Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

17 साल का लड़का पढ़ाई में नहीं लगा मन, खेती करके आज 40 से 45 हजार महिने का कमा रहा है जाने कैसे

17 साल का लड़का पढ़ाई में नहीं लगा मन, खेती करके आज 40 से 45 हजार महिने का कमा रहा है जाने कैसे – ऐसी दुनिया में जहां उम्र अक्सर किसी का रास्ता तय करती है, सीतामढी जिले के परसंडी गांव का 17 वर्षीय मनीष कुमार ने इस परंपरा को गलत साबित किया है। वह इस बात का सबूत है कि खेती के लिए कोई उम्र सीमा नहीं है, और दृढ़ संकल्प और मार्गदर्शन के साथ, सबसे चुनौतीपूर्ण कार्य भी एक सफल वास्तविकता बन सकते हैं। मनीष की कहानी युवा महत्वाकांक्षा, ज़मीन के प्रति प्रेम और अपने अनुभवी पिता विष्णुदेव सिंह के अमूल्य समर्थन की कहानी है। इस लेख में, हम मनीष कुमार की उल्लेखनीय यात्रा के बारे में जानेंगे, जिन्होंने पारंपरिक शिक्षा हासिल करने के बजाय अपनी 1.5 बीघे जमीन पर सफलता हासिल करने का विकल्प चुना।

एक किसान के सपने की शुरुआत 

चार बेटों में सबसे छोटे मनीष कुमार, कृषि से जुड़े परिवार से हैं। जबकि उनके भाई गांव से बाहर अवसरों की तलाश में थे, मनीष ने अपनी जड़ों के करीब रहने का फैसला किया। कम उम्र से ही उन्होंने खेती के प्रति गहरा प्रेम प्रदर्शित किया। उनकी सुबह और शाम अपने पिता के साथ मिट्टी जोतने, बीज बोने और फसलों की देखभाल करने की बारीकियां सीखने में बीतती थी। जैसे-जैसे वह बड़े हुए, औपचारिक शिक्षा में मनीष की रुचि कम हो गई और उन्होंने खेती को अपना व्यवसाय बनाने का फैसला किया।

मित्रता और संसाधनों की शक्ति

मनीष कुमार अपनी कृषि गतिविधियों में अकेले नहीं हैं। उनके अधिकांश दोस्त गांव के भीतर एक सहायक समुदाय बनाने, खेती के प्रति उनके जुनून को साझा करते हैं। उनका एक करीबी दोस्त एक उर्वरक की दुकान चलाता है, जो मनीष को सस्ती दरों पर आवश्यक संसाधनों तक पहुंच प्रदान करता है। यह सहयोग न केवल पैसे बचाता है बल्कि कृषक समुदाय के बीच बंधन को भी मजबूत करता है।

खेती को बिजनेस बनाना

खेती के प्रति मनीष का दृष्टिकोण उद्यमशीलता की भावना से प्रेरित है। बिचौलियों पर निर्भर रहने के बजाय, वह अपनी उपज को सीधे बाजार में ले जाता है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि उसे अपनी सब्जियों का पूरा खुदरा मूल्य मिले। यह व्यावहारिक दृष्टिकोण न केवल मुनाफ़े को अधिकतम करता है बल्कि उसे अपने समुदाय के भीतर एक सफल किसान के रूप में भी स्थापित करता है।

भरपूर फसल और बंम्पर मुनाफ़ा

अपनी 1.5 बीघे जमीन पर मनीष कुमार कई तरह की फसलें उगाते हैं। वह 15 कट्ठा घीया की खेती करते हैं और 5 से 6 कट्ठा भिंडी की खेती करते हैं। इसके अतिरिक्त, वह पत्तागोभी के बीज बोते हैं, जिनकी साथी किसानों के बीच मांग है। अपनी मेहनत और लगन का नतीजा है कि मनीष वर्तमान में घीया और भिंडी बेचकर 1200 रुपये से 1500 रुपये तक की रोज कि आय अर्जित करते हैं। आगामी गोभी की फसल के साथ, उनकी कमाई और भी बढ़ने वाली है।

निष्कर्ष

मनीष कुमार की यात्रा उम्र की परवाह किए बिना खेती द्वारा प्रदान की जाने वाली असीमित संभावनाओं का प्रमाण है। उनके अटूट समर्पण, दोस्तों के समर्थन और उद्यमशीलता दृष्टिकोण ने एक 17 वर्षीय लड़के को एक संपन्न किसान में बदल दिया है। यह कहानी किसी के जुनून को आगे बढ़ाने के महत्व और सफलता प्राप्त करने में सामुदायिक समर्थन के प्रभाव पर प्रकाश डालती है।

इसे भी पढ़े:-

FAQs

1.) क्या मनीष कुमार अपने गाँव के एकमात्र युवा किसान हैं?

Ans:- नहीं, मनीष कुमार अपने गाँव के युवा किसानों के समुदाय का हिस्सा हैं जो कृषि के प्रति अपने जुनून को साझा करते हैं।

2.) मनीष कुमार अपनी सब्जियाँ खुदरा कीमतों पर कैसे बेचते हैं?

Ans:- बिचौलियों को दरकिनार करते हुए और अधिकतम मुनाफा सुनिश्चित करते हुए, मनीष अपनी सब्जियां सीधे बाजार में उपभोक्ताओं को बेचते हैं।

3.) मनीष अपनी जमीन पर कौन सी फसल उगाता है?

Ans:- मनीष अपनी डेढ़ बीघे जमीन पर घीया, भिंडी और पत्तागोभी के बीज की खेती करते हैं।

3.) मनीष कुमार ने खेती के लिए आवश्यक संसाधन कैसे जुटाए?

Ans:- मनीष का एक दोस्त उर्वरक की दुकान चलाता है, जो उसे सस्ती दरों पर आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराता है।

4.) मनीष कुमार की कहानी से हम क्या सीख सकते हैं?

Ans:- मनीष कुमार की कहानी हमें सिखाती है कि उम्र कभी भी हमारी आकांक्षाओं को सीमित नहीं कर सकती, और दृढ़ संकल्प और सामुदायिक समर्थन के साथ, खेती सहित किसी भी क्षेत्र में सफलता प्राप्त की जा सकती है।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

एक बीघा से 48 लाख कमाओ इस खास फसल की खेती करके !