Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

अब पटवारी नहीं, गांव के युवा ही करेंगे खेतों का सर्वे

अब पटवारी नहीं, गांव के युवा ही करेंगे खेतों का सर्वे- कृषि रिकॉर्ड रखने में पारदर्शिता को बढ़ाने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम में, सरकार ने पारंपरिक पटवारी प्रणाली के बजाय गांवों के युवाओं को क्षेत्र सर्वेक्षण की जिम्मेदारी सौंपने का निर्णय लिया है। इस बदलाव का उद्देश्य फसल गिरदावरी की प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करना है, जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि प्रत्येक क्षेत्र में वास्तविक फसल विवरण बिना किसी विसंगति के दर्ज किया गया है।

खेतो के सर्वेक्षण की आवश्यकता

फसल गिरदावरी के संचालन के लिए पटवारियों पर निर्भर रहने की मौजूदा प्रणाली अक्सर गलतीय़ो, त्रुटियों और यहां तक कि संभावित भ्रष्टाचार से प्रभावित रही है। सरकार ने फसल की पैदावार का आकलन करने और कृषि डेटा की निगरानी के लिए अधिक सटीक और विश्वसनीय दृष्टिकोण की आवश्यकता को पहचाना। गांवों के युवाओं को सर्वेक्षणकर्ताओं के रूप में शामिल करके, सरकार का लक्ष्य स्थानीय आबादी के बीच नए दृष्टिकोण और जिम्मेदारी की भावना लाना है।

आनलाइन होगी रिकार्ड-कीपिंग

इस नई पहल का मूल फसल गिरदावरी के डिजिटलीकरण में निहित है। पूरी प्रक्रिया अब एक समर्पित ऐप पर रिकॉर्ड की जाएगी, जिससे गलत जानकारी की संभावना समाप्त हो जाएगी। यह कदम यह सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण है कि किसानों को प्राकृतिक आपदाओं की स्थिति में राहत राशि और फसल बीमा जैसे वास्तविक लाभ प्राप्त हों।

ग्रामीणों के लिए रोजगार के अवसर

अब पटवारी नहीं गांव के जानकार युवाओं को अस्थायी सर्वेक्षक के रूप में नियुक्त करके, सरकार का लक्ष्य स्थानीय समुदायों के भीतर रोजगार के अवसर प्रदान करना भी है। अनुमान है कि राज्य के लगभग 53,000 गांवों में इस उद्देश्य के लिए स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा। इसके अलावा, यह पहल मौजूदा पटवारी प्रणाली के साथ मिलकर काम करेगी, जिसमें 19,000 से अधिक पटवारी नव नियुक्त सर्वेक्षणकर्ताओं के काम की देखरेख करेंगे।

नीमच और सिवनी में पायलट प्रोजेक्ट

सरकार ने इस नए दृष्टिकोण की दक्षता और प्रभावशीलता का परीक्षण करने के लिए नीमच और सिवनी जिलों को पायलट प्रोजेक्ट के रूप में चुना है। सफल होने पर, इस पहल को सभी 52 जिलों तक बढ़ाया जाएगा, जिसमें राज्य भर के लगभग 80 लाख किसान शामिल होंगे। सुचारू कार्यान्वयन सुनिश्चित करने के लिए भू-अभिलेख आयुक्त ने जिला कलेक्टरों के साथ चर्चा की है।

गिरदावरी को समझना

किसानों को विभिन्न सरकारी योजनाओं के दायरे में लाने के लिए, उनके खेतों की सीमा और उनके द्वारा उगाई जाने वाली फसलों के बारे में सटीक जानकारी होना आवश्यक है। यह जानकारी फसल गिरदावरी में दर्ज की जाती है, जिसमें रबी और खरीफ जैसे विभिन्न मौसमों के दौरान प्रत्येक खेत में बोई गई फसलों का विवरण शामिल होता है।

फसल गिरदावरी की प्रक्रिया

नई व्यवस्था के तहत फसल गिरदावरी साल में तीन बार डेडिकेटेड ऐप के जरिए होगी। सर्वेक्षक खेतों में तैनात रहेंगे और फसलों की तस्वीरें लेंगे, जिन्हें आगे की प्रक्रिया के लिए ऐप पर अपलोड किया जाएगा। इस डेटा का उपयोग खरीद, फसल बीमा और अन्य योजनाओं सहित विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जाएगा।

जांच के माध्यम सुनिश्चित करना

सर्वेक्षणकर्ताओं द्वारा प्रदान की गई जानकारी की प्रामाणिकता बनाए रखने के लिए, सिस्टम प्रत्येक वर्ष निरीक्षण के लिए यादृच्छिक रूप से 20 प्रतिशत गांवों का चयन करेगा। इस दृष्टिकोण का पालन करके, सरकार का लक्ष्य पारदर्शी और जवाबदेह प्रक्रिया सुनिश्चित करते हुए, अगले पांच वर्षों के भीतर 100 प्रतिशत गाँव निरीक्षण हासिल करना है।

पारदर्शिता और जवाबदेही की वेवस्थता

सिवनी और नीमच को पायलट जिलों के रूप में रखते हुए, सरकार धीरे-धीरे अधिक जिलों को शामिल करने के लिए गिरदावरी का दायरा बढ़ाने का इरादा रखती है। स्थानीय व्यक्तियों को सर्वेक्षणकर्ताओं के रूप में शामिल करके, पहल यह सुनिश्चित करती है कि रोजगार समुदाय के भीतर बना रहे है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) क्या पारंपरिक पटवारी प्रणाली पूरी तरह समाप्त हो जाएगी?

Ans:- नहीं, प्रभावी निगरानी और सटीकता सुनिश्चित करने के लिए नई प्रणाली मौजूदा पटवारी सेटअप के साथ काम करेगी।

2.) स्थानीय सर्वेक्षणकर्ताओं के रोजगार से गांवों को क्या लाभ होगा?

Ans:- अब पटवारी नहीं स्थानीय युवाओं को सर्वेक्षक के रूप में नियोजित करने से उन्हें कमाई के अवसर मिलेंगे और वे अपने समुदायों के आर्थिक विकास में योगदान देंगे।

3.) फसल गिरदावरी के पायलट प्रोजेक्ट में कौन से जिले शामिल हैं?

Ans:-पायलट प्रोजेक्ट वर्तमान में नीमच और सिवनी जिलों में लागू किया जा रहा है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !