका और कनाडा से। भारतीय दलहन और अनाज संघ (आईपीजीए) ने भारतीय बाजार में एक लोकप्रिय और अपेक्षाकृत महंगी अरहर दाल की थोक कीमतों में पिछले महीने लगभग 4% की उल्लेखनीय गिरावट दर्ज की है। अफ्रीका से अरहर और कनाडा से मसूर दाल की आमद ने प्रतिस्पर्धी परिदृश्य को बढ़ा दिया है, जिसके परिणामस्वरूप बाजार में गिरावट आई है।

सरकारी हस्तक्षेप और स्टॉक सीमाएँ

केंद्र सरकार ने व्यापारियों और प्रोसेसरों पर स्टॉक सीमा लगाकर अतिरिक्त स्टॉकहोल्डिंग और सट्टा व्यापार पर अंकुश लगाने के लिए सख्त कार्रवाई की है। इन सीमाओं ने अरहर दाल की कीमतों में गिरावट में योगदान दिया है। सरकार के उपायों का उद्देश्य आम जनता के लिए इन आवश्यक वस्तुओं की उचित कीमत और उपलब्धता सुनिश्चित करना है, लेकिन उन्होंने अनिवार्य रूप से बाजार की गतिशीलता को प्रभावित किया है।

चने की दाल की उपभोक्ता मांग में कमी

दालों, विशेषकर चना दाल की गिरती कीमतों के पीछे एक और महत्वपूर्ण कारक उपभोक्ता मांग में कमी है। जैसे-जैसे उपभोक्ता वैकल्पिक प्रोटीन स्रोतों की खोज कर रहे हैं और आहार संबंधी प्राथमिकताएं बदल रही हैं, चना दाल की मांग, जो कभी भारतीय घरों में मुख्य भोजन थी, कम हो गई है। उपभोक्ता व्यवहार में इस बदलाव ने बाजार में चना दाल की अधिकता पैदा कर दी है, जिससे इसकी कीमत पर दबाव बढ़ गया है।

तूर (अरहर) की कीमतें 

आईपीजीए का अनुमान है कि आने वाले हफ्तों में तुअर या अरहर की कीमतें दबाव में रहेंगी। यह अनुमान मुख्य रूप से सुस्त मांग और अफ्रीका से आपूर्ति में अपेक्षित वृद्धि के कारण है। बढ़ते आयात, सरकारी नियमों और उपभोक्ता प्राथमिकताओं में बदलाव के संयोजन ने भारतीय बाजार में अरहर दाल के लिए एक चुनौतीपूर्ण माहौल तैयार किया है।

चना दाल

चना दाल, जिसे अक्सर एक किफायती दाल माना जाता है, बाजार में उपलब्ध सबसे सस्ता विकल्प बन गया है। एक महीने में इसकी कीमत में 4% की गिरावट आई है, जिससे यह उपभोक्ताओं के लिए एक आकर्षक विकल्प बन गया है। हालाँकि, बढ़ते आयात और कम मांग के साथ दाल की गिरती कीमत, भारत में दाल की खपत के बदलते परिदृश्य का प्रतिबिंब है।

मूल्य में गिरावट में NAFED की भूमिका

राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन महासंघ (नेफेड) ने दालों, विशेषकर चना दाल की कीमतों में गिरावट में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। NAFED प्रतिस्पर्धी दरों पर चना बेच रहा है, जिससे बाजार में इस दाल की आपूर्ति बढ़ रही है। उद्योग विशेषज्ञों का अनुमान है कि त्योहारी मांग से दालों की गिरती कीमतों को अस्थायी राहत मिल सकती है।

टमाटर की कीमतें

अपना ध्यान सब्जी श्रेणी पर केंद्रित करते हुए, मूल्य निर्धारण की गतिशीलता काफी भिन्न है। टमाटर, जो खुदरा बाजार में अत्यधिक कीमतों पर पहुंच गया था, अब अपनी पूर्व लागत के एक अंश पर बेचा जा रहा है। इस नाटकीय बदलाव को आपूर्ति में प्रचुरता के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है, जिससे खुदरा बाजार में टमाटर की कीमतें 150 रुपये प्रति किलोग्राम से घटकर 10-20 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई हैं। थोक कीमतें और भी अधिक प्रतिस्पर्धी रही हैं, एक महीने से अधिक समय से 3-6 रुपये प्रति किलोग्राम पर मँडरा रही हैं।

भविष्य

अरहर और चना दाल की मांग में गिरावट, साथ ही टमाटर जैसी अन्य आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में उतार-चढ़ाव, हमारे दैनिक जीवन और बजट को प्रभावित करने वाले कारकों के जटिल जाल को उजागर करता है। जबकि आर्थिक कारक बाजार की स्थितियों को आकार देना जारी रखते हैं, उपभोक्ता आने वाले महीनों में अपने शॉपिंग कार्ट में चुनौतियों और अवसरों के मिश्रण की उम्मीद कर सकते हैं।

Also Read 

FAQs

1.) अरहर और चना दाल की कीमतों में गिरावट का कारण क्या है?

Ans:- अरहर और चना दाल की कीमतों में गिरावट मुख्य रूप से बढ़े हुए आयात, स्टॉक सीमा पर सरकारी नियमों और इन दालों से उपभोक्ता प्राथमिकताओं में बदलाव के कारण है।

2.) क्या दालों की कीमत बढ़ने की कोई संभावना है?

Ans:- हालांकि कीमतों में गिरावट आई है, उद्योग विशेषज्ञों का सुझाव है कि त्योहारी मांग के कारण दाल की कीमतों में अस्थायी वृद्धि हो सकती है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !