Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

आवारा पशुओ और जंगली जानवरो से खेत को बचाने के लिए ये पौधा है रामबाण जानें कैसे ?

आवारा पशुओ और जंगली जानवरो से खेत को बचाने के लिए ये पौधा है रामबाण जानें कैसे ? – हाल के वर्षों में, किसानों को एक बढ़ती चुनौती का सामना करना पड़ रहा है – आवारा मवेशियों और जंगली जानवरों की बढ़ती संख्या जो उनके खेतों में घुसपैठ कर रहे हैं और उनकी कड़ी मेहनत की फसलों को खा रहे हैं। इस निरंतर घुसपैठ ने कई किसानों को निराशा में छोड़ दिया है, जिससे उन्हें अपनी फसल की सुरक्षा के लिए विभिन्न तकनीकों का पता लगाना पड़ा है। इन तकनीकों के बीच, एक उल्लेखनीय लेकिन कम ज्ञात समाधान है – हकीम पौधा। कृषि विज्ञान अधिकारी डॉ. आईके कुशवाह ने इस प्राकृतिक रक्षा तंत्र पर प्रकाश डालते हुए बताया कि कैसे यह जंगली जानवरों के खतरे से जूझ रहे किसानों के लिए गेम-चेंजर साबित हो सकता है।

आवारा पशुओ से किसान परेशान

किसान अपनी फसल उगाने में अपना समय, ऊर्जा और संसाधनों का निवेश करते हैं। हालाँकि, उनके प्रयास अक्सर व्यर्थ चले जाते हैं क्योंकि भूख और जिज्ञासा से प्रेरित होकर जंगली जानवर खेतों में घुस जाते हैं, जिससे काफी नुकसान होता है। इस समस्या का मुकाबला करने के लिए, किसानों ने अपने खेतों के चारों ओर कपड़े और तार की बाड़ लगाने सहित विभिन्न उपायों का सहारा लिया है। कुछ लोग बैटरी से चलने वाले निवारक उपकरणों का भी उपयोग करते हैं जो अतिक्रमण करने वाले जानवरों को झटका देते हैं। हालाँकि ये विधियाँ कुछ सुरक्षा प्रदान करती हैं, फिर भी वे अक्सर अपनी चुनौतियों के साथ आती हैं।

हकीम के पौधे की खासियत

“बेशर्म” पौधे में प्रवेश करें, जिसे गांवों में हकीम संयंत्र के रूप में भी जाना जाता है। यह साधारण पौधा जंगली जानवरों के खिलाफ एक गुप्त हथियार रखता है। डॉ. आईके कुशवाह बताते हैं कि जानवर, चाहे जंगली हों या पालतू, इस पौधे से निकलने वाली दुर्गंध से दूर हो जाते हैं। अंग्रेजी में इसे इटामिया कहा जाता है। जब बेशर्म पौधों को रणनीतिक रूप से खेत के चारों ओर रखा जाता है, तो जानवरों को प्रवेश करने से रोका जाता है, जिससे फसल की सुरक्षा होती है।

चमत्कारी गुण

हकीम पौधे के सबसे दिलचस्प पहलुओं में से एक इसका सफेद, दूधिया पदार्थ है जो पौधे को तोड़ने पर निकलता है। यह पदार्थ पौधे के प्रतिकारक गुणों को बढ़ाता है, जिससे जानवरों को दूरी बनाए रखने के लिए प्रेरित किया जाता है। परिणामस्वरूप, किसान इन प्राणियों को नुकसान पहुंचाए बिना अपनी फसलों की रक्षा कर सकते हैं।

एक दीर्घकालिक निवेश

कई बार, किसानों को जंगली जानवरों द्वारा युवा पौधों को खा जाने की समस्या का सामना करना पड़ता है। यह विनाशकारी हो सकता है, खासकर उन लोगों के लिए जिन्होंने अपनी फसलों के पोषण में महत्वपूर्ण समय और प्रयास का निवेश किया है। हालाँकि, युवा पौधों को शेमलेस पौधों से घेरकर, किसान यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि उनकी फसलें अछूती रहें। जैसे-जैसे ये पौधे एक या दो वर्षों के दौरान बढ़ते और परिपक्व होते हैं, वे जानवरों के हस्तक्षेप के प्रति कम संवेदनशील हो जाते हैं। यह रणनीतिक दृष्टिकोण न केवल पौधों की सुरक्षा करता है बल्कि उनकी दीर्घकालिक वृद्धि और उत्पादकता भी सुनिश्चित करता है।

आवारा मवेशियों और जंगली जानवरों की बढ़ती संख्या के खिलाफ लड़ाई में हकीम पौधा एक प्राकृतिक और मानवीय समाधान के रूप में उभरता है। किसान वन्यजीवों के साथ सामंजस्यपूर्ण सह-अस्तित्व को बढ़ावा देकर, हानिकारक उपायों का सहारा लिए बिना अपनी फसलों की रक्षा कर सकते हैं। जैसे ही इस सरल तकनीक को मान्यता मिलती है, यह अपनी आजीविका सुरक्षित करने के इच्छुक किसानों के लिए एक मूल्यवान संपत्ति बनने का वादा करती है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) हकीम पौधा जंगली जानवरों को कैसे दूर भगाता है?

Ans:- हकीम के पौधे से दुर्गंध आती है जो जंगली जानवरों को दूर भगाती है और उन्हें खेतों से दूर रखती है।

2.) क्या हकीम पौधा जानवरों के लिए हानिकारक है?

Ans:- नहीं, हकीम पौधा जानवरों के लिए हानिकारक नहीं है। यह बिना किसी नुकसान के सुरक्षा प्रदान करता है।

3.) क्या हकीम का पौधा सभी क्षेत्रों में उगाया जा सकता है?

Ans:-हाँ, हकीम पौधा विभिन्न क्षेत्रों में फल-फूल सकता है, जिससे यह किसानों के लिए एक बहुमुखी समाधान बन सकता है।

4.) हकीम पौधे को नई फसलों की प्रभावी ढंग से रक्षा करने में कितना समय लगता है?

Ans:- आमतौर पर, एक से दो साल के भीतर, हकीम का पौधा जंगली जानवरों को युवा फसलों को नुकसान पहुंचाने से रोकने के लिए पर्याप्त रूप से बढ़ जाता है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !