Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

किसानो के लिए मोदी सरकार का बड़ा निर्यण, गैर-बासमती चावल के निर्यात को मिली मंजूरी

किसानो के लिए मोदी सरकार का बड़ा निर्यण, गैर-बासमती चावल के निर्यात को मिली मंजूरी – हालिया घटनाक्रम में भारत में मोदी सरकार ने अपनी व्यापार नीतियों में निर्णायक कदम उठाए हैं। जबकि इसने कई देशों में गैर-बासमती चावल के निर्यात की अनुमति दी है, चीनी निर्यात पर प्रतिबंध का विस्तार किया गया है। इस लेख में, हम इन नीति परिवर्तनों और उनके लाभ के बारे मे पता लगाएंगे।

गैर-बासमती चावल का निर्यात

मोदी सरकार ने 10,34,800 टन गैर-बासमती चावल के निर्यात को मंजूरी दे दी है. यह चावल नेपाल, कैमरून और मलेशिया समेत सात देशों में भेजा जाएगा। विदेश व्यापार महानिदेशालय ने एक अधिसूचना जारी कर खुलासा किया कि यह निर्यात अभियान नेशनल कोऑपरेटिव एक्सपोर्ट लिमिटेड द्वारा किया जाएगा।

इस निर्णय से भारत और प्राप्तकर्ता देशों दोनों को लाभ होने की उम्मीद है। यह एक रणनीतिक कदम है, जो भारत को उन देशों की खाद्य सुरक्षा आवश्यकताओं का समर्थन करने की अनुमति देता है जो उसके चावल उत्पादन पर निर्भर हैं। तो, इस चावल निर्यात से कौन से देश लाभान्वित हो रहे हैं?

लाभार्थी राष्ट्र

अधिसूचना के अनुसार, कई देशों को भारत से गैर-बासमती चावल की खेप प्राप्त होगी:

  • नेपाल: 95,000 टन
  • कैमरून: 1,90,000 टन
  • कोटे डी आइवर: 1,42,000 टन
  • गिनी: 1,42,000 टन
  • मलेशिया: 1,70,000 टन
  • फिलीपींस: 2,95,000 टन
  • सेशेल्स: 800 टन

इन शिपमेंट का उद्देश्य स्वस्थ अंतर्राष्ट्रीय व्यापार वातावरण बनाए रखना और वैश्विक खाद्य सुरक्षा का समर्थन करना है।

चीनी निर्यात क्यो लगा प्रतिबंध

जहां मोदी सरकार गैर-बासमती चावल के निर्यात की सुविधा दे रही है, वहीं चीनी निर्यात पर प्रतिबंध का विस्तार किया गया है। ये प्रतिबंध, जिनमें कच्ची चीनी, सफेद चीनी, परिष्कृत चीनी और जैविक चीनी शामिल हैं, को 31 अक्टूबर, 2023 से आगे बढ़ा दिया गया है।

विदेश व्यापार महानिदेशालय ने एक हालिया अधिसूचना में यह घोषणा की। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ये प्रतिबंध सीएक्सएल (सामान्य सीमा शुल्क कानून) और टीआरक्यू (टैरिफ दर कोटा) शुल्क छूट कोटा के तहत यूरोपीय संघ (ईयू) और संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) को निर्यात की जाने वाली चीनी पर लागू नहीं होंगे। ये समझौते प्रतिबंधों के तहत भी एक निश्चित मात्रा में चीनी निर्यात करने की अनुमति देते हैं।

भारत दुनिया के सबसे बड़े चीनी उत्पादक और दूसरे सबसे बड़े चीनी निर्यातक के रूप में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। प्रतिबंधित श्रेणी के तहत, किसी भी चीनी निर्यातक को निर्यात के लिए आगे बढ़ने के लिए सरकार से लाइसेंस या अनुमति प्राप्त करने की आवश्यकता होती है। सरकार देश के भीतर चीनी की स्थिति की निगरानी कर रही है, चीनी उत्पादन, खपत, निर्यात के साथ-साथ थोक और खुदरा बाजारों में मूल्य रुझान को कवर कर रही है।

निष्कर्ष 

चुनिंदा देशों को गैर-बासमती चावल के निर्यात की अनुमति देने का भारत सरकार का निर्णय वैश्विक खाद्य सुरक्षा का समर्थन करने की उसकी प्रतिबद्धता को दर्शाता है। गैर-बासमती चावल की घरेलू आपूर्ति बनाए रखते हुए, भारत जरूरतमंद देशों के साथ अपना सहयोग भी बढ़ा रहा है। दूसरी ओर, चीनी निर्यात प्रतिबंधों का विस्तार चीनी बाजार को कुशलतापूर्वक प्रबंधित करने और विशेष रूप से त्योहारी सीजन के दौरान घरेलू उपलब्धता सुनिश्चित करने पर सरकार के फोकस को दर्शाता है।

ये नीतिगत परिवर्तन अंतर्राष्ट्रीय व्यापार, खाद्य सुरक्षा और भारत के आर्थिक हितों के बीच नाजुक संतुलन को उजागर करते हैं। जैसे-जैसे सरकार इन चुनौतियों से निपटती जा रही है, वह ऐसे निर्णय लेने के लिए प्रतिबद्ध है जिससे देश और उसके वैश्विक भागीदारों दोनों को लाभ हो।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) भारत सरकार चीनी निर्यात प्रतिबंध क्यों बढ़ा रही है?

Ans:- सरकार का लक्ष्य विशेष रूप से त्योहारी सीजन के दौरान पर्याप्त घरेलू चीनी उपलब्धता सुनिश्चित करना है। यह कदम स्थिर कीमतों को बनाए रखने और घरेलू मांग को पूरा करने में मदद करता है।

2.) कौन से देश भारत से गैर-बासमती चावल प्राप्त करने के पात्र हैं?

Ans:- नेपाल, कैमरून, कोटे डी आइवर, गिनी, मलेशिया, फिलीपींस और सेशेल्स भारत के गैर-बासमती चावल निर्यात से लाभान्वित होने वाले देशों में से हैं।

3.) गैर-बासमती चावल के निर्यात में नेशनल कोऑपरेटिव एक्सपोर्ट लिमिटेड की क्या भूमिका है?

Ans:-नेशनल कोऑपरेटिव एक्सपोर्ट लिमिटेड को एक सुचारू और नियंत्रित प्रक्रिया सुनिश्चित करते हुए कई देशों में गैर-बासमती चावल के निर्यात की सुविधा प्रदान करने का काम सौंपा गया है

4.) चीनी निर्यात में सीएक्सएल और टीआरक्यू शुल्क छूट कोटा का क्या महत्व है?

Ans:- सीएक्सएल और टीआरक्यू शुल्क छूट कोटा एक निश्चित मात्रा में चीनी को यूरोपीय संघ और संयुक्त राज्य अमेरिका में निर्यात करने की अनुमति देता है, भले ही वहां सामान्य प्रतिबंध हों।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !