Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

करोड़पति बने केवल मुर्गी पालन करके, 15 लाख महिने का कमाये सरकार की मदद से

करोड़पति बने केवल मुर्गी पालन करके, 15 लाख महिने का कमाये सरकार की मदद से –मुर्गीपालन एक आशाजनक उद्यम के रूप में उभरा है, जो पर्याप्त लाभ उत्पन्न करने की क्षमता प्रदान करता है। यह व्यवसाय न केवल पोल्ट्री उत्पादों की बढ़ती मांग का लाभ उठाता है, बल्कि सरकारी सहायता और वित्तीय समर्थन के साथ प्रयास शुरू करने का अवसर भी प्रदान करता है। आइए जानें कि कैसे आप सरकारी सहायता और बैंक ऋण द्वारा प्रति माह 15 लाख रुपये तक की कमाई करके कम लागत वाली मुर्गी पालन के माध्यम से करोड़पति बन सकते हैं।

सरकारी सहायता एवं बैंक ऋण

पोल्ट्री फार्मिंग सरकारी सहायता और बैंक ऋण दोनों के लिए अपना हाथ बढ़ाती है, जिससे इस यात्रा पर जाने के इच्छुक उम्मीदवारों के लिए एक मजबूत आधार तैयार होता है। भारतीय स्टेट बैंक, वाणिज्यिक बैंकिंग में एक प्रमुख खिलाड़ी, मुर्गी पालन के लिए ऋण देकर वित्तीय सहायता प्रदान करता है। इस समर्थन का विशिष्ट पहलू इस तथ्य में निहित है कि आपको केवल 25% पूंजी निवेश करने की आवश्यकता है, जबकि शेष राशि बैंक ऋण द्वारा कवर की जाती है।

मुर्गीपालन के सब्सिडी 

सरकार मुर्गीपालन के महत्व को पहचानते हुए मुर्गीपालकों को सब्सिडी देकर इसे प्राथमिकता देती है। ये सब्सिडी वित्तीय विकास के लिए उत्प्रेरक हैं, जो इस क्षेत्र में उद्यम करने वालों को मदद प्रदान करती हैं। सरकार सामान्य श्रेणी के अंतर्गत आने वाले व्यक्तियों को 25% तक की सब्सिडी आवंटित करती है, और अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लिए इससे भी अधिक 33% की सब्सिडी आवंटित करती है। ये सब्सिडी सीधे आपके बैंक ऋण की ब्याज दरों पर प्रभाव डालती है, जिससे समग्र प्रयास अधिक वित्तीय रूप से व्यवहार्य हो जाता है।

ऋण आवेदन की प्रक्रिया

मुर्गी पालन से करोड़पति बनने की दिशा में अपनी यात्रा शुरू करने के लिए, पहले कदम में अपनी स्थानीय भारतीय स्टेट बैंक शाखा में जाना शामिल है। यहां, आप एक बैंक अधिकारी से मिलते हैं जो आपको ऋण आवेदन प्रक्रिया से परिचित कराता है। यह इंटरैक्शन आपको ऋण अनुमोदन के लिए आवश्यक शर्तों और दस्तावेज़ों की जानकारी भी प्रदान करता है। इसके बाद, आप एक व्यापक परियोजना प्रस्ताव संकलित करते हैं जो आपके पोल्ट्री फार्मिंग उद्यम की लागत और जटिलताओं को चित्रित करता है। एक बार जब आपके प्रोजेक्ट को बैंक की मंजूरी मिल जाती है, तो स्वीकृत ऋण राशि आपके खाते में निर्बाध रूप से स्थानांतरित कर दी जाती है।

मुर्गी पालन में पूंजीगत खर्च

पोल्ट्री फार्मिंग व्यवसाय शुरू करने के लिए एक परिकलित निवेश की आवश्यकता होती है, जो मुख्य रूप से आपके ऑपरेशन के पैमाने पर निर्भर करता है। ब्रॉयलर फार्मिंग के लिए, जिसमें लगभग 10,000 मुर्गियों का पालन-पोषण शामिल है, प्रारंभिक पूंजी की आवश्यकता 4 से 5 लाख रुपये तक होती है। दूसरी ओर, पोल्ट्री लेयर फार्मिंग, एक अधिक व्यापक प्रयास, 10 से 12 लाख रुपये के निवेश की मांग करता है। ब्रॉयलर फार्मिंग की कमाई क्षमता अधिकतम 70 लाख रुपये तक पहुंचती है, जबकि पोल्ट्री लेयर फार्मिंग में न्यूनतम 15 लाख रुपये से कम का रिटर्न मिलता है।

मुर्गीपालन से कामाई का मार्ग

मुर्गीपालन एक आकर्षक विकल्प है जो सरकारी सहायता और बैंक ऋण पहुंच के लाभ के साथ पर्याप्त लाभ की संभावना को जोड़ता है। इस रास्ते पर चलकर, आप न केवल वित्तीय विकास सुनिश्चित करते हैं बल्कि आधिकारिक सहायता द्वारा प्रदान की गई स्थिरता और सुरक्षा का भी लाभ उठाते हैं। स्व-निवेश और बैंक ऋण का संयोजन, सरकारी सब्सिडी द्वारा पूरक, एक पारिस्थितिकी तंत्र बनाता है जिसमें कमाई की संभावना अधिकतम होती है।

इसे भी पढ़े –

FAQs

1.) मैं भारतीय स्टेट बैंक से मुर्गीपालन ऋण के लिए कैसे आवेदन करूं?

Ans:- ऋण के लिए आवेदन करने के लिए, अपनी स्थानीय भारतीय स्टेट बैंक शाखा में जाएँ, बैंक अधिकारी से बातचीत करें, और अपने मुर्गीपालन व्यवसाय की रूपरेखा बताते हुए एक विस्तृत परियोजना प्रस्ताव प्रस्तुत करें।

2.) मुर्गी पालन में मुझे कितने प्रतिशत पूंजी निवेश करने की आवश्यकता है?

Ans:- आपको पूंजी का केवल 25% निवेश करना होगा, शेष राशि बैंक ऋण द्वारा कवर की जाएगी।

3.) मुर्गीपालन में सब्सिडी के लिए कौन पात्र है?

Ans:- सामान्य वर्ग (25% तक) और अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति (33%) दोनों को सब्सिडी प्रदान की जाती है, जो आपके बैंक ऋण की ब्याज दरों को भी प्रभावित करती है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !