Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

आंवला का वैज्ञानिक नाम, फायदे, नुकसान, बनने वाले पकवान

आंवला का वैज्ञानिक नाम, scientific name of Gooseberry आंवला के फायदे, नुकसान, बनने वाले पकवान आंवला के नुकसान आंवला के फायदे और नुकसान आंवला खाने के फायदे व नुकसान आंवला की रेसिपी – आंवला एक प्रकार का छोटा, गोल फल होता है जो आमतौर पर हरे, पीले या लाल रंग का होता है। यह यूरोप, उत्तरी अमेरिका और एशिया का मूल निवासी के रुप मे जाना जाता है। आमतौर इसका उपयोग अचार, जैम, जेली और आदि बनाने मे किया जाता है। आंवला मे  विटामिन सी और एंटीऑक्सिडेंट की मात्रा अधिक पायी जाती है, जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदे का कार्य करता है। इसके उपयोगों के अलावा, पाचन संबंधी दिक्कतो और श्वसन संक्रमण सहित कई प्रकार की बीमारियों के इलाज के लिए आंवले का उपयोग सदियों से घरेलु चिकित्सा में किया जाता रहा है। आंवला के अचार के साथ साथ इसका आयुर्वेद में कई प्रकार की दवाइयों के रूप में उपयोग किया जाता है। जो शरीर में बहुत ही फायदेमंद होता है। आज हम इस लेख में आपको बताएंगे कि आंवला से शरीर में क्या क्या लाभ होता है। साथ ही साथ आप को बताएंगे की आंवला का वैज्ञानिक नाम, फायदे, नुकसान, बनने वाले पकवान। जो श्याद आप नही जानते होगें।

आंवला का वैज्ञानिक नाम एवं कुल (Gooseberry Scientific Name in Hindi )

  • आंवला का वैज्ञानिक नाम Phyllanthus Emblica है।
  • यह Phyllanthaceae परिवार के रूप में भी जाना जाता है।
  • आंवला एक फल देने वाला पेड़ है जो भारतीय उपमहाद्वीप का मूल निवासी है।
  • आंवला का अधिक उपयोग अचार के रूप में किया जाता है।
  • इसका स्वाद ना मीटा ना कड़वा होता है। लोग आसानी से खा सकते है।
  • इसका उपयोग औषधी के रूप में किया जाता है।
  • आंवला में कई विटामिन पाये जाते है।
  • आंवला की रेसिपी कैसे बनाई जाती है। आइये जानते हैं आंवले का मुरब्बा बनाने की रेसिपी के बारे में

आंवला की रेसिपी

आंवला तो लगभग सभी के घर में इस्तेमाल किया जाता है। आंवला सेहत के लिए अच्छा माना जाता है आंवला खाने से शरीर के कई रोग खत्म हो जाते है। आंवला का आम तौर पर लोग मुरब्बा, अचार, जूस, आदि मे उपयोग करते है। आज हम आपको आंवले का मुरब्बा बनाने की रेसिपी बनाना बताएंगे आंवले का मुरब्बा बनाने की रेसिपी कैसे बनाये जिसके लिए आपको बहुत ज्यादा सामग्री जुटाने की जरूरत नहीं है और बहुत ही कम समय में आंवले का मुरब्बा बनाने की रेसिपी बनाकर तैयार कर सकते है।

आंवले का मुरब्बा बनाने की रेसिपी बनाने के लिए सामान

  • ताजा आंवला (fresh amla)
  • चीनी (sugar)
  • पानी (water)
  • इलायची पाउडर (cardamom powder)
  • केसर (saffron)

आंवला की सब्जी बनाने का आसान तरीका

  • आंवले को धो कर सुखा लीजिये. कांटे या टूथपिक से आंवले पर छेद कर दें।
  • एक बड़े कराही में चीनी और पानी मिलाएं और हल्की आंच पर बीच-बीच में चीनी और पानी को हिलाते हुए गर्म करें।
  • चीनी के पूरी तरह से घुल जाने के बाद, छेद किये हुए आंवले को कराही में डालें और मिश्रण में उबाल आने दें गर्म करें।
  • आँच को कम कर दें और आंवले को चाशनी में लगभग 25-30 मिनट तक पकने दें जब तक कि वे नरम न हो जाएँ और चाशनी गाढ़ी न हो जाए।
  • इसके बाद कराही में इलायची पाउडर और केसर के धागे डालें और अच्छी तरह मिलाएँ। गैस बंद कर दें और आंवले के मुरब्बे को कमरे के तापमान तक ठंडा होने दें।
  • ठंडा होने के बाद, आंवले के मुरब्बे को चाशनी के साथ एक साफ, डब्बे में डालें और फ्रिज में रख दें।
  • आंवले के मुरब्बे को मिठाई या नाश्ते के रूप में खा सकते है।
  • आंवले के मुरब्बे को 3-4 महीने तक फ्रिज में रख कर उपयोग किया जा सकता है।

आंवला का उपयोग

आंवला का कई तरह से उपयोग किया जाता है जो कि हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। आंवला मे अधिक मात्रा मे औषधि गुण पाया जाता हैं। आंवला का स्वाद ना मीटा ना कड़वा होता होता है। आंवला का मुरब्बा, अचार बनाकर खाये यह हमारे लिए औषधि के रुप मे काम करता है। जो हमारे स्वास्थ्य को बेहतर करने में मदद करता है। इसमें कई प्रकार के पोषक तत्व भी पाए जाते हैं।

  • आंवला की स्वादिष्ट मुरब्बा बनाया जाता है।
  • आंवला का अचार बनाकर लोग अपने भोजन में इसे शामिल करते हैं।
  • आंवला का जूस बनाकर भी पिया जाता है जो कि बहुत ही फायदेमंद का कार्य करता है।
  • आंवला का उपयोग अन्य फलों की तरह हेयर मास्क बनाने में किया जाता है।
  • आंवला के पेस्ट से सूजन वाले स्थान पर लगाने पर राहत मिलता है।
  • आंवला को त्वचा पर लगाने पर त्वचा में निखार आती है इसका फेस मास्क भी बनाकर उपयोग किया जाता है

चलिए आपको बताते हैं कि आंवला खाने से शरीर में किस प्रकार के फायदे और नुकसान होने है, दोनों के बारे में पूरी जानकारी देंगे तो आप हमारे साथ बने रहें और आंवला के बारे मे पूरी जानकारी नीचे प्राप्त करें।

इसे भी पढ़े:-

आंवला के फायदे (Benefits of Gooseberry in Hindi)

अगर आप भी आंवला का उपयोग नही करते है तो यह पढ़ने के बाद आप जरूर आंवला का उपयोग करना शुरू कर देंगे, क्योंकि आंवला में कई प्रकार के औषधि गुण पाए जाते हैं जो हमें स्वस्थ रखने के लिए काफी मदद करते हैं। जैसा कि हमने ऊपर बताया कि आंवला में कई प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं उसमें, कैल्शियम, सोडियम, जिंक, कॉपर, सेलेनियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटैशियम, तथा के प्रोटीन भी पाए जाते हैं। आंवला बहुत ही फायदेमंद होता है। इसके बारे में पूरी जानकारी हम नीचे दे रहे है। आप इसे पुरा पढ़े

1. बालों के लिए आंवला के फायदें

बालों को स्वस्थ बनाने के लिए आंवला का उपयोग करना बहुत फायेदमन्द होता है आंवले में पाए जाने वाले विटामिन सी कोलाजन प्रोटीन का उत्पादन करता है जो बालों के बढने में मददगार साबित होता यही मुख्य कारण है कि हेयर केयर प्रोडक्ट में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है आंवला के गुणों के कारण इसे कई एविडेंस बेस्ड कंप्लीमेंट एंड अल्टरनेटिव मेडिसिन द्वारा चूहों पर किए गए एक रिसर्च के अनुसार पता चला है कि आंवला एक बेहतरीन हेयर टॉनिक के रूप में उपयोग किया जा सकता है जो हमारे बालों को बढ़ाने में मदद करता है साथ ही साथ यह बालों को प्राकृतिक रंग के रूप में बनाए रखने में भी मदद रखता है इसलिए बालों को स्वस्थ और घने बनाने के लिए हमें आंवले के रस का उपयोग करना चाहिए।

2. कब्ज़ के लिए आंवला के फायदे

आंवला में पानी और फाइबर अधिक होता है जो कब्ज के लिए एक बेहतरीन प्राकृतिक उपचार माना जाता है। उच्च पानी होने के कारण मल को नरम करने में मदद करती है, जिससे मल त्याग करने मे आसानी होती है। जबकि फाइबर मल को बल्क जोड़ने में मदद करता है और मल त्याग को बढ़ावा देता है। आंवला में एरुसीन नामक एक प्राकृतिक यौगिक भी होता है, जो पाचन तंत्र को उत्तेजित करने और नियमित मल त्याग को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है। नियमित रूप से आंवला खाने से कब्ज की समस्या और पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में मदद मिल सकती है। इसके अतिरिक्त, आंवला मे कैलोरी कम और पोषक तत्वों अधिक होते हैं जो शरीर को स्वस्थ और संतुलित बनाने मे मदद करते है।

3. प्रतिरोधक क्षमता के लिए आंवला के फायदेमंद

आंवला खाने से शरीर की प्रतिरोधी क्षमता में सुधार होता है जर्नल ऑफ फार्माकोग्नॉसी एंड फाइटोकेमिस्ट्री के मुताबिक शरीर में उर्जा और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए आंवला का उपयोग किया जा सकता है और कई रोगों से बचा जा सकता है वही एक रिसर्च में पाया गया है कि आंवला में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो प्रतिरोधक क्षमता को सुधारने में मदद करते हैं इसके आधार पर यह कहना सही रहेगा कि शरीर के रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए आंवला हमारे लिए बहुत ही कारगर साबित होता है हालांकि अभी यह कितना कारगर होता है इस पर रिसर्च करने की आवश्यकता है क्योंकि कितने आंवला खाने पर शरीर की प्रतिरोधक क्षमता में सुधार होता है इस पर अभी रिसर्च किया जाना आवश्यक है।

4. एंटी-कोलेस्ट्रॉल गुण आंवला मे

आंवला में एंटी-कोलेस्ट्रॉल गुण पाए गए हैं। इसमें उच्च स्तर के एंटीऑक्सिडेंट और अन्य यौगिक होते हैं जो रक्त में कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करते हैं, जिसे खराब कोलेस्ट्रॉल भी कहा जाता है। रिसर्च से पता चला है कि आंवला का नियमित रूप से सेवन करने से एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और उच्च घनत्व वाले लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाने में मदद मिल सकती है, जिसे अच्छा कोलेस्ट्रॉल माना जाता है। माना जाता है कि आंवला में सूजन-रोधी प्रभाव भी होते हैं, जो हृदय रोग और उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर से संबंधित अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के जोखिम को कम कर सकते हैं। कुल मिलाकर, आंवला के एंटी-कोलेस्ट्रॉल गुण इसे हृदय-स्वस्थ आहार में शामिल करने के लिए एक लाभकारी भोजन बनाते हैं।

5. मोटापा रोगियों के लिए आंवला

मोटापा की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए आंवला रामबाण का काम कर सकता है National Center for Biotechnology Information की एक रिपोर्ट के अनुसार आंवले पर किए गए शोध पर उन्होंने बताया कहीं की आंवले में एंटी ओबेसिटी यानी मोटापे की समस्या से राहत दिलाने वाला गुण पाया जाता है इस आधार पर यह माना जाता है कि आंवला का उपयोग करने से मोटापे की समस्या कुछ हद तक राहत पाई जा सकती है हालांकि रोगियों को सेवन के साथ-साथ हैं नियमित व्यायाम और संतुलित खानपान का विशेष ध्यान देना जरूरी होगा ताकि इस रोग से उन्हें एक सकारात्मक परिणाम देखने को मिल सके।

6. यूरिनरी सिस्टम संबंधित परेशानियों में राहत

यूरिन की समस्या से परेशान महिला, पुरुष, बच्चे के लिए आंवला बहुत ही कारगर साबित होता है सामान्य रूप से यूरिन की समस्या बुजुर्ग पुरुषों में अधिक देखने मिलती है इसका कारण यह होता है कि बढ़ती उम्र के साथ बुजुर्ग पुरुषों में प्रोस्टेट ग्रंथि में सूजन आ जाता है ऐसे में आंवला का सेवन इससे राहत मिल सकता है एक रिसर्च के अनुसार आयुर्वेद में इसे फल या जड़ी-बूटी में शामिल किया गया है आंवला में डियूरेटिक गुण पाए जाते हैं जो यूरिन की समस्या को कम करने में बहुत ही कारगर साबित होता है इसलिए कहा जाता है कि आंवला का जूस पीने से यूरिन ना होने की समस्या काफी हद तक कम होती है इसलिए आंवला का उपयोग करना चाहिए और अपने शरीर को स्वस्थ बनाना चाहिए।

7. पाचन प्रकिया में आंवला के फायदे

शरीर में पाचन प्रक्रिया का सही रहना बहुत ही आवश्यक होता है क्योंकि सभी रोगों का जड़ पाचन से संबंधित होता है इसलिए आमला का जूस पीने से हमारी पाचन क्रिया सही रहती है दरअसल कई रिसर्च में इस बात की पुष्टि हुई है कि पाचन सुधार और भूख बढ़ाने के लिए आंवला का उपयोग किया जा सकता है वहीं एक रिसर्च के अनुसार आंवला पेट के अल्सर और अपच की समस्या को सुधारने में भी बहुत ही कारगर साबित देखा गया है साथ ही साथ पेट में बनी हुई गैस की समस्या से राहत दिलाने में आंवला बहुत ही कारगर साबित होता है इन सभी तथ्यों से यह कहा जा सकता है कि आंवला का उपयोग करने से हमारी पाचन क्रिया बहुत ही मजबूत होती है और हमारा शरीर स्वस्थ बनता है।

8. रक्तचाप मे आंवला के फायदे

उच्च पोटेशियम होने के कारण आमला रक्तचाप के लिए लाभ दे सकते हैं। पोटेशियम एक महत्वपूर्ण खनिज है जो रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है। सोडियम रक्तचाप बढ़ाने के लिए जाना जाता है, जबकि पोटेशियम इसे कम करने में मदद करता है। आमला पोटैशियम का एक अच्छा स्रोत है, जिसमें एक ककड़ी में लगभग 200-250 मिलीग्राम पोटैशियम होता है। कम सोडियम और उच्च पोटेशियम वाले आहार में आमला को शामिल करके, आप अपने रक्तचाप को कम करने और उच्च रक्तचाप के विकास के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं।

9.आंखों की रोशनी के लिए आंवला के लाभ

जर्नल ऑफ फार्माकोग्नॉसी एंड फाइटोकेमिस्ट्री के एक रिसर्च के अनुसार आंवला का उपयोग करने से कंजेक्टिवाइटिस और ग्लूकोमा आंखों के विकास में बहुत ही कारगर साबित होता है बता दें कि कंजेक्टिवाइटिस से आंख के सफेद हिस्से में सूजन और ग्लूकोमा में रोगी की नजर कमजोर होने लगती है इसके साथ-साथ आंखों की नसों पर पड़ने वाले अत्यधिक दबाव से राहत मिलने में आंवला बहुत ही मदद करता है इसलिए आंवले का जूस में शहद मिलाकर दिन में दो से तीन बार सेवन करने से आंखों की रोशनी बढ़ती है और यह आंखों के लिए बहुत ही फायदेमंद का कार्य करता है यह बात स्पष्ट नहीं है कि आंवला में मौजूद कौन सा तत्व आंखों के लिए फायदेमंद होता है लेकिन आंवला का उपयोग करने से आंखों की रोशनी बढ़ती है।

10. हृदय के लिए आंवला के फायदे

हृदय की समस्या को कम करने के लिए हमें आंवला का उपयोग करना चाहिए यह हमारे लिए बहुत ही फायदेमंद का कार्य करता है इंडियन जर्नल आफ फार्मोकोलॉजी द्वारा एक रिसर्ट के अनुसार आंवले का उपयोग करने से शरीर में बढ़े हुए लिपिड की मात्रा कम होती है और ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करता है यह दोनों हृदय में संबंधित जोखिम को कम करने में मदद करते हैं इसलिए कहा जाता है कि आंवले का औषधि गुण हृदय को स्वस्थ बनाने में मदद करता है फिलहाल हृदय पर आंवले का कितना प्रभाव पड़ता है इस पर अभी और रिसर्च करने की आवश्यकता है।

आंवला के नुकसान (Side Effects of Gooseberry in Hindi)

आंवला का उपयोग अधिकत्तर मुरब्बा, अचार के रुप मे उपयोग किया जाता है। इसका लोग अपनी पसंद के हिसाब से उपयोग करते हैं लेकिन कुछ परिस्थितियों में यह हमारे लिए हानिकारक हो सकता है इसलिए आपको आंवला का उतना ही उपयोग करना चाहिए, जिससे आप को कोई समस्याओं का सामना ना करना पड़े। आंवला के खाने से हमें फायदे और नुकसान दोनों होते हैं नीचे हमने आंवला के खाने से कुछ नुकसान के बारे में बताया है।

  • वैसे तो आवला ब्लड प्रेशर को कम करने में सहायक माना जाता है लेकिन लो ब्लड प्रेशर से ग्रस्त रोगियों के लिए यह कभी हानिकारक का कारण बन सकता है इसलिए बिना डॉक्टर की सलाह किसका उपयोग ना करें
  • आवला के अधिक सेवन से पाचन संबंधी समस्याएं जैसे सूजन, गैस और दस्त हो सकते हैं।
  •  गर्भवती महिलाओं को आंवला का उपयोग करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेकर ही उपयोग करना चाहिए।
  • वैसे तो त्वचा के लिए आंवला बहुत ही फायदेमंद माना गया है कई लोगों में आंवला के उपयोग से एलर्जी की समस्या देखी गई है कभी उनके शरीर पर त्वचा पर लाल, खुजलीदार और जलनशील चक्कते, सांस लेने में तकलीफ और आंखों व नाक में समस्या हो सकती है।

यहां हमने आवला से संबंधित कुछ जानकारियां इस लेख में बताई हैं आवला हम सब सामान्य रूप से मुरब्बा, अचार,आदि मे उपयोग करते हैं। लेकिन इसका अत्यधिक सेवन नहीं करना चाहिए जिससे कि किसी प्रकार की समस्या का कारण बने। अगर आपको किसी प्रकार की कोई समस्या होती है तो आप अपने डॉक्टर से सलाह लेकर ही उपयोग करें। आशा करता हूं कि आज हमने आवला के बारे में जो आपको जानकारियां प्रदान की है वह आपके लिए काफी मददगार साबित हुई होंगी। ऐसे ही जानकारियों के लिए हमारे साथ जुड़े रहे। धन्यवाद

इसे भी पढ़े:-

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

1.) आंवला का वैज्ञानिक नाम और कुल क्या है ?

Answer:- आंवला का वैज्ञानिक नाम Phyllanthus Emblica है।

2.) बालों के लिए आंवला का उपयोग करने के क्या फायदे हैं?

Answer:- आंवला विटामिन सी से भरपूर होता है, जो कोलेजन प्रोटीन का उत्पादन करने में मदद करता है जो बालों के विकास को बढ़ावा देता है। यह एक प्राकृतिक हेयर टॉनिक भी है जो बालों को स्वस्थ और घना बनाने में मदद करता है। इसके अतिरिक्त, यह बालों के प्राकृतिक रंग को बनाए रखने में मदद करता है।

3.) आंवला कब्ज में कैसे मदद कर सकता है?

Answer:- आंवला में पानी और फाइबर अधिक होता है, जो इसे कब्ज के लिए एक बेहतरीन प्राकृतिक उपचार बनाता है। आंवला में एरुसीन नामक एक प्राकृतिक यौगिक भी होता है, जो पाचन तंत्र को उत्तेजित करने और नियमित मल त्याग को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।

4.) क्या आंवला शरीर की प्रतिरोधक क्षमता में सुधार कर सकता है?

Answer:- जी हां, आंवला खाने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। जर्नल ऑफ फार्माकोग्नॉसी एंड फाइटोकेमिस्ट्री द्वारा किए गए शोध के अनुसार, आंवला में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो प्रतिरक्षा में सुधार करने में मदद करते हैं। हालांकि, यह कितना प्रभावी है यह निर्धारित करने के लिए अधिक शोध की आवश्यकता है।

5.) क्या आंवला में एंटी-कोलेस्ट्रॉल गुण होते हैं?

Answer:-हां, आंवला में एंटी-कोलेस्ट्रॉल गुण पाए गए हैं। आंवला में सूजन-रोधी प्रभाव भी होते हैं, जो हृदय रोग और उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर से संबंधित अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के जोखिम को कम कर सकते हैं।

6.) क्या आंवला मोटापे में मदद कर सकता है?

Answer:- हां, नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन द्वारा किए गए शोध के अनुसार, आंवला में मोटापा-विरोधी गुण होते हैं जो मोटापे से पीड़ित लोगों को राहत प्रदान कर सकते हैं। हालांकि, इष्टतम परिणामों के लिए नियमित व्यायाम और संतुलित आहार पर ध्यान देना भी महत्वपूर्ण है।

7.) आंवला मूत्र प्रणाली से संबंधित समस्याओं में कैसे राहत प्रदान कर सकता है?

Answer:- आंवला में मूत्रवर्धक गुण होते हैं, जो पेशाब की समस्या को कम करने में कारगर हो सकते हैं। शोध के अनुसार, यह मूत्र प्रणाली से संबंधित समस्याओं से परेशान महिलाओं, पुरुषों और बच्चों को राहत दे सकता है, खासतौर पर प्रोस्टेट ग्रंथि की सूजन से पीड़ित बुजुर्ग पुरुषों में।

8.) आंवला पाचन प्रक्रिया को कैसे लाभ पहुंचा सकता है?

Answer:- पेट में अल्सर, अपच और पेट में गैस की समस्या को दूर करने में आंवला कारगर हो सकता है। यह पाचन क्रिया को सही रखने में मदद करता है, जो समग्र स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है।

9.) क्या आंवला खाने के कोई नुकसान हैं?

Answer:- जी हां, आमला के अधिक खाने से सूजन, गैस और दस्त जैसी पाचन समस्याएं हो सकती हैं। लो ब्लड प्रेशर के मरीजों में भी यह नुकसान पहुंचा सकता है और गर्भवती महिलाओं को इसका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !