Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

इस नस्ल की भैंस बना रही है डेयरी वालो को मालामाल, आप भी लाये बंम्पर दूध उत्पादन

इस नस्ल की भैंस बना रही है डेयरी वालो को मालामाल, आप भी लाये बंम्पर दूध उत्पादन – गुजरात के मध्य में, माही और साबरमती नदियों के बीच, जल भैंस की एक उल्लेखनीय नस्ल – Surti Buffalo पायी जाती है। कई क्षेत्रों में चरोटारी, डेक्कनी, गुजराती, नाडियाडी और तालाबारा जैसे विभिन्न नामों से जानी जाने वाली इस भैंस ने अपनी दूध उत्पादन क्षमताओं के लिए जानी जाती है।

सुरती नस्ल की भैंस

सुरती भैंसें मुख्य रूप से गुजरात के खेड़ा और बड़ौदा जिलों में निवास करती हैं। इस नस्ल का क्रेम डे ला क्रेम आनंद, कैरा और बड़ौदा में पाया जा सकता है, जो इन क्षेत्रों को सुरती भैंस उत्कृष्टता का केंद्र बनाता है।

दूध उत्पादन 

सुरती भैंस का एक प्रमुख आकर्षण इसकी प्रभावशाली दूध उपज है। 1600 से 1800 लीटर प्रति वाट की औसत उत्पादन क्षमता के साथ, यह नस्ल डेयरी फार्मिंग की प्रतिस्पर्धी दुनिया में खड़ी है। 8-12 प्रतिशत वसा की मात्रा वाला दूध उदारतापूर्वक प्रवाहित होता है, जिससे डेयरी किसानों को प्रति दिन 15 लीटर तक तरल सोना मिलता है।

सुरती भैंसें की विशेषताऐं

सुरती भैंस भूरे से लेकर सिल्वर ग्रे, काले या भूरे तक रंगों की एक श्रृंखला दिखाती है। इसका मध्यम आकार का नुकीला धड़, लंबा सिर और दरांती के आकार के सींग इसकी विशिष्ट उपस्थिति को बढ़ाते हैं। भैंस की अनोखी खूबियाँ इसे डेयरी व्यवसाय में कदम रखने वालों के लिए एक बेशकीमती संपत्ति बनाती हैं।

सुरती भैंसें की किमत

अपनी उच्च दूध उत्पादन क्षमता को देखते हुए, सुरती भैंस बाजार में उल्लेखनीय स्थान रखती है। इन बेहतरीन भैंसों की कीमत आम तौर पर 40,000 रुपये से 50,000 रुपये के बीच होती है। डेयरी फार्मिंग में एक आकर्षक उद्यम पर नजर रखने वालों के लिए, इस नस्ल की बारीकियों को समझना सर्वोपरि हो जाता है।

सुरती भैंस की पहचान कैसे करें

  • मुख्य रूप से गुजरात में, विशेषकर खेड़ा और बड़ौदा में पाया जाता है।
  • मध्यम आकार और विनम्र, चौड़ा, लंबा सिर और सींगों के बीच उत्तल आकार।
  • भूरा और काला रंग इस भैंस को सुशोभित करता है।
  • एक समय में 900 से 1600 लीटर दूध का उत्पादन कर सकती है।
  • नर प्रजातियों का वजन लगभग 430 किलोग्राम से 440 किलोग्राम होता है, जबकि मादाओं का वजन लगभग 400 किलोग्राम से 410 किलोग्राम होता है।

सुरती भैंसें रखने के लिए आवश्यक जानकारियाँ

  • भैंस के आहार पर विशेष ध्यान दें। पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराने से सर्वोत्तम दूध उत्पादन सुनिश्चित होता है।
  • नियमित टीकाकरण जरूरी है। स्वास्थ्य जांच के लिए स्वास्थ्य केंद्रों पर समय पर जाने से संभावित समस्याओं को रोका जा सकता है।
  • सुरती भैंसों में दूध पिलाने की अवधि लगभग 290 दिनों की होती है, जिसके दौरान सावधानीपूर्वक देखभाल महत्वपूर्ण होती है।

निष्कर्ष

डेयरी फार्मिंग के लगातार बढ़ते परिदृश्य में, सुरती भैंस एक गेम-चेंजर के रूप में उभरी है। इसका उल्लेखनीय दूध उत्पादन, विशिष्ट भौतिक विशेषताओं के साथ मिलकर, इसे डेयरी व्यवसाय में आकर्षक अवसर तलाशने वाले किसानों के लिए एक बेशकीमती संपत्ति बनाता है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) क्या सुरती भैंस छोटे पैमाने पर डेयरी फार्मिंग के लिए उपयुक्त हैं?

Ans:- बिल्कुल! उनका मध्यम आकार और उच्च दूध उपज उन्हें छोटे पैमाने की स्थापना के लिए आदर्श बनाती है।

2.) सुरती भैंस को अन्य भैंसों की नस्लों से क्या अलग करता है?

Ans:-सुरती भैंसें अपने उच्च वसा वाले दूध उत्पादन और अद्वितीय शारीरिक विशेषताओं के लिए प्रसिद्ध हैं।

3.) किसान अपनी सुरती भैंसों का स्वास्थ्य कैसे सुनिश्चित कर सकते हैं?

Ans:- नियमित टीकाकरण, स्वास्थ्य जांच और पौष्टिक आहार सुरती भैंसों की भलाई में योगदान करते हैं।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !