Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

Aam Ki Kisme :- रक्षामंत्री हुए इस आम के दिवाने 250 रुपये मे एक आम बिकने वाला किस्म

Aam Ki Kisme :- रक्षामंत्री हुए इस आम के दिवाने 250 रुपये मे एक आम बिकने वाला किस्म – जैसे-जैसे आम का मौसम ख़त्म होने वाला है उसी प्रकार से अगस्त और सितंबर में बाज़ार मे कुछ आमों की कुछ अनोखी और उत्तम किस्मों का स्वाद लेने का मौका भी मिलता है। इन किस्मों में से, लखनऊ का योग बिहार मैंगो गार्डन, जिसकी खेती आम प्रेमी एससी शुक्ला करते हैं, यह किस्म सबसे अलग है। इस आम के बगीचे में देशी और विदेशी दोनों नस्ल है, जिसे वैज्ञानिक तकनीकों से सावधानीपूर्वक तैयार किया जाता है।

लखनऊ में एक आम का स्वर्ग

लखनऊ का योग बिहार आम उद्यान आम की खेती की कला का एक प्रमाण है। आम के प्रति गहन जुनून रखने वाले आरसी शुक्ला द्वारा प्रबंधित, उद्यान आम की खेती में प्रयोग का केंद्र बन गया है। आम की खेती की जटिलताओं को समझने में गहरी रुचि के साथ, शुक्ला ने दुनिया भर में आम उगाने वाले विभिन्न देशों की यात्रा की है। परिणामस्वरूप, उद्यान अब यूरोप, अमेरिका, अफ्रीका और कई अन्य देशों से आम की नस्लों की मेजबानी करता है।

स्वाद और रंग है अलग

योग बिहार मैंगो गार्डन के आम स्वाद, रंग और आकार की एक समृद्ध टेपेस्ट्री प्रदर्शित करते हैं। पारंपरिक भारतीय आमों के विपरीत, इन किस्मों में विशिष्ट उपस्थिति और मनोरम छटा होती है। प्रत्येक आम को गुठली और रेशों में अंतर सहित अपनी विशिष्ट विशेषताओं के कारण अद्वितीय देखभाल और ध्यान की आवश्यकता होती है।

एक साल तक चलने वाला आम

जो बात इस आम के बगीचे को अलग करती है वह है मार्च से सितंबर तक आम की उपलब्धता। आम का यह मौसम आम के शौकीनों को लंबे समय तक अपने पसंदीदा फल का स्वाद चखने का मौका देता है। इस सफल उद्यम के पीछे के मास्टरमाइंड, राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता एससी शुक्ला स्वीकार करते हैं कि दशहरी, लंगड़ा और चौसा जैसी पारंपरिक भारतीय आम की किस्में अक्सर प्रतिकूल मौसम की स्थिति से प्रभावित होती हैं, जिससे किसानों को नुकसान होता है। इस तरह के नुकसान को कम करने के लिए, वह नवीन तकनीकों का इस्तेमाल करते हैं जो फसलों की सुरक्षा करती हैं।

एक ही पेड़ पर दो से तीन प्रजाति

इस उद्यान की अनूठी विशेषताओं में से एक एक ही पेड़ पर दो से तीन प्रजाति के आम लगाने की प्रथा है। आम के रोपण के प्रति शुक्ला के प्रेम ने उन्हें इस बगीचे की स्थापना करने और विभिन्न प्रजातियों के साथ प्रयोग करने के लिए प्रेरित किया। परिणाम एक ऐसा बाग है जो आम की विविधता का विस्मयकारी प्रदर्शन प्रस्तुत करता है।

लोगो का पसंदीदा आम का बगीचा

योग बिहार मैंगो गार्डन के आमों के स्वाद और गुणवत्ता ने गणमान्य व्यक्तियों की स्वाद कलियों को भी मंत्रमुग्ध कर दिया है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को इसी बाग के आमों का पारखी माना जाता है, जो इन आम की किस्मों के असाधारण स्वाद और आकर्षण को उजागर करते हैं।

लखनऊ का योग बिहार मैंगो गार्डन आम के शौकीनों के लिए एक स्वर्ग है, जो दुनिया भर से आम की किस्मों की एक रमणीय श्रृंखला पेश करता है। आम की खेती के प्रति एससी शुक्ला के जुनून और समर्पण ने इस बगीचे को शहर का एक अनोखा रत्न बना दिया है। Aam Ki Kisme का स्वाद, रंग और स्वाद के साथ एक बेजोड़ आम का अनुभव कराया जाता है जो इंद्रियों को उत्तेजित कर देता है। इसलिए, यदि आप आम प्रेमी हैं, तो प्यार और वैज्ञानिक विशेषज्ञता के साथ उगाए गए इन दुर्लभ 250 रुपये वाले आमों की भव्यता का आनंद लेने का अवसर न चूकें।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) योग बिहार मैंगो गार्डन के आमों को पारंपरिक भारतीय आमों से क्या अलग करता है?

Ans:- योग बिहार मैंगो गार्डन के आमों में विशिष्ट रूप, रंग और स्वाद हैं, जो उन्हें पारंपरिक भारतीय आम की किस्मों से अलग करते हैं।

2.) योग बिहार आम उद्यान प्रतिकूल मौसम से होने वाले नुकसान को कैसे कम करता है

Ans:- उद्यान आम की फसलों को प्रतिकूल मौसम की स्थिति से बचाने के लिए नवीन तकनीकों और वैज्ञानिक तरीकों का इस्तेमाल करता है।

3.) योग बिहार में Aam Ki Kisme का मौसम क्यों बढ़ाया जाता है?

Ans:-अलग-अलग समय पर पकने वाली आम की नस्लों के सावधानीपूर्वक चयन के कारण योग बिहार मैंगो गार्डन में आम का मौसम मार्च से सितंबर तक रहता है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !