Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

Rice Export News : एक साल तक बन्द रहेगा चावल निर्यात वैश्विक बाजार मे दाम बढ़े

Rice Export News : एक साल तक बन्द रहेगा चावल निर्यात वैश्विक बाजार मे दाम बढ़े – भारत,एक प्रमुख वैश्विक चावल निर्यातक देश है, चावल के लिए विदेशी बाजारों पर प्रतिबंध बनाए रखने की उम्मीद है। इस रणनीतिक कदम को आगामी चुनावों के मद्देनजर घरेलू कीमतों को नियंत्रित करने के सरकार के प्रयास के हिस्से के रूप में माना जा रहा है।  वर्तमान में, सरकार पहले से ही आधिकारिक चैनलों के माध्यम से सस्ता आटा, दाल, प्याज और अन्य वस्तुएं देने का वादा कर चुकी है।

Rice Export News

चावल निर्यात पर प्रतिबंध से वैश्विक कीमतों पर दबाव बढ़ सकता है, जो पिछले महीने निर्यात प्रतिबंध के बाद से पहले ही 15 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है। भारत, वैश्विक चावल निर्यात में 40% का योगदान देता है, अंतर्राष्ट्रीय चावल बाजार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अफ्रीका में बेनिन और सेनेगल जैसे प्रमुख खरीदार भारतीय चावल पर बहुत अधिक निर्भर हैं। निर्यात प्रतिबंध जारी रहने की उम्मीद है, जिससे वैश्विक कीमतों पर दबाव बढ़ सकता है।

सरकारी उपाय और भविष्य के परिदृश्य

घरेलू चावल की कीमतों को स्थिर करने के लिए, भारत सरकार ने निर्यात शुल्क लागू किया है और न्यूनतम मूल्य निर्धारित किया है। इसके अतिरिक्त, टूटे हुए और गैर-बासमती सफेद चावल सहित चावल की कुछ किस्मों को निर्यात से रोक दिया गया है। इन उपायों को जारी रखना चुनाव के बाद के परिदृश्य पर निर्भर है। यदि घरेलू कीमतें ऊंची रहीं तो आगे प्रतिबंध लागू किए जा सकते हैं। प्रतिबंध के कारण पहले से ही 15 साल की कीमत में वृद्धि हुई है, जिससे कमजोर आयातक देशों में चिंता पैदा हो गई है।

वैश्विक चावल बाज़ार की चुनौतियाँ

दुनिया के दूसरे सबसे बड़े चावल निर्यातक थाईलैंड को एशिया में फसलों पर अल नीनो के प्रतिकूल प्रभाव के कारण चावल उत्पादन में 6% की गिरावट का अनुमान है। लगातार तीसरे साल घटते वैश्विक भंडार के साथ मिलकर, दुनिया भर में चावल की कीमतों पर दबाव बढ़ सकता है। थाई सरकार उत्पादन में अनुमानित गिरावट का कारण 2023-24 में शुष्क मौसम की स्थिति को बताती है।

घरेलू चुनौतियाँ और फ्री राशन योजना

भारत को घरेलू चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, मानसून वर्षा के अनुमान से पिछले वर्ष की तुलना में बोई गई फसल में 4% की कमी होने की संभावना है। मानसून के मौसम के दौरान अपर्याप्त वर्षा देश के 80 करोड़ लोगों को मिलने वाले मुफ्त राशन कार्यक्रम के लिए खतरा बन गई है। प्रधान मंत्री मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने स्थिर आपूर्ति श्रृंखला सुनिश्चित करने के महत्व को रेखांकित करते हुए, फ्री राशन योजना को अगले पांच वर्षों तक बढ़ाने की घोषणा भी की है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) भारत चावल निर्यात पर प्रतिबंध क्यों लगा रहा है?

Ans:- भारत आगामी चुनावों से पहले घरेलू कीमतों को नियंत्रित करने की अपनी रणनीति के तहत चावल निर्यात पर प्रतिबंध लगा रहा है। सरकार पहले से ही उपभोक्ताओं के लिए सामर्थ्य सुनिश्चित करने के लिए आधिकारिक चैनलों के माध्यम से आवश्यक वस्तुओं को बेचकर बाजार में हस्तक्षेप कर रही है।

2.) भारत में फ्री राशन योजना पर सरकार का रुख क्या है?

Ans:- प्रधानमंत्री मोदी ने हाल ही में फ्री राशन योजना को अगले पांच साल के लिए बढ़ाने की घोषणा की है। यह प्रतिबद्धता देश की आबादी के एक महत्वपूर्ण हिस्से को आवश्यक खाद्य आपूर्ति प्रदान करने के सरकार के दृढ़ संकल्प को रेखांकित करती है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !