Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

देर से गेहूँ की बुआई करने वाले किसानो के लिए यह 5 किस्म मे बम्पर पैदावर

देर से गेहूँ की बुआई करने वाले किसानो के लिए यह 5 किस्म मे बम्पर पैदावर – गेहूं की देर से कटाई करना किसानों के बीच एक आम बात बन गई है, जिससे पैदावार में वृद्धि के अवसर खुल रहे हैं। इस लेख में, हम देर से गेहूँ की बुआई के लिए सही किस्म और समय के बारे मे जानेगें और आपको देर से आने वाली गेहूं की किस्मों से परिचित कराएंगे जो 15 दिसंबर तक रोपण के लिए सबसे उपयुक्त हैं। यदि आप एक किसान हैं जो अपने गेहूं के उत्पादन को बढ़ावा देना चाहते हैं, तो यह जानने के लिए अन्त तक पढ़ें कि कैसे आप बंपर पैदावार हासिल कर सकते हैं.

गेहूं की देर बुआई का समय

देर से पकने वाली गेहूं की बुआई अक्टूबर से 15 दिसंबर तक की जा सकती है, जिससे यह अवधि गेहूं की देर से पकने वाली किस्मों के लिए आदर्श होती है। यह भरपूर फसल प्राप्त करने की किस्म है।

गेहूं की पछेती किस्मों का चयन

1. नरेन्द्र गेहूँ 1076

देर से बुआई के लिए नरेंद्र गेहूं 1076 एक शीर्ष विकल्प है। इसके लम्बे पौधे मात्र 110 से 115 दिनों में पक जाते हैं और प्रति हेक्टेयर 40-45 क्विंटल की प्रभावशाली उपज दे सकते हैं। इसके अतिरिक्त, यह किस्म जंग और झुलसा रोगों के प्रति प्रतिरोधक क्षमता प्रदर्शित करती है, जिससे स्वस्थ फसल सुनिश्चित होती है।

2. राज 3765

राज 3765 गेहूं की एक बहुमुखी किस्म है जो सामान्य बुआई, सिंचाई और देर से बुआई के लिए उपयुक्त है। यह 120 से 125 दिनों में पक जाती है और देर से बोने पर 38 से 42 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उपज दे सकती है।

3. हिम पालम 3

हिम पालम 3 अपनी उच्च उपज क्षमता और रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए प्रसिद्ध है। देर से बोने पर इसका उत्पादन 25 से 30 क्विंटल प्रति हेक्टेयर हो सकता है. यह किस्म उन किसानों के लिए एक विश्वसनीय विकल्प है जो अपनी उपज को अधिकतम करना चाहते हैं।

4. यूपी 2338

यूपी 2338 विशेष रूप से उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और हरियाणा के किसानों के लिए अनुशंसित है। यह 130 से 135 दिनों में पक जाती है और देर से बुआई का एक मूल्यवान विकल्प साबित हुई है।

5. एचडी 2888

एचडी 2888 उन क्षेत्रों के लिए विकसित किया गया है जहां बुआई में देरी हो रही है। इसमें प्रति हेक्टेयर 30 से 40 क्विंटल के बीच उपज देने की क्षमता है, जो इसे देर से बुआई के लिए एक आकर्षक विकल्प बनाता है।

बुआई के लिए बीज की मात्रा

देर से आने वाली गेहूं की किस्मों की बुआई करते समय सही मात्रा में बीज का उपयोग करना आवश्यक है। प्रति हेक्टेयर 55 से 60 किलोग्राम बीज का लक्ष्य रखें। इसके अतिरिक्त, सर्वोत्तम परिणामों के लिए बीजों को भिगोने और सुखाने की विधि पर भी ध्यान दें।

निष्कर्ष

गेहूं की देर से बुआई किसानों के लिए गेम चेंजर साबित हो सकती है। देर से आने वाली गेहूं की सही किस्मों का चयन करके और बुआई के सर्वोत्तम तरीकों का पालन करके, आप अपनी उपज में उल्लेखनीय वृद्धि कर सकते हैं। देर से बुआई के बारे में गलतफहमियाँ अपने ऊपर हावी न होने दें। देर से बुआई के मौसम को अपनाएँ और भरपूर फसल का लाभ उठाएँ।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) क्या गेहूं की देर से कटाई सभी क्षेत्रों के लिए उपयुक्त है?

Ans:- गेहूं की देर से कटाई विभिन्न क्षेत्रों के लिए उपयुक्त है, लेकिन गेहूं की किस्म का चुनाव स्थानीय जलवायु और परिस्थितियों के अनुरूप होना चाहिए।

2.) पछेती गेहूं की किस्में किन रोगों के प्रति प्रतिरोधी हैं?

Ans:-  नरेंद्र गेहूं 1076 जैसी देर से पकने वाली गेहूं की किस्में जंग और झुलसा रोगों के प्रति अपनी प्रतिरोधक क्षमता के लिए जानी जाती हैं, जो आपकी फसल को अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करती हैं।

3.) पछेती गेहूं की किस्मों की उपज अगेती किस्मों की तुलना में कैसी है?

Ans:-यदि सही ढंग से चयन और प्रबंधन किया जाए तो देर से आने वाली गेहूं की किस्में अगेती किस्मों जितनी ही पैदावार दे सकती हैं। वास्तव में, उनमें बंपर पैदावार देने की क्षमता है।

4.) क्या गेहूं की पछेती किस्मों का उपयोग आटा उत्पादन जैसे अन्य उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है?

Ans:-हां, देर से आने वाली गेहूं की किस्में बहुमुखी हैं और इनका उपयोग आटा उत्पादन सहित विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि आप अपनी फसल से अधिकतम लाभ प्राप्त कर सकें।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !