Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

स्वदेशी गाय संवर्धन योजना का लाभ उठाये 80 हजार रुपये के साथ दो गाय फ्री, आज ही आवेदन करें

स्वदेशी गाय संवर्धन योजना का लाभ उठाये 80 हजार रुपये के साथ दो गाय फ्री, आज ही आवेदन करें – पशुपालकों और किसानों की आजीविका बढ़ाने के लिए, उत्तर प्रदेश सरकार ने स्वदेशी गाय संवर्धन योजना शुरू की है। इस दूरदर्शी पहल का उद्देश्य हरियाणा, पंजाब और दिल्ली में साहीवाल, थारपारकर और गिल नस्ल की गायों को पालने वाले व्यक्तियों को सशक्त बनाना है। इस योजना के तहत, लाभार्थियों को 80,000 रुपये का अनुदान मिलेगा, जो पशुपालन में लगे लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण जीवन रेखा है।

किसानों की आय मे वृद्धि 

उत्तर प्रदेश में किसानों की आय दोगुनी करने के लिए लगातार प्रयास चल रहे हैं। इस मिशन के तहत सरकार सक्रिय रूप से पशुपालन को बढ़ावा दे रही है। नंद बाबा मिशन के तहत स्वदेशी गाय संवर्धन योजना इस प्रयास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह उन पशुपालकों को वित्तीय सहायता प्रदान करने पर केंद्रित है जो साहीवाल, थारपारकर और गिल नस्ल की गायों के संरक्षण और पालन-पोषण के इच्छुक हैं।

पशुपालकों के लिए स्वदेशी गाय संवर्धन योजना

इस योजना के तहत, पात्र पशुपालक निर्दिष्ट नस्लों की दो गायों को पालने के लिए 80,000 रुपये का अनुदान प्राप्त कर सकते हैं। यह अनुदान उनके प्रयासों को महत्वपूर्ण बढ़ावा देता है और उन्हें मवेशियों को बेहतर देखभाल प्रदान करने में मदद करता है। एक बार आवेदन पत्र भर जाने के बाद, सब्सिडी राशि सीधे लाभार्थी के खाते में स्थानांतरित कर दी जाती है, जिससे धन तक त्वरित और परेशानी मुक्त पहुंच सुनिश्चित हो जाती है। इसके अलावा, यह योजना महिलाओं को प्राथमिकता देकर लैंगिक समानता पर जोर देती है, जिसमें 50% लाभार्थी महिलाएं हैं।

स्वदेशी गाय संवर्धन योजना सब्सिडी 

भाग लेने वाले किसानों और पशुपालकों को 10 से 12 लीटर दूध देने वाली दो गायों पर निवेश करना होगा, जिनकी लागत लगभग 2 लाख रुपये होगी। इसके अतिरिक्त, उन्हें गायों के लिए उचित आश्रय और पोषण सुनिश्चित करने के लिए एक टिन शेड और घास काटने की मशीन खरीदने की ज़रूरत है। मवेशियों के स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए, इस योजना में तीन साल की पशु बीमा पॉलिसी शामिल है, जिसमें सरकार इस लागत के लिए 80,000 रुपये की सब्सिडी की पेशकश करती है। बाकी 1.2 लाख रुपये किसानों की जिम्मेदारी है.

आवेदन कैसे करें

स्वदेशी गाय संवर्धन योजना से लाभ उठाने के लिए इच्छुक व्यक्ति पशुपालन विभाग की आधिकारिक वेबसाइट (http://www.animalhusb.upsdc.gov.in/hi) के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं या निकटतम जिला पशुपालन केंद्र पर जा सकते हैं। आवेदन प्रक्रिया में आधार कार्ड, बैंक खाता विवरण, गौशाला की तस्वीरें और घास उत्पादन के लिए कृषि भूमि डेटा जैसे आवश्यक दस्तावेज संलग्न करने की आवश्यकता होती है। आवेदन विकास भवन स्थित पशु चिकित्साधिकारी, बीडीओ या सीडीओ कार्यालय में जमा किया जा सकता है। सत्यापन के बाद किसानों के खाते में अनुदान भेज दिया जाएगा।

स्वदेशी गाय संवर्धन योजना अपने किसानों और पशुपालकों के कल्याण के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की प्रतिबद्धता का एक प्रमाण है। वित्तीय सहायता प्रदान करके और अधिक उपज देने वाली मवेशी नस्लों के पालन को प्रोत्साहित करके, यह पहल न केवल आय बढ़ाती है बल्कि टिकाऊ कृषि को भी बढ़ावा देती है। यह किसानों की आय दोगुनी करने और राज्य के कृषि क्षेत्र को मजबूत करने के दृष्टिकोण को साकार करने की दिशा में एक कदम है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) स्वदेशी गाय संवर्धन योजना के लिए कौन पात्र है?

Ans:- उत्तर प्रदेश में निर्दिष्ट नस्लों की गायों के संरक्षण में रुचि रखने वाला कोई भी पशुपालक पात्र है। यह योजना महिलाओं को भी प्राथमिकता देती है।

2.) इस योजना के अंतर्गत अनुदान राशि क्या है?

Ans:- लाभार्थी अपने पशुपालन प्रयासों का समर्थन करने के लिए 80,000 रुपये का अनुदान प्राप्त करने के हकदार हैं।

3.) किसान योजना के लिए कैसे आवेदन कर सकते हैं?

Ans:-किसान पशुपालन विभाग की आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं या ऑफ़लाइन आवेदन के लिए अपने नजदीकी जिला पशुपालन केंद्र पर जा सकते हैं।

4.) टिन शेड और घास काटने की मशीन का उद्देश्य क्या है?

टिन शेड और घास काटने की मशीन सुनिश्चित करती है कि गायों को उचित आश्रय और पोषण मिले, जो उनके स्वास्थ्य और दूध उत्पादन में योगदान दे।

5.) सब्सिडी प्राप्त करने की समयसीमा क्या है?

आवेदन पत्र सफलतापूर्वक भरने के बाद एक महीने के भीतर सब्सिडी की राशि लाभार्थी के खाते में स्थानांतरित कर दी जाती है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !