Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

वैज्ञानिको ने बनाई गेहूँं की नई किस्म, ना लेगा रोग, ना पडेगी गर्मी का असर, होगा बम्पर पैदावार

वैज्ञानिको ने बनाई गेहूँं की नई किस्म, ना लेगा रोग, ना पडेगी गर्मी का असर, होगा बम्पर पैदावार – पृथ्वी के बदलते जलवायु पैटर्न की पृष्ठभूमि के बीच, कृषि परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है। विशेष रूप से, इन परिवर्तनों से गेहूं के उत्पादन पर उल्लेखनीय प्रभाव पड़ा है, जिससे वैज्ञानिकों को रणनीतिक प्रतिक्रिया मिली है। इस दिशा में एक बड़ा कदम गर्मी प्रतिरोधी गेहूं की किस्मों का निर्माण किया है जो न केवल मौसम के तापमान में उतार-चढ़ाव के लिए उपयुक्त हैं बल्कि बढ़ी हुई पैदावार का वादा करते हैं।

भारतीय कृषि दूरदर्शियों की एक टीम ने नवाचार की बागडोर संभाली है, और गेहूं की तीन नई किस्मों को पेश किया है जो कृषि पुनरुत्थान की कुंजी हैं। ये उपभेद बेहतर उत्पादकता को रोग प्रतिरोधक क्षमता के साथ जोड़कर ठोस समाधान प्रदान करते हैं। ऐसे समय में जहां जलवायु परिवर्तन अपनी लंबी छाया डाल रहा है, ये नवाचार उन किसानों के लिए आशा की किरण के रूप में खड़े हैं जो अपनी उपज और मुनाफा दोनों बढ़ाना चाहते हैं।

गेहूँं की नई किस्म और विशेषताएं

डीबीडब्ल्यू-371

गेहूं का यह अग्रणी किस्म सिंचित क्षेत्रों में जल्दी बुआई के लिए सावधानीपूर्वक तैयार किया गया है। 87.1 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की प्रभावशाली उत्पादन क्षमता और 75.1 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की औसत उपज के साथ, यह उच्च प्रदर्शन वाले दावेदार के रूप में अपनी पहचान बनाता है। 100 सेंटीमीटर की ऊंचाई पर स्थित ये पौधे खेतों की शोभा बढ़ाते हैं और 150 दिनों में पक जाते हैं। विशेष रूप से, DBW-371 में 12.2% की प्रशंसनीय प्रोटीन सामग्री है, जिसमें जस्ता और लौह सामग्री क्रमशः 39.9 पीपीएम और 44.9 पीपीएम मापी गई है।

DBW-370

इस किस्म को, DBW-370 नाम से जानते है 86.9 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की उत्पादन क्षमता और 74.9 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की औसत उपज के साथ अपना स्थान रखती है। 99 सेंटीमीटर की शाही ऊंचाई पर खड़े ये पौधे 151 दिनों में परिपक्वता तक पहुंच जाते हैं। प्रभावशाली ढंग से, 12.0% की प्रोटीन सामग्री को जस्ता और लौह सामग्री के साथ जोड़ा जाता है जो क्रमशः 37.8 पीपीएम और 37.9 पीपीएम पर होती है।

डीबीडब्ल्यू-372

गेहूँ की तिसरी किस्म डीबीडब्ल्यू-372 है, जो 84.9 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की उत्पादन क्षमता और 75.3 क्विंटल प्रति हेक्टेयर की औसत उपज प्रदर्शित करता है। 96 सेंटीमीटर के मामूली कद के साथ, ये पौधे 151 दिनों में परिपक्व हो जाते हैं। प्रोटीन की मात्रा एक बार फिर 12.2% तक बढ़ गई है, और जस्ता और लौह की मात्रा क्रमशः 40.8 पीपीएम और 37.7 पीपीएम मापी गई है।

किसानों को सशक्त बनांयेगे यह किस्म

गेहूं की इन नई किस्मों का महत्व रोगजनकों की एक श्रृंखला के प्रति उनकी प्रतिरोधक क्षमता के साथ-साथ बदलती जलवायु परिस्थितियों में पनपने की उनकी क्षमता के कारण है। डीबीडब्ल्यू-370 और डीबीडब्ल्यू-372 द्वारा प्रदान की गई करनाल बंट बीमारी के खिलाफ मजबूत सुरक्षा विशेष रूप से उल्लेखनीय है। अग्रिम पंक्ति में खड़े किसानों के लिए, ये उपभेद न केवल एक जीवन रेखा प्रदान करते हैं, बल्कि लचीलेपन और आत्मविश्वास के साथ अपने खेतों में खेती करने का मौका भी देते हैं।

इन क्षेत्र मे होगी अच्छा उत्पादन

इन क्रांतिकारी किस्मों की पहुंच उत्तरी गंगा-सिंधु क्षेत्र, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, जम्मू-कठुआ, हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले और पोंटा घाटी तराई क्षेत्र तक फैली हुई है। उनकी अनुकूलन क्षमता कृषि परिदृश्य को फिर से परिभाषित करने, इन भौगोलिक क्षेत्रों में नई जान फूंकने और स्थानीय समुदायों को सशक्त बनाने का वादा करती है।

इन क्रांतिकारी गेहूं किस्मों के आगमन  से कृषि उन्नति में एक महत्वपूर्ण कार्य हुआ है। जैसे-जैसे जलवायु परिवर्तन अपनी ऱुख  बदलता जा रहा है, ये न केवल अस्तित्व का, बल्कि सभी क्षेत्रों के किसानों के लिए समृद्धि का कार्य करेगा।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) गेहूं की इन किस्मों को क्या अलग करता है?

Ans:- किस्में प्रमुख रोगजनकों के खिलाफ अपनी लचीलापन में अग्रणी हैं, साथ ही बदलते तापमान के प्रति उल्लेखनीय अनुकूलन क्षमता भी प्रदर्शित करती हैं, जो जलवायु परिवर्तन के सामने एक महत्वपूर्ण विशेषता है।

2.) DBW-370 और DBW-372 कैसे अलग दिखते हैं?

Ans:- विशेष रूप से, ये उपभेद करनाल बंट रोग के प्रति अत्यधिक प्रतिरोधक क्षमता प्रदर्शित करते हैं, जो किसानों को रोग प्रबंधन में एक शक्तिशाली उपकरण प्रदान करते हैं।

3.) गेहूं की ये नई किस्में कहां सबसे ज्यादा फायदेमंद हैं?

Ans:- इन किस्मों का क्षेत्रीय प्रभाव उत्तरी गंगा-सिंधु क्षेत्र, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, जम्मू-कठुआ, हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले और पोंटा घाटी तराई क्षेत्र तक फैला हुआ है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

1 thought on “वैज्ञानिको ने बनाई गेहूँं की नई किस्म, ना लेगा रोग, ना पडेगी गर्मी का असर, होगा बम्पर पैदावार”

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !