Join WhatsApp Channel

Join Telegram Group

Budget 2023: वित्त मंत्री ने किया किसान भाइयों के बड़ा ऐलान, देखे आपको क्या मिलेगा

Budget 2023: देश के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी 2023 को संसद में आम बजट पेश किया। बजट पेश करते हुए निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने कृषि से जुड़े कई चीजों के बारे मे बड़ा ऐलान किया है। निर्मला सीतारमण ने कहा कि कृषि से जुड़े सभी स्टार्टअप को प्राथमिकता दी जाएगी। इस क्षेत्र में आने वाले नए-नए उद्यमियों को एग्रीकल्चर एक्सीडेंटल फंड (Agriculture Accidental Fund) भी बनाया जाएगा। आइए जानते हैं वित्त मंत्री ने किसानो के लिए और क्या क्या ऐलान किया है। जो कि किसान भाइयों के लिए बहुत ही लाभकारी साबित होने वाला है।

1 फरवरी को संसद में आम बजट पेश किया। देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने इसे पेश किया। भारत दुनिया की उभरती हुई अर्थव्यवस्था के रुप मे देखा जा रहा है। भारत को सही दिशा से आर्थिक व्यवस्था सुधारने और सुनहरे भविष्य की ओर अग्रसर होते हुए देखा जा रहा है। निर्मला सीतारमण बजट (Budget 2023) पेश करते हुए कृषि क्षेत्र से जुड़े कई ऐलान किये।

पशुपालन, डेयरी, मत्स्य पालन के लिए ऋण बड़ा

निर्मला सीतारमण ने कहा कि कृषि से जुड़े सभी स्टार्टअप को प्राथमिकता दी जाएगी। उन सभी स्टार्टअप को प्रोत्साहित करने के लिए कृषि त्वरक कोष की भी स्थापना किया जाएगा। जिससे कृषि के क्षेत्र स्टार्टअप करने वालों को सपोर्ट दिया जा सके। वहीं उन्होंने यह भी कहा कि पशुपालन, डेयरी, मत्स्य पालन को भी ध्यान रखते हुए कृषि ऋण को बढ़ाकर अब 20 लाख करोड़ रुपए कर दिया गया है।

कृषि स्टार्टअप के लिए एग्रीकल्चर एक्सीडेंटल फंड

इन सभी के बीच उनका कहना था कि हमार लक्ष्य अधिक से अधिक कृषि से जुड़े हुए स्टार्टअप को ही बढ़ावा देना रहेगा। क्योंकि अगर देश में कृषि से जुड़े स्टार्टअप आगे आते हैं। तो किसानो को कई प्रकार से फायदा होगा। उनके लिए एग्रीकल्चर एक्सीडेंटल फंड भी बनाया जाएगा। जहां से वह ऋण प्राप्त कर सकते हैं और अपने बिजनेस को आगे बढ़ा सकते हैं। जिससे हमारे देश में नई रोजगार के साथ-साथ आर्थिक व्यवस्था भी मजबूत होगा और किसानों के जीवन में खुशहाली आएगा।

Read More:-

कृषि को डिजिटल करने पर जोर

वित्त मंत्री ने बजट पेश करते हुए कृषि को डिजिटल करने पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा कि मिलेट्स की पैदावार में इजाफा किया जाए तथा उन्होंने मिलेट्स को “श्री अन्य” नाम से संबोधित किया और उन्होंने कहा कि हम किसानों को प्रोत्साहित करेंगे कि वह डिजिटल एरा को एग्रीकल्चर से जुड़े और डिजिटल चीजों को समझने की कोशिश करें और उनका उपयोग करें।

साथ ही साथ उन्होंने कहा कि फसल मार्केटिंग इंटेलिजेंस और उद्योगों को भी डिजिटलाइजेशन पर काम करना चाहिए। इससे कई प्रकार की समस्याओं का समाधान होगा। वित्त मंत्री ने कहा कि हस्तशिल्प और अन्य वस्तुओं के निर्माण में लगे सीमांत श्रमिकों को लाभ पहुंचाने के लिए पीएम विकास योजना की भी घोषणा की है।

आपको बता दें कि वित्त मंत्री ने बागवानी की उपज के लिए 2200 करोड़ रुपए की राशि वितरित करने की बात कही है। उन्होंने यह भी बताया कि आने वाले 3 साल में एक करोड़ किसानों को प्राकृतिक खेती अपनाने के लिए भी सहायता दिया जाएगा। साथ ही साथ उन्होंने यह भी कहा कि 10000 से ज्यादा इनपुट संसाधन केंद्र भी बनाए जाएंगे।

आज के इस महत्वपूर्ण आर्टिकल को लेकर आप सभी का कोई भी सावल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स मेंं ज़रूर लिखें और आर्टिकल कैसा लगा ये भी ज़रूर बताएं। इस लेख सभी किसान भाइयों तक शेयर ज़रूर करें, धन्यवाद।

WhatsApp Group Join Now

Telegram Group Join Now

Leave a Comment

किसानों की चमकेगी तकदीर इस नई तकनीक को अपनाने से 1 बीघा से 5 लाख कमाई !