Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

Karonda Ki Kheti करिए करोड़पत्ती बनिएं, आयरन की गोली’ के नाम से फेमस

Karonda Ki Kheti करिए करोड़पत्ती बनिएं, आयरन की गोली’ के नाम से फेमस – करोंदा, जिसे वैज्ञानिक रूप से कैरिसा कारंडास के नाम से जाना जाता है, एक खट्टा फल है जिसे ‘आयरन की गोली ‘ के उपनाम से जाना जाता है। इसके फल में पाए जाने वाले आयरन की उच्च मात्रा के कारण यह उपाधि अच्छी तरह से योग्य है। करोंदा अपनी आसान खेती के लिए प्रसिद्ध है, जो न केवल भारत में बल्कि दक्षिण अफ्रीका और मलेशिया जैसे देशों में भी फल-फूल रहा है। इस लेख में, हम इस अनोखे फल की खेती की प्रक्रिया और इसके स्वास्थ्य लाभों के बारे में जानेंगे।

करौंदा के औषधीय चमत्कार 

करोंदा फलों की पहचान उनके खट्टे और कसैले स्वाद से होती है। हालाँकि, उनका असली मूल्य उनकी लौह सामग्री में निहित है, जो उन्हें एनीमिया से लड़ने वाले व्यक्तियों, विशेष रूप से महिलाओं के लिए एक वरदान बनाता है। लेकिन लाभ यहीं नहीं रुकते। करोंदा औषधीय गुणों का खजाना है, इसमें एंटीऑक्सिडेंट, एंटीअल्सर, एंटीडायबिटिक, हेपेटोप्रोटेक्टिव, कार्डियोवस्कुलर, मलेरिया-रोधी, कृमिनाशक, एंटीवायरल और एंटीस्कोरब्यूटिक गुण हैं।

करोंदा की किस्में

जब Karonda Ki Kheti की बात आती है, तो चुनने के लिए कई किस्में उपलब्ध हैं। कुछ प्रमुख किस्मों में कोंकण बोल्ड, CHESK-II-7, CHESK-V-6, मारू गौरव, थार कमल, पंत सुवर्णा, पंत मनोहर और पंत सुदर्शन शामिल हैं। इन पौधों को मुख्य रूप से बीजों से प्रचारित किया जाता है, जो उत्पादकों के लिए विविध प्रकार के विकल्प पेश करते हैं।

रोपण एवं सिंचाई

Karonda Ki Kheti की प्रक्रिया शुरू करने के लिए, विशिष्ट चरणों का पालन करना आवश्यक है। अगस्त-सितंबर के महीनों में पूरी तरह पके फलों से बीज निकालकर तुरंत नर्सरी में बो दें। आदर्श रूप से, बुआई जुलाई और अगस्त के बीच होनी चाहिए। तेजी से विकास और झाड़ीदार पौधों को सुनिश्चित करने के लिए, प्रारंभिक वर्षों के दौरान नाइट्रोजन का उपयोग करें। पानी देना महत्वपूर्ण है, नए स्थापित बगीचों को गर्मियों में हर 7 से 10 दिन और सर्दियों में 12 से 15 दिन में सिंचाई की आवश्यकता होती है। अच्छी खबर यह है कि करोंदा कीटों और बीमारियों के प्रति अपेक्षाकृत प्रतिरोधी है।

मिट्टी की तैयारी

मई-जून के आसपास 50x50x50 सेमी आकार के गड्ढे खोदकर मिट्टी तैयार करें। गड्ढे के एक हिस्से को 20 किलो ऊपरी मिट्टी से और तीन हिस्सों को 20 किलो अच्छी तरह सड़ी हुई गाय के गोबर से भरें। इसके बाद गड्ढे के बीच में करोंदा के पौधे लगा दें. आमतौर पर जून-जुलाई में पौधे लगाते समय 2×2 मीटर की दूरी बनाए रखें। सिंचित क्षेत्रों के लिए फरवरी-मार्च में भी पौधे लगाए जा सकते हैं।

कटाई एवं उपज

करोंदा के पेड़ों पर आम तौर पर तीसरे साल से फूल और फल आना शुरू हो जाते हैं। आप मार्च से जुलाई तक फूल आने और जुलाई से सितंबर तक फल पकने की उम्मीद कर सकते हैं। करोंदा की खेती की खूबसूरती इसकी उत्पादकता है; फलों की तुड़ाई 3 से 5 बार की जा सकती है, प्रति पौधा औसत उपज 25 से 40 किलोग्राम तक होती है।

करोंदा की खेती आयरन से भरपूर और औषधीय गुणों से भरपूर फल उगाने का एक अनूठा अवसर प्रदान करती है। इसकी खेती में आसानी और कीटों के प्रति प्रतिरोध इसे किसानों और उद्यान उत्साही लोगों के लिए एक आकर्षक विकल्प बनाता है। करोंदा को अपने बगीचे में शामिल करके, आप न केवल इसके स्वादिष्ट खट्टे स्वाद का आनंद ले सकते हैं, बल्कि इसके कई स्वास्थ्य लाभों का भी लाभ उठा सकते हैं।

FAQs

1.) क्या करोंदा को सभी प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है?

Ans:- जी हां, आईसीएआर के मुताबिक करोंदा को हर तरह की मिट्टी में आसानी से उगाया जा सकता है.

2.) क्या खेती के लिए करोंदा की विभिन्न किस्में उपलब्ध हैं?

Ans:- हाँ, करोंदा की कई किस्में हैं, जिनमें कोंकण बोल्ड, CHESK-II-7, CHESK-V-6, मारू गौरव, थार कमल, पंत सुवर्णा, पंत मनोहर और पंत सुदर्शन शामिल हैं।

3.) करोंदा के फल प्रति पौधे कितनी बार तोड़े जा सकते हैं?

Ans:-करोंदा के पौधों से 3 से 5 बार फल तोड़े जा सकते हैं, प्रति पौधा औसतन उपज 25 से 40 किलोग्राम होती है।

4.) करोंदा के लिए ‘आयरन की गोली’ उपनाम का क्या महत्व है?

Ans:- करोंदा में आयरन की मात्रा अधिक होने के कारण इसे ‘आयरन की गोली’ कहा जाता है, जो इसे एनीमिया के इलाज के लिए फायदेमंद बनाता है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !