Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

मक्के के गढ़ में किसान ने उगाया गोभी, एक एकड़ से 3 लाख की कमाई

मक्के के गढ़ में किसान ने उगाया गोभी, एक एकड़ से 3 लाख की कमाई – भारत अपनी समृद्ध कृषि विरासत के लिए जाना जाने वाला जिला, समस्तीपुर एक उल्लेखनीय परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है। इस क्षेत्र के हरे-भरे खेत लंबे समय से धान, गेहूं और मक्का जैसे अनाज की खेती का पर्याय रहे हैं। हालाँकि, हाल के दिनों में, खेती में एक महत्वपूर्ण बदलाव आया है। समस्तीपुर के कल्याणपुर ब्लॉक के ध्रुवगामा गांव के निवासी राम कपिल जैसे किसानों ने सब्जी की खेती को अपनाया है, जिससे समृद्धि के एक नए युग की शुरुआत हुई है।

सब्जी की खेती की शुरुआत

समस्तीपुर की कृषि पद्धतियाँ मुख्य रूप से मक्का और गेहूं जैसी प्रमुख फसलों के इर्द-गिर्द घूमती थीं। हालाँकि, सब्जी की खेती में अचानक रुचि बढ़ने से इस क्षेत्र में खेती की दिशा बदल गई है। आज, समस्तीपुर में अधिकांश किसान विभिन्न सब्जियों की खेती के लिए अपनी भूमि समर्पित कर रहे हैं। यह बदलाव सिर्फ विविधीकरण के बारे में नहीं है; यह ताजा और मांग वाली उपज का प्रतिफल प्राप्त करने के बारे में है।

राम कपिल की सफलता की कहानी

ध्रुवगामा गांव के एक अग्रणी किसान राम कपिल, सब्जी की खेती के माध्यम से हासिल की जा सकने वाली सफलता का एक प्रमुख उदाहरण हैं। उन्होंने गोभी की खेती के लिए अपनी दस कट्ठे (लगभग एक एकड़) जमीन आवंटित की है। नतीजे आश्चर्यजनक रहे, न केवल उत्पादन बढ़ा बल्कि मुनाफा भी बढ़ा। उनकी सफलता का राज उनकी सब्जियों की ताजगी में छिपा है, जिसने व्यापारियों और खरीदारों को उनके खेतों की ओर आकर्षित किया है।

ताज़ी सब्जियों की मांग

उपभोक्ता आज ताजा उपज को अधिक पसंद करते हैं और राम कपिल बिल्कुल यही पेशकश करते हैं। उनकी खेत-ताज़ी सब्जियों की स्थानीय बाज़ार में अत्यधिक मांग हो गई है। परिणामस्वरूप, उन्हें अपनी फसल बेचने में न्यूनतम चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। अतीत के विपरीत, जब किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए हलचल भरे बाजारों में जाना पड़ता था, अब बाजार उनके पास आता है। इस सुविधा ने समस्तीपुर में सब्जी की खेती के प्रति उत्साह को और बढ़ा दिया है।

खेती से कमाई

राम कपिल गर्व से बताते हैं कि वह पहले अपनी जमीन पर धान, गेहूं और मक्का की खेती करते थे। हालाँकि, उन्होंने अपने दस कट्ठे खेत में फूलगोभी की खेती करने का फैसला किया और इस फैसले का उन्हें अच्छा फल मिला। इस फसल की उत्पादन लागत लगभग 2,000 रुपये प्रति बैग है, जिसमें उनके दस कट्ठे खेत पर कुल खर्च लगभग 20,000 रुपये है।

फूलगोभी की खेती

राम कपिल के लिए फूलगोभी एक आकर्षक विकल्प साबित हुई है। प्रति बैग 5 से 6 क्विंटल की औसत उपज के साथ, उनके दस बैग सामूहिक रूप से लगभग 60 क्विंटल फूलगोभी का उत्पादन करते हैं। बाजार में इस सब्जी की कीमत 40 से 50 रुपये प्रति किलोग्राम है. एक क्विंटल फूलगोभी की कीमत लगभग 5,000 रुपये होती है। इसलिए राम कपिल की 60 क्विंटल की कुल बाजार कीमत लगभग 3 लाख रुपये आंकी गई है. निवेश पर यह प्रभावशाली रिटर्न समस्तीपुर में सब्जी की खेती की लाभप्रदता को रेखांकित करता है।

उज्जवल भविष्य के लिए परिवर्तन को अपनाना

पारंपरिक अनाज की खेती से सब्जी की खेती की ओर परिवर्तन समस्तीपुर के किसानों के जीवन में सकारात्मक बदलाव का प्रतीक है। उन्होंने न केवल बाज़ार की उभरती माँगों को अपनाया है, बल्कि अपनी आय में भी उल्लेखनीय वृद्धि की है। राम कपिल और उनके जैसे अनगिनत अन्य लोगों की सफलता की कहानी कृषि विविधीकरण को अपनाने की क्षमता को दर्शाती है।

निष्कर्षतः, समस्तीपुर एक उल्लेखनीय कृषि परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है, जिसमें राम कपिल जैसे किसान अग्रणी हैं। अनाज से साग-सब्जी की ओर बदलाव से न केवल उत्पादन बढ़ा है बल्कि आर्थिक समृद्धि भी आई है। चूँकि समस्तीपुर कृषि के क्षेत्र में लगातार प्रगति कर रहा है, यह टिकाऊ और लाभदायक कृषि पद्धतियों की तलाश करने वाले क्षेत्रों के लिए एक चमकदार उदाहरण स्थापित करता है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) समस्तीपुर में ताजी सब्जियों की खेती के क्या फायदे हैं?

Ans:- ताज़ी सब्जियाँ व्यापारियों और खरीदारों को आकर्षित करती हैं, जिससे किसानों को बिक्री के लिए दूर-दराज के बाजारों में जाने की आवश्यकता समाप्त हो जाती है।

2.) समस्तीपुर में फूलगोभी उत्पादन की अनुमानित लागत क्या है?

Ans:- फूलगोभी के उत्पादन की लागत लगभग 2,000 रुपये प्रति बैग है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !