Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

घर को सोना से भरना है तो AD 46 सरसों बोना है, इस नई किस्म सरसो की पैदावार देख किसान के होश उड़े

घर को सोना से भरना है तो AD 46 सरसों बोना है, इस नई किस्म सरसो की पैदावार देख किसान के होश उड़े – कृषि की दुनिया में, नई नई खोज होती रहती है। किसान लगातार ऐसी फसलों और तकनीकों की तलाश में रहते हैं जो उनकी उपज और मुनाफे को अधिकतम कर सकें। ऐसा ही एक नवाचार जो कृषक समुदाय में हलचल मचा रहा है, वह है एडी 46 मस्टर्ड, एक उन्नत कृषि तकनीक जो सुनहरी फसल का वादा करती है। इस लेख में, हम AD 46 सरसों की विशेषताओं और लाभों के बारे में विस्तार से बताएंगे, साथ ही भरपूर उपज प्राप्त करने के लिए मूल्यवान सुझाव भी प्रदान करेंगे।

AD 46 की विशेषताएं:-

अधिक पैदावार

एडी 46 सरसों एक अधिक उपज देने वाली फसल है। इस सरसों की किस्म की फलियाँ फलियाँदार होती हैं, और उनमें पारंपरिक सरसों की किस्मों की तुलना में प्रति फली में दानों की संख्या अधिक होती है। अनाज की यह प्रचुरता किसानों को अपना उत्पादन उल्लेखनीय रूप से बढ़ाने का अवसर प्रदान करती है। किसानों के लिए अधिक अनाज का मतलब अधिक मुनाफा है।

अन्य सरसो से अधिक तेल

एडी 46 मस्टर्ड की सबसे खास विशेषताओं में से एक इसकी उच्च तेल सामग्री है। सरसों की यह किस्म न केवल खाद्य तेल का स्रोत है बल्कि इसका उपयोग विभिन्न उद्योगों में भी किया जाता है। बढ़ी हुई तेल सामग्री किसानों के लिए अधिक मुनाफे में तब्दील हो जाती है, क्योंकि वे खाद्य और औद्योगिक दोनों बाजारों में लाभ उठा सकते हैं।

कम समय मे तैयार

कृषि में समय का बहुत महत्व है, और 46 ई. सरसों इस पहलू में निराश नहीं करती। यह फसल अपेक्षाकृत कम समय में, आमतौर पर 120-125 दिनों के भीतर पक जाती है। यह तीव्र परिपक्वता किसानों को तेजी से अपना मुनाफा प्राप्त करने की अनुमति देती है, जिससे उनकी मेहनत की कमाई के लिए प्रतीक्षा समय कम हो जाता है।

रोग एवं पाले के प्रति सहनशीलता

46 ई. सरसों प्रभावशाली लचीलापन प्रदर्शित करती है। यह सरसों की अन्य किस्मों की तुलना में सफेद रतुआ रोग और पाले के प्रति अधिक सहनशील है। इस बढ़ी हुई सहनशीलता से फसल पकने के बाद अनाज के नष्ट होने का खतरा काफी कम हो जाता है। किसान निश्चिंत हो सकते हैं कि मौसम की अप्रत्याशित चुनौतियों के कारण उनके प्रयास व्यर्थ नहीं जाएंगे।

अच्छी उपज पाने के उपाय:

 बुआई का समय

जब सरसों की खेती की बात आती है तो समय महत्वपूर्ण होता है। एडी 46 सरसों की बुआई का इष्टतम समय 25 सितंबर से 15 नवंबर के बीच है, अक्टूबर सबसे उपयुक्त महीना है। इस समय-सीमा का पालन करके, किसान यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि उनकी फसल को विकास के लिए आदर्श परिस्थितियाँ प्राप्त हों।

बीज दर

उपज को अधिकतम करने के लिए, AD 46 सरसों की बुआई करते समय प्रति एकड़ 1 किलोग्राम बीज दर का उपयोग करने की सिफारिश की जाती है। बीज की यह अपेक्षाकृत कम आवश्यकता किसानों को कम लागत में अधिक उत्पादन करने में सक्षम बनाती है, जिससे अंततः उनकी लाभप्रदता बढ़ती है।

बुआई की विधि

बेहतर पैदावार के लिए सरसों के पौधों के बीच उचित दूरी होना जरूरी है। अलग-अलग पौधों के बीच 45 सेमी की दूरी बनाए रखें। यह अंतर प्रत्येक पौधे को पर्याप्त पोषक तत्व और सूरज की रोशनी तक पहुंचने की अनुमति देता है, जिसके परिणामस्वरूप स्वस्थ और अधिक उत्पादक फसलें होती हैं।

उर्वरक का प्रयोग

उर्वरक लगाने से पहले, मिट्टी का परीक्षण करें और अपने राज्य कृषि विश्वविद्यालय द्वारा दी गई सिफारिशों का पालन करें। आपके उर्वरक अनुप्रयोग को आपकी मिट्टी की विशिष्ट आवश्यकताओं के अनुरूप बनाने से यह सुनिश्चित होता है कि आपकी AD 46 सरसों की फसल को पनपने के लिए आवश्यक पोषक तत्व प्राप्त होते हैं।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) क्या एडी 46 सरसों की खेती के लिए कोई सरकारी प्रोत्साहन है?

Ans:- सरकारी कृषि विभाग अक्सर नवीन फसलें और तकनीक अपनाने वाले किसानों को सब्सिडी और सहायता प्रदान करते हैं। विशिष्ट कार्यक्रमों के लिए अपने स्थानीय अधिकारियों से संपर्क करें।

2.) क्या एडी 46 सरसों सभी क्षेत्रों के लिए उपयुक्त है?

Ans:- एडी 46 सरसों को विभिन्न क्षेत्रों में उगाया जा सकता है, लेकिन इष्टतम परिणामों के लिए स्थानीय मौसम की स्थिति और मिट्टी के प्रकार पर विचार करना आवश्यक है।

3.) क्या एडी 46 सरसों का उपयोग भोजन और औद्योगिक दोनों उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है?

Ans:- हाँ, AD 46 सरसों में तेल की मात्रा अधिक होती है जो इसे खाद्य तेल उत्पादन और औद्योगिक अनुप्रयोगों दोनों के लिए उपयुक्त बनाती है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !