Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

मैक्सिको से आए गेहूँ के 100 किलो बीज, भारत मे हुआ गेहूं का भंडार जाने कैसे

मैक्सिको से आए गेहूँ के 100 किलो बीज, भारत मे हुआ गेहूं का भंडार जाने कैसे – भारत के प्रसिद्ध कृषि वैज्ञानिक एमएस स्वामीनाथन का भारतीय कृषि में योगदान वास्तव में उल्लेखनीय है। 1965 में, भारत को अपनी बढ़ती जनसंख्या की तुलना में कम कृषि उत्पादन की एक महत्वपूर्ण चुनौती का सामना करना पड़ा। इस गंभीर स्थिति में, स्वामीनाथन ने हरित क्रांति की शुरुआत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिसने देश के कृषि को बदल दिया। हरित क्रांति की विशेषता उच्च उपज वाली फसल किस्मों, विशेष रूप से गेहूं और चावल की शुरूआत और फसल की पैदावार बढ़ाने के लिए आधुनिक कृषि तकनीकों का उपयोग थी।

भारतीय कृषि में एमएस स्वामीनाथन का योगदान :

सिविल सेवा छोड़ कृषि करियर:

एमएस स्वामीनाथन ने सिविल सेवा छोड़ने और कृषि में अपना करियर बनाने का एक सचेत निर्णय लिया। उन्होंने अपनी विशेषज्ञता और प्रयासों को भारत के कृषि क्षेत्र में सुधार के लिए समर्पित करने का निर्णय लिया।

नोबेल पुरस्कार विजेता डॉ. नॉर्मन बोरलॉग से मुलाकात:

अपनी शैक्षणिक यात्रा के दौरान, स्वामीनाथन को कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में नोबेल पुरस्कार विजेता वैज्ञानिक डॉ. नॉर्मन बोरलॉग से मिलने का अवसर मिला। गेहूं की किस्मों और फसल सुधार पर डॉ. बोरलॉग के काम ने स्वामीनाथन को प्रेरित किया और उनके सहयोग की नींव रखी।

बोरलॉग को सरकार का निमंत्रण:

डॉ. बोरलॉग के अनुसंधान की क्षमता और भारत की कृषि चुनौतियों के लिए इसकी प्रयोज्यता को पहचानते हुए, भारत सरकार ने उन्हें भारत में काम करने और अपनी विशेषज्ञता साझा करने के लिए निमंत्रण दिया।

‘हरित क्रांति के जनक’:

डॉ. बोरलॉग के शोध को देश में लाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका के कारण एमएस स्वामीनाथन को अक्सर भारत में “हरित क्रांति के जनक” के रूप में जाना जाता है।

गेहूं उत्पादन में वृद्धि:

डॉ. बोरलॉग और भारत सरकार के सहयोग से, स्वामीनाथन ने भारत में अर्ध-बौनी किस्मों सहित उच्च उपज देने वाली गेहूं की किस्मों को पेश किया। इन नई किस्मों ने गेहूं के उत्पादन में उल्लेखनीय वृद्धि की, जिससे भोजन की कमी के संकट को दूर करने में मदद मिली।

स्थानीय किस्मों पर प्रयोग:

गेहूं की किस्मों को भारतीय परिस्थितियों के लिए अधिक उपयुक्त बनाने के लिए, स्वामीनाथन और भारतीय वैज्ञानिकों ने उन्हें स्थानीय किस्मों के साथ संकरण किया, जिसके परिणामस्वरूप उच्च उपज देने वाली और स्थानीय रूप से अनुकूलित गेहूं की उपभेदों का विकास हुआ।

खाद्य सुरक्षा पर प्रभाव:

अन्य वैज्ञानिकों और नीति निर्माताओं के साथ स्वामीनाथन के प्रयासों से भारत में गेहूं उत्पादन में वृद्धि हुई, जिसने खाद्य सुरक्षा बढ़ाने और अनाज आयात पर देश की निर्भरता को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

भारतीय कृषि में एमएस स्वामीनाथन के योगदान का देश के खाद्य उत्पादन और कृषि पद्धतियों पर स्थायी प्रभाव पड़ा है। किसानों की आजीविका में सुधार लाने और बढ़ती आबादी के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के प्रति उनका समर्पण कृषि के क्षेत्र में उनकी विरासत का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बना हुआ है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) एमएस स्वामीनाथन कौन हैं और भारतीय कृषि में उनका क्या योगदान है?

Ans:- एमएस स्वामीनाथन एक प्रसिद्ध भारतीय कृषि वैज्ञानिक हैं जिन्हें भारतीय कृषि में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए जाना जाता है। उन्होंने 1960 के दशक के दौरान भारत में हरित क्रांति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

2.) हरित क्रांति क्या थी और इसका भारत की कृषि पर क्या प्रभाव पड़ा?

Ans:- हरित क्रांति उच्च उपज वाली फसल किस्मों और उन्नत कृषि पद्धतियों की शुरूआत के कारण बढ़ी हुई कृषि उत्पादकता का काल था। भारत में, इसकी शुरुआत 1960 के दशक में हुई और इससे गेहूं और चावल जैसी फसलों के उत्पादन में उल्लेखनीय वृद्धि हुई। उपज में इस वृद्धि ने खाद्य सुरक्षा में सुधार और अनाज आयात पर देश की निर्भरता को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

3.) भारत की हरित क्रांति में डॉ. नॉर्मन बोरलॉग की क्या भूमिका थी?

Ans:- नोबेल पुरस्कार विजेता वैज्ञानिक डॉ. नॉर्मन बोरलॉग ने भारत में उच्च उपज देने वाली गेहूं की किस्मों को पेश करने के लिए एमएस स्वामीनाथन और भारत सरकार के साथ सहयोग किया। उनका शोध और विशेषज्ञता देश में हरित क्रांति को शुरू करने में सहायक थी। भारत सरकार ने डॉ. बोरलॉग को अपना ज्ञान साझा करने और इन उच्च उपज देने वाली गेहूं की किस्मों के लिए बीज उपलब्ध कराने के लिए आमंत्रित किया।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !