Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

लौकी की इस किस्म की खेती करें और अपना भाग्य बदलें

क्या आप एक किसान हैं जो अपनी फसल की पैदावरा को बढ़ाना चाहते हैं और अपने लाभ को बढ़ाना चाहते हैं? खैर, हमारे पास आपके लिए अच्छी खबर है! पेश है लौकी की पूसा नवीन किस्म खेती मे एक गेम-चेंजर की तरह कार्य कर रही है। इस किस्म की खेती करने से आपकी फसल बंम्पर पैदावार हो सकती है। इस लेख में, हम पूसा नवीन के लाभों और विशेषताओं के बारे में जानेंगे, साथ ही आपको इसकी खेती करने के तरीके के बारे में भी बताएंगे। तो हमारे साथ बने रहे है और लेख को पूरा पढ़े।

लौकी अपने देश में व्यापक रूप से उगाई जाने वाली एक सब्जी है, जिसे देश भर के किसानों के लिए कई संभावनाएं हैं। यह सब्जी बिहार, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र सहित कई राज्यों में उगाई जाती है। सबसे अच्छी बात यह है कि लौकी की खेती साल भर की जा सकती है। जिससे बाजार में बेचकर अच्छा पैसा कमाया जा सकता है। साथ ही साथ इसमे आवश्यक विटामिन, खनिज और विटामिन ए, कैल्शियम, विटामिन सी, लोहा, पोटेशियम, मैग्नीशियम और जस्ता जैसे पोषक तत्वों से भरपूर मात्रा मे पाये जाते है।

लौकी की खेती के फायदे

पोषक तत्वों से भरपूर सब्जी होने के अलावा लौकी किसानों को एक अच्छा व्यवसाय प्रदान करती है। बाजार में लौकी की कीमत 20 से 30 रुपए प्रतिकिलो लगभग रह सीजन मे बना रहता है। इस फसल को किसान अपने खेत में शामिल करके अच्छा खासा मुनाफा कमा सकते हैं। हालांकि, अपनी पैदावार और आय को अधिकतम करने के लिए, सही किस्म का चयन करना महत्वपूर्ण होता है।

लौकी की उन्नत किस्म पूसा नवीन 

बाजार मे कई किस्मों है जिसमे से, पूसा नवीन एक बेहतर विकल्प के रूप में माना जाता है। भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान द्वारा विकसित, लौकी की यह उन्नत किस्म खरीफ और जायद दोनों मौसमों में खेती के लिए उपयुक्त मानी जाती है। पूसा नवीन के प्रमुख लाभों में से एक इसकी असाधारण शेल्फ लाइफ है। दूर के राज्यों में परिवहन के दौरान भी इसकी लौकी ताजी बनी रहती है। पूसा नवीन के फल 40 सेंटीमीटर की प्रभावशाली लंबाई तक बढ़ सकते हैं। इसके अतिरिक्त, आप बीज बोने के 55 दिन बाद ही लौकी की तोड़ाई शुरू कर सकते हैं।

खेती करने का तरीका

पूसा नवीन की खेती शुरू करने के लिए खेत को ठीक से तैयार करने की जरूरत है। अच्छी तरह से जुताई करने के बाद आप को जल निकासी की उचित व्यवस्था करनी होगी क्योंकि जलभराव से फसल को नुकसान हो सकता है। यह किस्म दोमट मिट्टी में बहुत तेजी से बढ़ती है। इसके अलावा पूसा नवीन ठंड और गर्म दोनों मौसम की स्थिति का सामना कर सकता है। जिससे यह कई प्रकार की जलवायु के लिए उपयुक्त हो जाता है। पूसा नवीन के बीज बाजार में आसानी से मिल जाते हैं। 100 ग्राम के लिए लगभग 40-50 रुपये मे मिल जाते है। इसके साथ-साथ आप आसानी से ऑनलाइन बीज भी खरीद सकते हैं।

लौकी के बीज बोने का सही तरीका क्या है

लौकी की सफलतापूर्वक खेती करने और भरपूर उपज प्राप्त करने के लिए, उचित रोपण तकनीक आवश्यक है। लौकी की सफल खेती करने के लिए नीचे दिये गये इन चरणों का पालन करें:

उच्च गुणवत्ता वाले बीजों का चयन: आपको लौकी की खेती करने के लिए उच्च गुणवत्ता वाले लौकी के बीजों का चयन करना होगा। ऐसे बीजों का उपयोग करना होगा, जिस किस्म मे पैदावार अधिक होता हैं।

बीज तैयार करना: किस्म का चयन करने के बाद आपको आप अपने लौकी के पौधों के बीज को तैयार करना होगा। तो सीडलिंग ट्रे या सीड-स्टार्टिंग मिक्स से भरे बर्तनों में बीज बोएं। अंकुरण को सुविधाजनक बनाने के लिए गर्म और नम वातावरण बनाए रखें। जिससे बीज अच्छे से अंकुरण हो सके।

सीधी बुवाई:  बीज तैयार हो जाने के बाद आपको लौकी के बीज सीधे लाइन में बोए। बुआई करने से पहले अपने खेत की तैयारी अच्छे से कर ले। जब मिट्टी गर्म हो जाए और तापमान अंकुरण के लिए सही हो तभी करें। मिट्टी अच्छी तरह से तैयार करे और खरपतवारों से मुक्त हो।

रोपण की गहराई: बीजों को लगभग 1 इंच (2.5 सेंटीमीटर) गहरा तक लगाएं, जिससे इसके जड़ अच्छे से मिट्टी मे बड़े से सके।

थिनिंग और ट्रांसप्लांटिंग: यदि आपने एक ही छेद या कंटेनर में कई बीज बोए हैं, तो रोपण को पतला करें जब वे अपनी पहली पत्तियाँ विकसित कर लें। तब उचित वृद्धि और वायु प्रवाह सुनिश्चित करने के लिए पौधों के बीच पर्याप्त दूरी छोड़ते हुए सबसे मजबूत अंकुरों का प्रत्यारोपण करें।

कीट प्रबंधन

अन्य फसलों के समान लौकी मे कई रोगों और कीटों लगते है। जिसमें पपड़ी, फल मक्खी, ख़स्ता फफूंदी और लाल कृमि संक्रमण शामिल हैं। एक अच्छी फसल के लिए अपनी फसल को इन खतरों से बचाना आवश्यक है। इन कीटों के प्रबंधन और पौधों की जड़ों की रक्षा के लिए कीटनाशकों का प्रभावी ढंग से उपयोग किया जा सकता है। उचित कीट नियंत्रण उपायों को लागू करने से स्वस्थ और भरपूर उपज सुनिश्चित होगी।

इसे भी पढ़े:-

FAQs:-

1.) मैं पूसा नवीन बीज कहां से खरीद सकता हूं?

Ans:- पूसा नवीन के बीज बाजार में उपलब्ध हैं, और आप इन्हें ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं।

2.) पूसा नवीन लौकी को बढ़ने में कितना समय लगता है?

Ans:- आप बीज बोने के लगभग 55 दिनों के बाद पूसा नवीन लौकी की तुड़ाई शुरू कर सकते हैं।

3.) भारत के किन राज्यों में लौकी की बड़े पैमाने पर खेती होती है?

Ans:- लौकी की खेती बिहार, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र सहित कई राज्यों में की जाती है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !